समर्थक

गुरुवार, 22 अगस्त 2013

सलिल की तिश्नगी


'तिश्नगी...' युवा कवि आशीष नैथानी 'सलिल' की कविताओं की पहली किताब है । तिश्नगी और सलिल अर्थात प्यास और पानी का विरोधाभास सहज ही ध्यान खींचता है । पर ठीक ही है, पानी दूसरों की प्यास बुझाता है - उसकी अपनी प्यास कभी कहीं बुझती है कि नहीं, कौन जाने! खैर... 

आशीष की ये कविताएँ उस तृषा को शब्दबद्ध करती हैं जिसके कारण हर संवेदनशील प्राणी निरंतर भटक रहा है । पानी पर सदा से यक्षों के पहरे हैं और किसी पांडव तक को अपने युग के प्रश्नों केउत्तर दिए बिना पानी नहीं मिलता। विचित्र विडंबना है, पानी भी है अनंत और प्यास भी है अनंत। भोग चुक जाते हैं, लोग चुक जाते हैं, काल चुक जाता है, देश चुक जाते हैं, तप चुक जाता है, तेज चुक जाते हैं। कई बार तो जल भी चुक जाता है पर यह निगोड़ी प्यास चुके नहीं चुकती - तृष्णा न जीर्णा वयमेवजीर्णाः। 

तृषा रूप में समस्त जगत में व्यापने वाली बेचैनी आशीष के कवि की मूलभूत बेचैनी है । मनुष्यऔर मनुष्य के बीच लगातार खाई बढ़ती जा रही है और आपसी रिश्ते-नाते छीजते जा रहे हैं । ऐसे मेंयह युवा कवि संबंधों की मिठास, प्रेमपूर्ण विश्वास और अपनेपन की प्यास को कविता का कलेवर प्रदान करने की सहज चेष्टा में संलग्न दिखाई देता है । संवेदनशीलता, परस्पर सहानुभूति औरसुख-दुःख के रिश्ते फिर से हरे भरे हो जाएँ, इसके लिए वर्षा की कामना कवि की प्यास का एक पहलू है। किशोरावस्था का आकर्षण, अल्हड़ रूप की आराधना, दर्शन की आकांक्षा, मिलन की प्रतीक्षा, संयोग का उन्माद, वियोग का अवसाद, उपालंभ और शिकायतें, जागते-सोते देखे गए सपने और छोटी छोटी घटनाओं के स्मृति कोश में अंकित अक्स आशीष की तिश्नगी का दूसरा पहलू है । देस-दुनिया में सामाजिक न्याय की कमी, मानवाधिकारों का हनन, और तो और बच्चों का शोषण, सांप्रदायिकता,आतंकवाद, धर्मोन्माद और युद्ध से उत्पन्न होने वाली असुरक्षा तथा लोकतंत्र की हत्या करती हुईतानाशाही से पैदा होने वाली चिंता युवा कवि सलिल की अबूझ पिपासा का तीसरा आयाम है। इसके अतिरिक्त मनुष्य और प्रकृति के अंतर्बाह्य सौंदर्य के दर्शन से जुड़ा है इस कवि की शाश्वत तृषा का चौथा आयाम। 

इस तरह तरह की प्यास को आशीष नैथानी 'सलिल' ने अपनी तरह से अभिव्यक्त किया है । भाषा के मामले में वे तनिक भी कट्टर नहीं हैं । बहती हुई भाषा उन्हें पसंद है जिसमें स्वाभाविक रूपसे तत्सम और उर्दू शब्दावली एक साथ चली आती है । शैली के मामले में भी आशीष काफी लोकतांत्रिक हैं। कहीं लोकगीतों का पुट है तो कहीं शेरोशायरी का अंदाज । पर प्यास अपनी जगह है ।यह प्यास अंधेरे में प्रकाश के स्वप्न दिखाती है - "अंधेरी रात में / रोशन सुबह का ख्वाब अच्छा है /बच्चे के चेहरे पे हँसी है, / शहर में / कुछ तो जनाब अच्छा है।" 

...... तो जनाब, सलिल की यह तिश्नगी सबकी तिश्नगी बने और सब अपने अपने सलिल को पा सकें; इसी कामना के साथ मैं इस कविता संग्रह का अभिनंदन करता हूँ ।

  16 मार्च 2013   

शुक्रवार, 16 अगस्त 2013

[VIDEO] WHO IS RISHABHA? ऋषभ का परिचय लक्ष्मी नारायण अग्रवाल के शब्दों में

11 अगस्त 2013 को तेलुगु विश्वविद्यालय, हैदराबाद के सभागार में संपन्न समारोह में 'कमला गोइन्का फाउंडेशन' द्वारा मुझे 'भाभीश्री रमा देवी हिंदी साहित्य सम्मान' दिए जाने और मेरी पंचम काव्य-कृति 'प्रेम बना रहे' के प्रथम तेलुगु अनुवाद 'प्रेमा इला सागिपोनि' [अनुवादक : जी. परमेश्वर] के विमोचन के अवसर पर मित्रवर लक्ष्मी नारायण अग्रवाल ने अपने विरले लेकिन सहज  अंदाज़ में मेरा परिचय दिया. उस परिचय-वक्तव्य का बिटिया लिपि ने वीडियो बना लिया था जिसे आज डॉ. जी. नीरजा ने यू-ट्यूब पर भी सहेज दिया. तीनों के प्रति कृतज्ञता प्रकट करते हुए उस वीडियो को यहाँ आप सबके साथ बाँट रहा हूँ.

रविवार, 11 अगस्त 2013

आत्मवृत्त BIODATA


                                                                            

डॉ. ऋषभदेव शर्मा
पूर्व प्रोफेसर एवं अध्यक्ष, उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, खैरताबाद,
हैदराबाद – 500004, फोन : 08121435033. 08074742572, 040-42102132.
स्थायी पता : 208-ए, सिद्धार्थ अपार्टमेंट्स, गणेश नगर, रामंतापुर, हैदराबाद – 500013.
------------------------------------------------------------------------------------------------


जन्म                 :          4.7.1957, गंगधाड़ी (खतौली), जनपद : मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश
शिक्षा               :           पीएच.डी. (हिंदी), शोध विषय  “’उन्नीस सौ सत्तर के पश्चात की हिंदी कविता का अनुशीलन (राष्ट्रीय, सामाजिक और राजनैतिक संदर्भ में विशेष)”’ – 1988 : मणिपुर विश्वविद्यालय:
                                  एम,ए. (हिंदी)-1983 : मेरठ विश्वविद्यालय.  
कार्य              :              1983-1990 : जम्मू और कश्मीर राज्य में गुप्तचर अधिकारी (इंटेलीजेंस ब्यूरो, भारत सरकार).
1990-1997 : प्राध्यापक, उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी  प्रचार सभा, मद्रास केंद्र.
1997-2005 : रीडर, उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार  सभा, हैदराबाद केंद्र.
2005-2006 : प्रोफेसर एवं अध्यक्ष, उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण  भारत हिंदी प्रचार सभा, एरणाकुलम केंद्र.
2006-2015 : प्रोफेसर एवं अध्यक्ष, उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद केंद्र. (4 जुलाई 2015 से कार्यमुक्त).
विशेष           :           कवि, समीक्षक और हिंदी-सेवी विद्वान के रूप में प्रतिष्ठित.
1980 में तेवरी काव्यांदोलन (आक्रोश की कविता) का प्रवर्तन.

स्नातकोत्तर स्तर पर हिंदी अध्यापन का 25 वर्ष का सुदीर्घ अनुभव.  
डीलिट, पीएचडी और एमफिल के 142  शोध-प्रबंधों का सफल शोध-निर्देशन.
शताधिक शोधपरक समीक्षाएँ एवं शोधपत्र प्रकाशित.
शताधिक पुस्तकों के लिए भूमिका-लेखन.
अनेक राष्ट्रीय संगोष्ठियों में संयोजक, अध्यक्ष, मुख्य अतिथि, विषय प्रवर्तक, संसाधक (विशेषज्ञ) के रूप में नियमित भागीदारी.

