समर्थक

सोमवार, 28 सितंबर 2009

!!विजयपर्व मंगलमय हो!!



''सर जटा मुकुट प्रसून बिच बिच अति मनोहर राजहीं |
जनु नीलगिरि पर तड़ित पटल समेत उडुगन भ्राजहीं ||
भुजदंड सर कोदंड फेरत रुधिर कण तन अति बने |
जनु रायमुनीं तमाल पर बैठीं बिपुल सुख आपने ||''
[रामचरितमानस,लंकाकांड]
~~~ विजया दशमी पर्व पर
~~~~~~ सपरिवार शुभकामना
~~~~~~~~~ स्वीकार करें !!!!!!!!!!
>ऋषभ
rishabha.wordpress.com
http://rishabhuvach.blogspot.com
rishabha.wikispaces.com
http://hindibharat.blogspot.com
360.yahoo.com/rishabhadeosharma
360.yahoo.com/ramayansandarshan
http://rishabhadeosharma.spaces.live.com

एक टिप्पणी भेजें