अतिथि  व्याख्यानमाला  : राजीव गांधी विश्वविद्यालय, रोनो हिल्स, अरुणाचल प्रदेश.
अतिथि व्याख्यानमाला  : भाषा विद्यापीठ, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय,   वर्धा, महाराष्ट्र
सृजनात्मक लेखन कार्यशाला ‘कल्पतरु’ का गठन एवं संयोजन : चिरेक इंटरनेशनल, कोंडापुर, हैदराबाद में पाँच दिवसीय कार्यक्रम : दिसंबर 2016 – जनवरी 2017
संरक्षक : परिलेख हिंदी साधक सम्मान, नजीबाबाद.
2014 से ‘अखिल भारतीय साहित्य मंथन सृजन पुरस्कार’ (रु. 11,000) का प्रवर्तन.

सम्मान/ पुरस्कार  :
1.       रूसी-भारतीय मैत्री संघ – दिशा (मास्को), हिंदी संस्थान – कुरुनेगल (श्रीलंका), साहित्यिक-सांस्कृतिक शोध संस्था (मुंबई) और सामाजिक संस्था – पहल (दिल्ली)  द्वारा ‘अंतरराष्ट्रीय साहित्य गौरव सम्मान’ (2017)      
2.      राजमहेंद्रवरम (आंध्र प्रदेश) में षष्ठिपूर्ति समारोह (29 जनवरी, 2017)
3.      काव्य क्षेत्र में योगदान के संदर्भ में प्रकाशित समीक्षा ग्रंथ : ‘ऋषभदेव शर्मा का कविकर्म’, डॉ. विजेंद्र प्रताप सिंह, 2015, परिलेख प्रकाशन, नजीबाबाद, ISBN – 978-93-84068-22-6. 
4.      वेमूरि आंजनेय शर्मा स्मारक ट्रस्ट, हैदराबाद द्वारा ‘हिंदी साहित्य सम्मान’ (2015)
5.      तमिलनाडु हिंदी साहित्य अकादमी, चेन्नई द्वारा जीवनोपलब्धि सम्मान’ (2015)
6.      प्रतिभा प्रकाशन, हैदराबाद द्वारा ‘सुगुणा स्मारक सम्मान’ (2015)
7.      कमला गोइन्का फाउण्डेशन, बैंगलोर द्वारा रमादेवी गोइन्का हिंदी साहित्य सम्मान’ (2013)
8.      जनजागृति सेवा सद्भावना पुरस्कार, हैदराबाद (2011)
9.      आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमी द्वारा हिंदी लेखक पुरस्कार’ (2010)
10.   शिक्षा शिरोमणि पुरस्कार, हैदराबाद (2006)
11.    रामेश्वर शुक्ल अंचल सम्मान, जबलपुर (2003).
प्रकाशित मौलिक पुस्तकें : 18
प्रकाशन : आलोचना ग्रंथ :
1.       तेवरी चर्चा (1987), तेवरी प्रकाशन, खतौली, 98 पृष्ठ
2.      हिंदी कविता : आठवाँ नवाँ दशक (1994), तेवरी प्रकाशन, खतौली, 196 पृष्ठ
3.      साहित्येतर हिंदी अनुवाद विमर्श (2000), उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद, 64 पृष्ठ
4.      कविता का समकाल (2011), लेखनी प्रकाशन, नई दिल्ली, 140 पृष्ठ, ISBN – 978-81-920827-4-5
5.      तेलुगु साहित्य का हिंदी पाठ (2013), जगत भारती प्रकाशन, इलाहाबाद, 204 पृष्ठ, ISBN978-93-5104-235-8
6.      तेलुगु साहित्य का हिंदी अनुवाद : परंपरा और प्रदेय (2015), परिलेख प्रकाशन, नजीबाबाद, 64 पृष्ठ, ISBN – 978-93-84068-11-0
7.      हिंदी भाषा के बढ़ते कदम (2015), तेज प्रकाशन नई दिल्ली, 296 पृष्ठ, ISBN – 978-81-89531-23-2
8.      कविता के पक्ष में (2016), तक्षशिला प्रकाशन, नई दिल्ली, 300 पृष्ठ, ISBN – 978-81-7965-259-6
9.      कथाकारों की दुनिया (2016) ), तक्षशिला प्रकाशन, नई दिल्ली, 392 पृष्ठ, ISBN – 978-81-7965-278-7       

प्रकाशन : काव्य संग्रह : 7
10.   तेवरी (1982), तेवरी प्रकाशन, खतौली, नजीबाबाद, 112 पृष्ठ
11.    तरकश (1996), तेवरी प्रकाशन, खतौली, नजीबाबाद, 72 पृष्ठ
12.   ताकि सनद रहे (2002), तेवरी प्रकाशन, हैदराबाद, 142 पृष्ठ  
13.   देहरी (स्त्रीपक्षीय कविताएँ, 2011), लेखनी प्रकाशन, नई दिल्ली, 94 पृष्ठ, ISBN – 978-81-920827-5-2
14.   प्रेम बना रहे (2012), अकादमिक प्रतिभा, नई दिल्ली, 120 पृष्ठ, ISBN – 978-93-80042-59-6
15.   सूँ साँ माणस गंध (2013), श्रीसाहिती प्रकाशन, हैदराबाद, 144 पृष्ठ, ISBN – 978-93-5104-234-1
16.   धूप ने कविता लिखी है (2014), श्रीसाहिती प्रकाशन, हैदराबाद, 168 पृष्ठ, ISBN – 978-93-5174-509-9
प्रकाशन : तेलुगु में अनूदित काव्य संग्रह : 2
17.    प्रेमा इला सागिपोनी (प्रेम बना रहेका तेलुगु काव्यानुवाद : 2013 : अनुवादक जी.परमेश्वर),श्रीसाहिती प्रकाशन, हैदराबाद
18.   प्रिये चारुशीले (प्रेम बना रहेका तेलुगु काव्यानुवाद : 2013 : अनुवादक भागवतुल हेमलता), चिनुकु प्रकाशन, हैदराबाद
प्रकाशन : संपादित पुस्तकें : 24
1.       शोध एवं विमर्श (2017), अनन्य प्रकाशन, नई दिल्ली, 250 पृष्ठ, ISBN – 978.........
2.      ‘अंधेरे में’ : पुनर्पाठ (2017), परिलेख प्रकाशन, नजीबाबाद, ISBN – 978-93-84068-20-2   
3.      निरभै होइ निसंक कहि के प्रतीक (2016), परिलेख प्रकाशन, नजीबाबाद, 448 पृष्ठ, ISBN - 978-93-84068-31-8
4.      अन्वेषी (2016), परिलेख प्रकाशन, नजीबाबाद,240 पृष्ठ, ISBN - 978-93-84068-36-3
5.      वृद्धावस्था विमर्श (2016), परिलेख प्रकाशन, नजीबाबाद, 96 पृष्ठ, ISBN – 978-93-84068-20-5
6.      संकल्पना (2016), परिलेख प्रकाशन, नजीबाबाद, 256 पृष्ठ, ISBN – 978-93-84068-21-9
7.      उत्तरआधुनिकता : साहित्य और मीडिया (2015), जगत भारती प्रकाशन, इलाहाबाद, 136 पृष्ठ,  ISBN – 978-93-5174-509-9
8.      मेरी आवाज (2014, तेलुगु कवि कालोजी की 100 कविताएँ), आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद, 218 पृष्ठ, (अनुवाद संपादन)
9.      भाषा की भीतरी परतें (2012), वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली, 464 पृष्ठ, ISBN – 978-93-5072-244-2
10.   अनुवाद का सामयिक परिप्रेक्ष्य (2009), उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, मद्रास, 512 पृष्ठ 
11.    प्रेमचंद की भाषाई चेतना (2006), उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, मद्रास
12.   हिंदी कृषक (2005, काजाजी अभिनंदन ग्रंथ), दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद. 230 पृष्ठ
13.   स्त्री सशक्तीकरण के विविध आयाम (2004), गीता प्रकाशन, हैदराबाद, 432 पृष्ठ
14.   पुष्पक-4 (2004), कादंबिनी क्लब, हैदराबाद, 176 पृष्ठ  
15.   पुष्पक-3 (2003), कादम्बिनी क्लब, हैदराबाद, 164 पृष्ठ    
16.   अनुवाद : नई पीठिका, नए संदर्भ (2003), उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, मद्रास, 234 पृष्ठ
17.   अभिनंदन : जनकवि दुलीचंद ‘शशि’ (2002), गीत चाँदनी, हैदराबाद, 60 पृष्ठ 
18.   हैं सरहदें बुला रही (2000, कारगिल युद्ध के दौरान लिखी गई कविताएँ), गीत चांदनी, हैदराबाद,  60 पृष्ठ 
19.   भारतीय भाषा पत्रकारिता (2000), उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद, 210 पृष्ठ
20.  अनुवाद का सामयिक परिप्रेक्ष्य : स्मारिका (1999), उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद, 110 पृष्ठ 
21.   माता कुसुमकुमारी हिंदीतरभाषी हिंदी साधक सम्मान : अतीत एवं संभावनाएँ (1996), अंतरराष्ट्रीय कला एवं संस्कृति परिषद, नजीबाबाद, 346 पृष्ठ    
22.  शिखर-शिखर (1994, डॉ.जवाहर सिंह अभिनंदन ग्रंथ), मणिपुर, 138 पृष्ठ  
23.  कच्ची मिट्टी – 2 (1994), अग्रवाल विद्यालय, चेन्नै, 122 पृष्ठ  
24.  पदचिह्न बोलते हैं (1982), समवेत कविता संकलन, पुखराज प्रकाशन, खतौली, 100 पृष्ठ

 प्रकाशन : संपादित/लिखित पुस्तकाकार पाठसामग्री : 18  
25.  शोध प्रविधि/ एम.फिल. 1/ PGRI, DBHPSabha
26.  आलोचना प्रविधि – सैद्धांतिक/ एम.फिल. 2/ PGRI, DBHPSabha
27.  आलोचना प्रविधि – व्यावहारिक / एम.फिल. 2/ PGRI, DBHPSabha
28.  प्रोक्ति संरचना/ EHD-07/IGNOU
29.  साहित्य और आलोचना/ BA3-H4/ BRAOU
30.  काव्यशास्त्र/ MMA2-H9/ BRAOU
31.   हिंदी साहित्य का इतिहास/ MA / PGRI, DBHPSabha
32.  प्राचीन एवं मध्यकालीन हिंदी काव्य / MA / PGRI, DBHPSabha
33.  भक्तिकालीन काव्य/ BA / DDE/ DBHPSabha
34.  आधुनिक काव्य/ MA / PGRI, DBHPSabha
35.  आधुनिक हिंदी कविता /BA / DDE/ DBHPSabha
36.  हिंदी काव्य/ BA 2-H1/ BRAOU
37.  अनुवाद-सिद्धांत और प्रयोग/ MA / PGRI, DBHPSabha
38.  अनुवाद- सिद्धांत पक्ष/ PGDT/ PGRI, DBHPSabha
39.  अनुवाद की सीमाएँ और समस्याएँ / PGDT/ PGRI, DBHPSabha
40.  अनुवाद – व्यावहारिक पक्ष / PGDT/ PGRI, DBHPSabha
41.   शैली तत्व : सिद्धांत एवं व्यवहार/ PGRI, DBHPSabha (मुद्रणस्थ)
42.  हिंदी की सामाजिक भूमिका / PGRI, DBHPSabha (मुद्रणस्थ)

 ई-पीजी पाठशाला के लिए ई-पाठ लेखन एवं रिकॉर्डिंग  : : लोक साहित्य (एमए –हिंदी) :
 मानव संसाधन विकास मंत्रालय की प्रायोजना
1.       आधुनिक संदर्भों में लोक साहित्य और  लोक संस्कृति
2.      स्वाधीनता आंदोलन और लोक साहित्य
3.      स्वातंत्र्योत्तर भारतीय जीवन और लोक साहित्य
4.      लोकगीतों में अभिव्यक्त स्त्री की आकांक्षाएं और वेदना
5.      हिंदी नवजागरण, सामाजिक परिवर्तन की भूमिका और लोक साहित्य
6.      लोक साहित्य की अवधारणा
7.      बुंदेली कहावतों में कथा प्रसंग
8.      लोक अध्ययन का परिक्षेत्र
9.      लोकजीवन के प्रहरी ईसुरी और उनका फाग-काव्य

संपादित पत्रिकाएँ – 8
1.       भास्वर भारत (मासिक) : संयुक्त संपादक  (अक्टूबर 2012 से)
2.      रामायण संदर्शन (अनियतकालीन) : संपादक
3.      बहुब्रीहि (अर्धवार्षिक) : एक वर्ष : उप संपादक
4.      संकल्य (त्रैमासिक) हैदराबाद : दो वर्ष : सदस्य, संपादक मंडल
5.      पूर्णकुंभ (मासिक) : पाँच वर्ष : सहायक संपादक
6.      महिप (त्रैमासिक) : सहयोगी संपादक
7.      आदर्श कौमुदी (तमिल कहानी विशेषांक) : अतिथि संपादक   
8.      कर्णवती (समकालीन तमिल साहित्य विशेषांक) : सहयोगी संपादक
  
अकादमिक संस्थाओं से संबद्धता : पाठ्यक्रम निर्माण, पाठ सामग्री लेखन एवं संपादन
1.       भारतीय भाषा संस्थान (सीआईआईएल), मैसूर
2.      इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
3.      डॉ. बीआर आंबेडकर सार्वत्रिक विश्वविद्यालय, हैदराबाद
4.      राष्ट्रीय शैक्षिक प्रशिक्षण अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली  
5.      केंद्रीय विश्वविद्यालय, हैदराबाद
6.      भारतीय स्टेट बैंक अधिकारी संगठन संस्थान, चेन्नई
7.      महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा
8.      दूरस्थ शिक्षा निदेशालय, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा-मद्रास, चेन्नई
9.      मौलाना आज़ाद नेशनल उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद
10.   नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग, नई दिल्ली
11.    वर्धमान महावीर मुक्त विश्वविद्यालय, कोटा

शोध निर्देशन : 142
डीलिट   – 2,
पीएचडी – 34,   
एमफिल – 106.

शोध निर्देशन : डी.लिट. : 2 [संपन्न]
  1. आदिवासी जीवन : भारतीय समाज और हिंदी साहित्य (डॉ. इस्पाक अली)                            - 2013
  2. हिंदी-मलयालम उपन्यासों का तुलनात्मक अध्ययन (डॉ. पी. राधिका)                                   - 2014

शोध निर्देशन : पीएच.डी. : 31 [संपन्न] + 3 [कार्यरत]
  1. रेणु के ‘मैला आंचल’ और ‘परती : परिकथा’ का भाषिक विश्लेषण (डॉ. प्रवीणा राज)            - 1996
  2. डॉ.रामदरश मिश्र के उपन्यासों में सांस्कृतिक और मिथकीय संदर्भ (डॉ. के. रजनी)               - 1997
  3. डॉ.शिवप्रसाद सिंह की कहानियों में ग्राम जीवन और परिवेश (डॉ. सुनीता उनियाल)             - 2000
  4. स्त्री भाषा का सामाजिक संदर्भ और हिंदी उपन्यास (डॉ. मनीषा गोपीचंद)                            - 2002
  5. गांधी दर्शन के आलोक में हिंदी कविता का अनुशीलन (डॉ. शशिबाला)                                 - 2002
  6. डॉ.विद्यानिवास मिश्र के ललित निबंध : संस्कृति और प्रकृति का अंतःसंबंध (डॉ. रेखा)            - 2002
  7. चित्रा मुद्गल के उपन्यास ‘आवाँ’ का भाषिक अध्ययन (डॉ. ज्योति)                                        - 2002
  8. आचार्य रामचंद्र शुक्ल के निबंध साहित्य का अध्ययन : वस्तु और विन्यास का संदर्भ
(डी. अनुपमा)    - 2004
  1. मैत्रेयी पुष्पा की कहानियाँ : वस्तु और शिल्प (डॉ. सुपर्णा)                                                    - 2005
  2. गोविंद मिश्र के उपन्यासों में सामाजिक यथार्थ (डॉ. विनीता सिन्हा)                                       - 2005
  3. जातीयता की संकल्पना और आधुनिक हिंदी कविता (डॉ. कविता वाचक्नवी)                         - 2005
  4. सर्वेश्वरदयाल सक्सेना के काव्य में लोकतत्व (बी. बालाजी)                                                   - 2007
  5. पं.बालकृष्ण भट्ट के निबंधों का अनुशीलन : सामाजिक-राजनैतिक चेतना का विशेष संदर्भ
(डॉ. पद्मावती)    - 2008
  1. डॉ.शिवप्रसाद सिंह के उपन्यासों में आंचलिकता (डॉ. सुनीता)                                              - 2008
  2. कृष्णा सोबती के उपन्यास : कथा भाषा का सामाजिक संदर्भ (डॉ. अनुराधा जैन)                    - 2009
  3. हजारी प्रसाद द्विवेदी के साहित्य में संस्कृति संदर्भ (विजयलक्ष्मी)                                          - 2009
  4. मेहरुन्निसा परवेज की कहानियों में सामाजिक यथार्थ (डॉ. अनुपमा तिवारी)                         - 2010
  5. रवींद्र कालिया की कहानियों में सामाजिक यथार्थ                                                               - 2010
  6. डॉ.राहीमासूमरज़ा के उपन्यासों में अल्पसंख्यक(मुस्लिम) समुदाय : स्वरूप और वैशिष्ट्य
(डॉ. गिरिजा रानी खन्ना)             - 2011
  1. हिंदी कहानी साहित्य में वृद्धावस्था का चित्रण (डॉ. शिवकुमार राजौरिया)                              - 2012
  2. नई सदी के हिंदी उपन्यासों में स्त्री विमर्श (डॉ. अर्पणा दीप्ति)                                              - 2012
  3. हिंदी भाषाशिक्षण में संप्रेषण और कौशलों का व्यावहारिक विवेचन (डॉ.ए.जी.श्रीराम)            - 2012
  4. परमाणु ऊर्जा विभाग की वैज्ञानिकप्रयुक्ति का विश्लेषणात्मक अध्ययन (डॉ. मासूम रज़ा)                                                                                                                                                       - 2012
  5. हिमांशु जोशी के कथा साहित्य में सामाजिक चेतना (डॉ. राजाराव)                                       - 2012
  6. हिंदी-तेलुगु दलित आत्मकथाओं का तुलनात्मक अध्ययन  (डॉ. दुर्गा नरसिंग राव)                  - 2012
  7. ललित निबंधों में संस्कृति चिंतन (डॉ. एस. निर्मल सुमिरिता)                                                - 2014
  8. अनामिका के साहित्य में स्त्री विमर्श (डॉ. सुरैया परवीन)                                                      - 2014
  9. डॉ. शिवप्रसाद सिंह की कहानियों में स्त्रीविमर्श (सुस्मिता घोष)                                           - 2015
  10. संजीव के उपन्यास साहित्य में स्मृति (सुभाष कुमार शर्मा)                                                  -2015
  11. अशोक वाजपेयी के काव्य में प्रेम और सौंदर्य (तुलसी)                                                       - 2016
  12. कात्यायनी के साहित्य में स्त्रीविमर्श (जयलक्ष्मी)                                                                  - 2016
  13. चित्रा मुद्गल की कहानियों में यथार्थ और कथा भाषा (संगीता) (कार्यरत)                                                    
  14. हिंदी कहानी साहित्य में शिक्षा जगत का यथार्थ (प्रभा कुमारी) (कार्यरत)                                         
  15. दलित आत्मकथाओं में सामाजिक यथार्थ (टी. सुभाषिणी)    (कार्यरत)                                                                                                       
शोध निर्देशन : एम.फिल. : 106  [संपन्न]  
  1. दुष्यंत कुमार की गजलों का समीक्षात्मक अध्ययन (जेगी ग्रेस थोमस)                                    - 1991
  2. डॉ.किशोर काबरा कृत ‘नरो वा कुंजरो वा’ में परंपरा और आधुनिकता बोध (के. वैजयंती)      - 1991
  3. श्रीलाल शुक्ल के उपन्यास ‘पहला पड़ाव’ में सामाजिक यथार्थ (वेंकटरमण मूर्ति)                   - 1991
  4. चिरंजीत के नाटक ‘रतजगा’ में राष्ट्रीय चेतना (पी. राजरत्नम)                                               - 1992
  5. निराला की कहानियों में आदर्श और यथार्थ (एस. मुरली)                                                    - 1992
  6. निराला के उपन्यासों में कथाशिल्प                                                                                    - 1992
  7. भैरव प्रसाद गुप्त के उपन्यास ‘अपना अपना भाग्य’ में अभिव्यंजित सामाजिक चेतना             - 1993
  8. धर्मेंद्र गुप्त के उपन्यासों में मध्यवर्गीय चेतना (ई. रमेश)                                                      - 1993
  9. विष्णु प्रभाकर के उपन्यास ‘अर्द्धनारीश्वर’ में चरित्र शिल्प (अरुणा)                                       - 1994
  10. शिवप्रसाद के उपन्यास ‘औरत’ में ग्राम चित्रण (पी. एम.आर. जयंती)                                  - 1994
  11. देवराज के कविता संग्रह ‘चिनार’ में समकालीनताबोध (एस. एम. नूर अहमद)                      - 1995
  12. महेंद्र कार्तिकेय के काव्य ‘प्रभु या परात्पर’ में जीवनमूल्य (ना. कण्णन)                                - 1995
  13. प्रेमचंद की कहानियों का शिल्प-शैलीपरक अध्ययन (सुनीता)                                              - 1996
  14. ‘कसप’ में कुमाऊँनी जीवन और भाषा : विवेचनात्मक अध्ययन (उमा शरण सिंह)                  - 1997
  15. हिंदी की राष्ट्रीय काव्यधारा : एक अध्ययन (एस. रविचंद्र राव)                                              - 1997 
  16. नई कविता में यथार्थ : श्रीकांत वर्मा, लीलाधर जगूड़ी और अशोक वाजपेयी के संदर्भ में         
(दुर्गादेवी कामेगावकर)               - 1997
  1. ‘क्रमशः’ (कमल कुमार) की कहानियाँ : प्रकार्यात्मक पाठ विश्लेषण (मनीषा गोपीचंद)           - 1998
  2. आबिद सुरती के उपन्यास ‘टूटे हुए फ़रिश्ते’ में कोडमिश्रण एवं कोडपरिवर्तन            
                                                            (सुधा गुप्ता)                                           - 1998
  1. कमलेश्वर की कहानियों में आम आदमी की संकल्पना (मिथिलेश सागर)                               - 1999
  2. प्रेमचंद, रेणु और शिवप्रसाद सिंह की कहानियों में ग्रामीण यथार्थ(मंजुला जायसवाल)            - 1999
  3. सुभद्राकुमारी चौहान के काव्य में समाज (शशिबाला)                                                         - 1999
  4. कागजी है पैरहन : एक अनुशीलन (एस. ललिता कुमारी)                                                     - 2000
  5. इस्मत चुगताई की आत्मकथा : एक अध्ययन                                                                     - 2000
  6. वीरेंद्र जैन के उपन्यास ‘पंचनामा’ का भाषिक विश्लेषण (एसुरी धनलक्ष्मी)                             - 2000
  7. ‘मित्र संवाद’ : एक अनुशीलन (नीता कुमारी)                                                                     - 2000
  8. अन्य भाषा शिक्षण की विधियाँ (हिंदी के विशेष संदर्भ में) (मंजु शर्मा)                                    - 2000
  9. हिंदी आत्मकथा : दलित परिप्रेक्ष्य (रेखा)                                                                           - 2000
  10. ‘कलिकथा : वाया बाइपास’ : समीक्षात्मक अध्ययन (वी. श्रीलता)                                          - 2000
  11. संत साहित्य की पृष्ठभूमि : तुलनात्मक अध्ययन (एसुरी ज्योति)                                             - 2001
  12. शानी की कहानियों में बिंब, प्रतीक और अप्रस्तुत योजना (नीलम सिंह)                                 - 2001
  13. मंजुल भगत की चर्चित कहानियाँ : आधुनिकता बोध (नंदा सुर्वे)                                           - 2002
  14. ‘कविता से लंबी कविता’ (विनोद कुमार शुक्ल) में बिंब विधान (बी. बालाजी)                          - 2002
  15. अब्दुल बिस्मिल्लाह के उपन्यास ‘मुखड़ा क्या देखे’ में सामाजिक यथार्थ
 (गिरिजा रानी खन्ना)                   - 2002
  1. मिथिलेश्वर की कहानियों में ग्राम चित्रण (आधार ग्रंथ : जमुनी) (शीला)                                   - 2002
  2. निर्मल वर्मा की कहानियाँ : शिल्प एवं शैलीपरक विवेचन (श्रीगिरी नरसिंग राव)                      - 2003
  3. प्रदीप पंत की कहानियों में व्यंग्य (उमा)                                                                            - 2003
  4. महेश दर्पण की इक्कीस कहानियाँ : समीक्षात्मक अध्ययन (शिरीषा)                                                - 2003
  5. ‘काला जल’ : सामाजिक यथार्थ और कथा भाषा (हबीब शेख)                                              - 2003
  6. रामअवध शास्त्री के ललित निबंधों का समीक्षात्मक अध्ययन (सुनीलदत्त शर्मा)                       - 2003
  7. मैत्रेयी पुष्पा के उपन्यास ‘झूला नट’ : समाज और भाषा (पी. गोपाल कुमार)                         - 2004
  8. लीलाधर जगूड़ी के काव्य संकलन ‘भय भी शक्ति देता है’ में चित्रित यथार्थ
(के. राधामणि)               - 2004
  1. जया जादवानी के उपन्यास ‘तत्वमसि’ में आधुनिकताबोध (वी. अन्नपूर्णा)                              - 2004
  2. ‘जंगल जहाँ शुरू होता है’ : शिल्पविधि और आंचलिकता का प्रतिफलन (नीलकंठ बिरादर)    - 2004
  3. प्रमचंद की कहानियों में दलित समस्याओं का चित्रण
(कार्यमपूडी विश्वनाथम, मदुरै कामराज विश्वविद्यालय)                    - 2004
  1. प्रेमचंद की कहानियों में स्त्री विमर्श
(श्रीमती वेंकट आदिलक्ष्मी, मदुरै कामराज विश्वविद्यालय)                - 2004
  1. वैज्ञानिक पत्रकारिता का भाषिक वैशिष्ट्य (रीतू जाक्युलिन)                                                 - 2005
  2. रमाकांत के उपन्यास ‘जुलूसवाला आदमी’ में राजनैतिक चेतना                                           - 2005
  3. ‘रजनी दिन नित्य चला ही किया’ : काव्यवस्तु का विवेचन (इंदुमती शर्मा)                              - 2005

  1. मन्नू भंडारी की प्रतिनिधि कहानियाँ : स्त्री चित्रण
(नेमनी श्रीदेवी, मदुरै कामराज विश्वविद्यालय)         - 2005
  1. भैरव प्रसाद गुप्त के उपन्यास ‘छोटी सी शुरूआत’ का मार्क्सवादी विश्लेषण
(लिजो आंटनी)   - 2006
  1. अमरकांत के उपन्यास ‘आकाशपक्षी’ में परंपरा और आधुनिकता का द्वंद्व                            - 2006
  2. असगर वजाहत के उपन्यास ‘कैसी आगी लगाई’ में सामाजिक यथार्थ (सरिता पी.एस)           - 2006
  3. रांगेय राघव के उपन्यास ‘देवकी का बेटा’ में मिथक और आधुनिकता (आशा कुमारी)            - 2006
  4. अज्ञेय का उपन्यास ‘नदी के द्वीप’ :  कथा भाषा का सामाजिक यथार्थ (सतीश एस.)                - 2006
  5. हिंदी दलित कहानी : कथ्य और भाषा (स्मिता अरविंद बापट)                                              - 2006
  6. मैत्रेयी पुष्पा कृत ‘चिह्नार’ में चित्रित सामाजिक समस्याएँ (षाहिना डी)                                   - 2006
  7. महादेवी वर्मा के निबंध संग्रह ‘शृंखला की कड़ियाँ’ में स्त्री (टी. विजयलक्ष्मी)                           - 2006
  8. नीतिकाव्य की दृष्टि से ‘भारत-भारती’ का अनुशीलन (एम. ओम प्रकाश राज)                        - 2006
  9. विवेकी राय कृत ‘चली फगुनाहट बौरे आम’ में आंचलिकता (अनुपमा तिवारी)                      - 2007
  10. सहयोगी उपन्यास : एक मूल्यांकन (मीता)                                                                         - 2007
  11. महीप सिंह की ‘चर्चित कहानियाँ’ : आधुनिकताबोध (पी. वेंकटरमण)                                   - 2007
  12. ‘सागर, लहरें और मनुष्य’ तथा ‘वरुण के बेटे’ में आंचलिकता (अनुराधा)                              - 2007
  13. निर्मल वर्मा के निबंधों में संस्कृति (एस. निर्मल सुमिरता)                                                      - 2007
  14. दूधनाथ सिंह के उपन्यास ‘आख़िरी कलाम’ में समाज (प्रबुद्ध वाल्के)                                                - 2007
  15. राकेश वत्स कृत ‘मेरी खास कहानियाँ’ : सामाजिक यथार्थ (बी. शरत कुमार)                        - 2007
  16. हास्य-व्यंग्य का विधागत वैशिष्ट्य (शिवकुमार राजौरिया)                                                    - 2007
  17. अलका सरावगी के कहानी संग्रह ‘दूसरी कहानी’ में सामाजिक समस्याएँ
(चवाकुल विजयनिर्मला) - 2008
  1. आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी के निबंधों में लेखकीय व्यक्तित्व और वैचारिकता
(सुरेखा चव्हाण)                         - 2008
  1. महादेवी के संस्मरणों में ममता की अभिव्यक्ति (दीप्ति खन्ना)                                              - 2008
  2. निर्मल वर्मा के उपन्यास ‘अंतिम अरण्य’ : वृद्धावस्था विमर्श का संदर्भ
(बी. एल. शारदा)            - 2008
  1. मैत्रेयी पुष्पा कृत ‘चाक’ उपन्यास में नारी विमर्श (विजय कुमार)                                          - 2008
  2. गोदान में चित्रित नगरीय जीवन (अभिलाषा राठी)                                                               - 2008
  3. समसामयिक टीवी विज्ञापनों का प्रयुक्तिपरक वैशिष्ट्य (श्रद्धा तिवारी)                                  - 2008
  4. ज्ञानरंजन की कहानियों में सामाजिक यथार्थ (एम. वी. एस. राजाराव)                                    - 2008
  5. नरेश मेहता के कविता संग्रह ‘तुम मेरा मौन हो’ में सौंदर्य और प्रेम                                      - 2009
  6. दिनकर के गीत : राष्ट्रीय चेतना की अभिव्यक्ति (अनिता चौधरी)                                          - 2009
  7. भगवानदास मोरवाल के उपन्यास ‘रेत’ का लोकतात्विक अध्ययन (प्रतिभा कुमारी)                - 2010
  8. दलित विमर्श और ‘नाच्यौ बहुत गोपाल’ (सुशीला)                                                              - 2010
  9. उच्च शिक्षा और शोध संस्थान (हैदराबाद केंद्र) में संपन्न लोकतात्विक शोधकार्य
                                                                                                            (स्वाति सुलभ)    - 2010
  1. श्योराज सिंह बेचैन की आत्मकथा ‘मेरा बचपन मेरे कंधों पर’ में दलित चेतना
     (पी. झांसी बाई)         - 2010
  1. ‘हिंद स्वराज’ : सामाजिक-राजनैतिक संदर्भ (शाहीन )                                                        - 2010
  2. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन में राजभाषा कार्यान्वयन : उपलब्धि और संभावनाएँ (सुभाष शर्मा)                                                                                                                                      - 2010
  3. अजय नावरिया के उपन्यास ‘उधर के लोग’ में दलित विमर्श  (राजेश्री)                                 - 2010
  4. कात्यायनी की कविताओं में स्त्री विमर्श (पी. जयलक्ष्मी)                                                       - 2010
  5. अनामिका के कविता संग्रह ‘खुरदरी हथेलियाँ’ में स्त्री विमर्श (सुरैया परवीन)                         - 2010
  6. धर्मवीर भारती कृत ‘अंधा युग’ का सौंदर्यशास्त्रीय विश्लेषण (राजीव कुमार गौड)                  - 2011
  7. अशोक वाजपेयी के कविता संग्रह ‘दुख चिट्ठीरसा’ में बिंब विधान (तुलसी)                             - 2011
  8. डॉ. तुलसीराम की आत्मकथा ‘मुर्दहिया’ में दलित विमर्श (एस. राजेश्री)                                - 2011
  9. चंद्रकाता के उपन्यास ‘यहाँ वितस्ता बहती है’ का शैलीवैज्ञानिक अध्ययन (जी. संगीता)           - 2011
  10. निराला के निबंधों की वैचारिकता (आधारग्रंथ:‘निबंधों की दुनिया’:निराला) (राजीव कुमार)      - 2012
  11. ‘राग दरबारी’ में शिक्षा जगत का यथार्थ (प्रभा कुमारी)                                                        - 2012
  12. ‘स्त्री होकर सवाल करती हो...!’ में स्त्री विमर्श  (सुस्मिता घोष)                                             - 2013
  13. दलित कहानियों में चित्रित सामाजिक यथार्थ (टी. सुभाषिणी)                                               - 2013
  14. कुसुमखेमानी कृत ‘सच कहती कहानियाँ’ में कोडमिश्रण और कोडपरिवर्तन (नागेश दुबे)       - 2013
  15. डॉ.हीरालाल बाछोतिया का काव्य ‘विद्रोहिणी शबरी’:नए विमर्शों का संदर्भ (सुनील कुमार)     - 2013
  16. महुआ माजी के उपन्यास ‘मरंग गोडा नीलकंठ हुआ’ में आदिवासी विमर्श (रूपा)                 - 2013
  17. सर्वेश्वरदयाल सक्सेना के बाल साहित्य का समीक्षात्मक अध्ययन (सुनीता आचार)      - 2014
  18. राही मासूम रजा के उपन्यास ‘टोपी शुक्ला’ और ‘ओस की बूँद’ का समाजभाषिक अध्ययन   
(हरिचरण दास) – 2014
  1. गोपाल दास नीरज के प्रेमगीतों का सौंदर्यशास्त्रीय अध्ययन (रतन सिंह)                                - 2014
100.  ‘पद्मावत’ और ‘रामचरित मानस’ में पाकशाला की भाषिक प्रयुक्ति (शुभदा देशपांडे)          - 2014
101.कर्मेंदु शिशिर के कहानी संग्रह ‘लौटेगा नहीं जीवन’ में संघर्ष और जिजीविषा
                                                                                                (अनामिका उपाध्याय)     - 2014
102.  ’आओ पेपे घर चले’ और ‘अंतर्वंशी’ में अमरीकी परिवेश (गीता पोस्ते)                               - 2014
103.  कृष्णा अग्निहोत्री के उपन्यास ‘बात एक औरत की’ में स्त्री विमर्श (गौसिया सुल्ताना)             - 2015
104.  हिंदी कहानी में यथार्थ    (अंजूषा चौहान)                                                                          - 2015
105.  बालशौरि रेड्डी के साक्षात्कारों का विश्लेषणात्मक अध्ययन (यू. सुनीता)                                - 2015
106.  जोराम यालाम नाबाम की कहानियों में आदिवासी जीवन (अनु कुमारी)                               - 2015



प्रकाशित शोधपत्र / आलेख  : 2010 के पश्चात   
  1. भाषा देश की चेतनाधारा को विकसित करती है / संकल्प : राजभाषा विशेषांक / अंक 18 : 2016-17/ मिधानि, हैदराबाद/ पृष्ठ 25-29
  2. यह महान दृश्य है, चल रहा मनुष्य है : बच्चन/ हिंदी साहित्य : संवेदना के धरातल/ प्रधान संपादक: डॉ. अनिल सिंह/ 2017/ ISBN: 978-81-926634-0-1/ सीमा प्रकाशन, परभणी/  पृ. 64-68
  3. आंध्र और तेलंगाना में हिंदी पत्रकारिता की विकास यात्रा/ समन्वय दक्षिण/ खंड 1, अंक 1, अक्टूबर-दिसंबर 2016/ केंद्रीय हिंदी संस्थान, हैदराबाद तथा मैसूर केंद्र/ पृ. 105-111
  4. विश्वशांति और हिंदी/ भारतीय भाषाएँ व प्रवासी साहित्य/ संपादक : प्रो. शीला मिश्र/ 2016/ ISBN: 81-86907-85-7/ मिलिंद प्रकाशन, हैदराबाद/ पृ. 385-392
  5. इक्कीसवीं शताब्दी की कहानी और मनुष्य : वैश्वीकरण का यथार्थ/ भूमंडलीकरण के परिप्रेक्ष्य में साहित्य, समाज, संस्कृति और भाषा/ संपादक : डॉ. प्रदीप कुमार सिंह/ 2016/ ISBN: 978-93-81980-29-3/ सरस्वती प्रकाशन, इलाहाबाद/ पृ. 200-213  
  6. शब्दों के आलोक में : भाषाचिंतन का पक्ष/ कृष्णा सोबती : एक मूल्यांकन/ संपादक : छबिल कुमार मैहर/ 2016/ ISBN : 978-93-80458-86-1/ सामयिक बुक्स, नई दिल्ली/   पृ. 263-274
  7. स्मृतियाँ और शुभेच्छाएँ नहीं मानती ‘सरहदें’/ लिटरेचर पॉइंट: ई-मैगजीन: 15 जून 2016/ दैनिक जागरण : 17 अप्रैल 2016/ लेखनी : अप्रैल 2016/ सुबोध सृजन : अप्रैल 2016/ अपनी माटी : जून 2016   
  8. आंध्रप्रदेश और तेलंगाना की पत्रकारिता/ शार्प रिपोर्टर/ पत्रकारिता विशेषांक/ अप्रैल 2016, वर्ष 9, अंक 2/ (सं) अरविंद कुमार सिंह/ ISSN – 2455-3018/ पृ. 62-70
  9. अनुवाद प्रबंधन/ अनुसृजन (त्रैमासिक द्विभाषी ई-पत्रिका), अक्टूबर-दिसंबर 2015, अंक 3/ ISSN – 2454-7131/ (सं) डॉ. हरप्रीत कौर/ पृ. 4-8  
  10. समाज भाषाविज्ञान : रंग शब्दावली : निराला काव्य/ सार्थक (अंतरराष्ट्रीय मासिक वेब पत्रिका), फरवरी-मार्च 2016/ ISSN – 2445-3727/ (अतिथि सं) डॉ. कविता वाचक्नवी/ पृ. 111-113
  11. नया/सोशल मीडिया : साहित्यिक तथा सांस्कृतिक परिप्रेक्ष्य/ सार्थक (अंतरराष्ट्रीय मासिक वेब पत्रिका), जनवरी 2016/ (अतिथि सं) डॉ. कविता वाचक्नवी/ ISSN – 2445-3727/ पृ. 67-71    
  12. अनुप्रयुक्त भाषाविज्ञान की व्यावहारिक परख/ भास्वर भारत (मासिक), दिसंबर 2015, वर्ष 4, अंक 2 / (सं) डॉ. राधेश्याम शुक्ल/ ISSN – 2321-2284/ पृ. 52
  13. आदिवासी और दलित विमर्श : दो शोधपूर्ण कृतियाँ/ भास्वर भारत (मासिक), अक्टूबर 2015, वर्ष 3, अंक 12 / (सं) डॉ. राधेश्याम शुक्ल/ ISSN – 2321-2284/ पृ. 66
  14. भाषा प्रकार्य, हिंदी पत्रकारिता और अनुवाद/ अरुण प्रभा (अर्धवार्षिक)/ (प्र.सं) डॉ. हरीश कुमार शर्मा/ हिंदी विभाग, राजीव गांधी विश्वविद्यालय, इटानगर, अरुणाचल प्रदेश/ अंक – 4/ जनवरी-जुलाई 2015/ ISSN – 2349-6444 (9 पृष्ठ)
  15. हिंदी भाषा का महत्व : समसामयिक परिप्रेक्ष्य/ साहित्य सेतु/ (सं) डॉ. पी. सत्ती रेड्डी, निदेशक, आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमी/ वर्ष – 1, अंक – 2,जनवरी-मार्च 2015/ ISSN – 2348-6163/ (पृष्ठ 4)  (Refreed)
  16. हिंदी भाषा का महत्व : समसामयिक परिप्रेक्ष्य/ हिंदी भाषा का महत्व/ (सं) डॉ. अनिता/ मिलिंद प्रकाशन, हैदराबाद/ 2015/ ISBN81-86907-33-5
  17. संस्कृत के महाकवि भतृहरि की मुक्त रचनाएँ/ मध्यकालीन भारतीय साहित्य की मुक्तक रचनाएँ/ (सं) डॉ. आर. राज्यलक्ष्मी/ मिलिंद प्रकाशन, हैदराबाद/ 2015/ ISBN – 81-7865-083-2
  18. मानवाधिकारों की लड़ाई में दलित कहानियाँ/ वंचित संवेदना का साहित्य/ (सं) विजेंद्र प्रताप सिंह/ आकांक्षा पब्लिशिंग हाउस, नई दिल्ली/ 2015/ ISBN – 978-81-8370-411-3
  19. आंध्र प्रदेश की हिंदी पत्रकारिता/ भारतीय पत्रकारिता : नए क्षितिज/ (सं) डॉ. सतीश शर्मा ‘जाफरावादी’/ श्री नटराज प्रकाशन, दिल्ली/ 2014/ ISBN – 978-93-81350-56-0
  20. आंध्र प्रदेश की हिंदीतर पत्रकारिता/ भारतीय पत्रकारिता : नए क्षितिज/ (सं) डॉ. सतीश शर्मा ‘जाफरावादी’/ श्री नटराज प्रकाशन, दिल्ली/ 2014/ ISBN – 978-93-81350-56-0
  21. स्त्री-बहनापे की ‘एक नई पहचान’/ बहुब्रीहि/ वर्ष – 1, अंक – 2/ जनवरी-जून 2014 (Refreed)
  22. वैश्वीकरण का यथार्थ : कहानी और मनुष्य/ वैश्वीकरण की आँधी में हिंदी कहानी से गायब होता मनुष्य/ (सं) डॉ. नीरज शर्मा/ बी. के. पब्लिकेशन, कोलकत्ता/ पृष्ठ – 244/ 2014/ ISBN – 978-81-921414-7-3 (16 पृष्ठ)
  23. कबीर का भविष्य और भविष्य का कबीर/ स्रवन्ति/ वर्ष 59, अंक 3/ जून 2014/ (पृष्ठ 16-19)
  24. ‘ब्लैकहोल’ – मनुष्य की जययात्रा का उत्तरआधुनिक आख्यान/ स्रवन्ति/ वर्ष 59, अंक 8/ नवंबर 2014/ (पृष्ठ 16-18)
  25. समकालीन हिंदी आलोचना में भारतीयता/ अरुण प्रभा, अरुणाचलप्रदेश/ अंक – 3, जून-दिसंबर 2013,
  26. भारतीय टेलीविजन पर नया प्रयोग – ‘24’/ बहुब्रीहि/ वर्ष – 1, अंक – 1/ जुलाई-दिसंबर 2013 (Refreed)
  27. रीतिकालीन कविता पर संस्कृत का प्रभाव/ रीतिकालीन साहित्य पर संस्कृत का प्रभाव/ (सं) डॉ. करन सिंह ऊटवाल/ मिलिंद प्रकाशन, हैदरबाद/ 2013/ ISBN – 81-86907-95-5
  28. नामवर सिंह की प्रारंभिक रचनाएँ/ भास्वर भारत/ जुलाई 2013 / ISSN : 2321-2284.
  29. दादू दर्शन बिन क्यों जीवै/ भास्वर भारत/ जुलाई 2013 / ISSN : 2321-2284.
  30. समय की धडकन गिनती कहानियाँ : मत हँसो पद्मावती/ भास्वर भारत / अप्रैल  2013 / ISSN  2321-2284.
  31. दकन सा नहीं ठार संसार में/ भास्वर भारत/ अप्रैल 2013 / ISSN : 2321-2284.
  32. सौम्य, अनाक्रामक और पुरुषार्थी साहित्यकार विष्णु प्रभाकर /स्रवंति/ जून 2013/ भास्वर भारत/ अप्रैल 2013 / ISSN : 2321-2284.
  33. स्त्रीत्व की गरिमा का परिवार से कोई विरोध नहीं / भास्वर भारत/ मार्च 2013 / ISSN : 2321-2284.
  34. अरुंधति राय का आहात देश: प्रचार का विलक्षण गद्य/ भास्वर भारत/ जून 2013 / ISSN : 2321-2284.
  35. खल वंदना/ स्रवंति/ वर्ष 58, अंक 8/ दिसंबर 2013
  36. कहीं कोई दरवाज़ा तलाशते अशोक वाजपेयी/ भास्वर भारत / जून 2013 / ISSN : 2321-2284.
  37. अहेतुक परमप्रेम के गायक सूरदास / भास्वर भारत / मई  2013 / ISSN : 2321-2284
  38. चमन में तन कहाँ खुशबू छिपाए / भास्वर भारत / मई 2013 / ISSN : 2321-2284
  39. गोरा का सबसे प्रामाणिक अनुवाद / भास्वर भारत / मई 2013 / ISSN : 2321-2284
  40. भारत मानवता की जन्मभूमि है – जय शंकर प्रसाद/ भास्वर भारत/ जनवरी 2013 / ISSN : 2321-2284.
  41. दक्षिण भारत में उच्च स्तर पर हिंदी के अध्ययन-अध्यापन की समस्याएँ / दक्षिण भारत में हिंदी का अध्ययन-अध्यापन : विविध आयाम/ (सं) आलोक पांडेय/ 2013/ वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली/ ISBN :  978-93-5072-510-8
  42. विश्व साहित्य एवं अनुवाद : हिंदी का संदर्भ/ भाषा, संस्कृति और लोक/ (प्रधान सं) डॉ. दयानिधि मिश्र/ वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली/ 2012/ ISBN – 978-93-5072-168-1
  43. लोकतांत्रिक और भारतीय भाषाओं में राम साहित्य की प्रासंगिकता/ भाषा, संस्कृति और लोक/ (प्रधान सं) डॉ. दयानिधि मिश्र/ वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली/ 2012/ ISBN – 978-93-5072-168-1
  44. बरसा बादल प्रेम का भींज गया सब अंग/ भाषा की भीतरी परतें/ (प्रधान सं) डॉ. ऋषभदेव शर्मा/ वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली/ 2012/ ISBN – 978-93-5072-244-2
  45. प्रो. दिलीप सिंह का भाषा चिंतन और साहित्य विमर्श/ भाषा की भीतरी परतें/ (प्रधान सं) डॉ. ऋषभदेव शर्मा/ वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली/ 2012/ ISBN – 978-93-5072-244-2
  46. भाषाचिंतक प्रो. दिलीप सिंह का अवदान/ भाषा की भीतरी परतें/ (प्रधान सं) डॉ. ऋषभदेव शर्मा/ वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली/ 2012/ ISBN – 978-93-5072-244-2
  47. भक्ति ही नहीं शृंगार भी दक्षिण की देन/ भास्वर भारत/ दिसंबर 2012 / ISSN : 2321-2284.
  48. विश्वजीत सपन कृत ‘आतंकवाद:एक परिचय’ / भास्वर भारत/ दिसंबर 2012/ ISSN : 2321-2284.
  49. भारतेंदु के नाट्य मूल्य/ गगनांचल/ वरः 36, अंक 4-5/ जुलाई-अक्टूबर 2013/ भारतेंदु विशेषांक (पृष्ठ 159-161)
  50. एपीजे अब्दुल कलाम कृत ‘खुशहाल व समृद्ध विश्व’/ भास्वर भारत/ दिसंबर 2012/ ISSN : 2321-2284.
  51. लालित्य में लिपटा इतिहास- गोपाल कमाल/ भास्वर भारत/ नवंबर 2012/ ISSN : 2321-2284.
  52. नर्मदा प्रसाद उपाध्याय कृत ‘जैन चित्रांकन परंपरा’ / भास्वर भारत/ नवंबर 2012/ ISSN : 2321-2284.
  53. रेखांकनों-सूक्तियों में गांधी / भास्वर भारत/ नवंबर 2012/ ISSN : 2321-2284.
  54. हिंदी के नाम पर हो रहा तमाशा/ भास्वर भारत/ अक्टूबर 2012/ ISSN : 2321-2284.
  55. हिंदुस्तानी ज़बान / भास्वर भारत/ अक्टूबर 2012/ ISSN : 2321-2284.
  56. रत्नों की प्रकृति/ भास्वर भारत/ अक्टूबर 2012/ ISSN : 2321-2284.
  57. केजरीवाल का ‘स्वराज्य’ / भास्वर भारत/ अक्टूबर 2012/ ISSN : 2321-2284.
  58. ‘दूर संचार’ में हिंदी प्रयोग तथा अनुवाद/ स्रवंति/ वर्ष 57, अंक 1/ अप्रैल 2012 (पृष्ठ 17-20)
  59. समकालीन हिंदी आलोचना में भारतीयता / अनुशीलन/ कोचीन विश्वविद्यालय, कोचीन [स्वीकृत]
  60. आलोचना की प्रयोजनीयता का संदर्भ और भाषा/ स्रवंति/ फरवरी 2012
  61. हिंदी समाचारों की भाषा का प्रयोजनमूलक वैशिष्ट्य/ हिंदी-मराठी पत्रकारिता के बदलते स्वरूप/ पत्रकारिता विशेषांक/ (प्र.सं) डॉ. ए. डी. मोहेकर/ 2011/ ISSN – 2229-5623
  62. हिंदी भाषा के बढ़ते कदम / स्वतंत्र वार्ता/ 14-15 सितंबर 2011
  63. हिंदी भाषा : विकास के विविध आयाम / सृजनगाथा/ 14 सितंबर 2011
  64. ‘राज्य बहुसंस्कृतिवाद की विफलता पर छिड़ी बहस’ पर विमर्श : आलेख : स्वतंत्र वार्ता, 20.2.2011
  65. उत्तरआधुनिक विमर्श और समकालीन साहित्य/ स्रवंति/ फरवरी/ 2011 (उत्तरआधुनिक विमर्श और समकालीन साहित्य विशेषांक)
  66. नामवर सिंह का साक्षात्कार : (शमशेर हिंदी और उर्दू दोनों के हैं)/ स्वतंत्र वार्ता/ डेली हिंदी मिलाप/ 29.3.2011
  67. मीडिया और साहित्य/ मीडिया और संस्कृति/ संवेद – 40/ वर्ष 3, अंक 5/ मई 2011/ ISSN – 2231-3885 (4 पृष्ठ)
  68. शमशेर की कविता में रंग/ स्रवंति/ अप्रैल 2011/ (शमशेर बहादुर सिंह विशेषांक), ठंडी धुली सुनहरी धूप (संग्रह, रायपुर, छत्तीसगढ़) ISBN-10/ 8189537768
  69. कांतद्रष्टा साहित्यकार अज्ञेय/ स्रवंति/ अगस्त 2011
  70. दक्खिनी हिंदी की परंपरा : ऐब न राखें हिंदी बोल (‘दक्खिनी भाषा और साहित्य’/ 2010/ मानू, हैदराबाद)
  71. ‘वसंत बास चुन चुन के चुनरी बंधे’ (दक्खिनी भाषा और साहित्य/ 2010/ मानू, हैदराबाद)
  72. स्त्री और उपभोक्ता संस्कृति/ ‘समुच्चय’ शोध पत्रिका, वर्ष 1, अंक 1/ नवंबर 2010 (Refreed)
  73. भारतीय परंपरा के उत्तर आधुनिक कवि ओट्टलक्कल नीलकंदन वेलु कुरूप,/ स्रवंति/ नवंबर/ 2010
  74. स्कूली शिक्षा में अंग्रेजी, हिंदी और क्षेत्रीय भाषा के शिक्षण की व्यवस्था/ स्रवंति/ फरवरी/ 2010
  75. दक्खिनी हिंदी का सूफी साहित्य/ स्रवंति/ वर्ष 55, अंक 1/ अप्रैल/ 2010
  76. जाना एक सच्चे हिंदी पत्रकार का/ स्रवंति/ वर्ष 55, अंक 2/ मई 2010
  77. राजभाषा हिंदी में वैज्ञानिक और तकनीकी विषयों की अभिव्यक्ति/ स्रवंति/ वर्ष 55, अंक 3/ जुलाई/ 2010 (पृष्ठ 26-29)
  78. मानव संबंधों की सहज सौम्य कहानियाँ : ‘उजाले दूर नहीं’/ स्रवंति/ वर्ष 55, अंक 10/ जनवरी 2011
  79. उत्तर आधुनिक विमर्श और समकालीन साहित्य/ स्रवंति/ वेर्ष 55, अंक 11/ फरवरी 2011
  80. तृषावंत मैं घूम रहा व्याकुल त्रिभुवन में/ स्रवंति/ (राष्ट्रकवि दिनकर विशेषांक)
  81. भूमंडलीकरण की चुनौतियाँ : संचार माध्यम और हिंदी का संदर्भ/ स्रवंति




संगोष्ठी / विशेष व्याख्यान : 2010 के पश्चात
1.      जुबिली हिल्स पब्लिक स्कूल, हैदराबाद/ एकदिवसीय हिंदी शिक्षण कार्यशाला/  विषय विशेषज्ञ/ “हिंदी भाषा के मानकीकरण हेतु व्याकरण की उपादेयता”/ 7 जून, 2017
2.      इंडियन आयल कारपोरेशन लिमिटेड, हैदराबाद/ दो-दिवसीय राजभाषा सम्मलेन एवं हिंदी कार्यशाला/ विषय विशेषज्ञ/ “राजभाषा नीति और कार्यान्वयन के संदर्भ में राष्ट्रपति के नवीनतम आदेशों की व्याख्या”/ 1 जून, 2017.
3.      सोनुभाई बसवंत कॉलेज, शहापुर (ठाणे)/  एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मलेन: हिंदी साहित्य में मानवीय सरोकार/  विषय विशेषज्ञ/ 8 अप्रैल, 2017.
4.      साहित्यिक सेवा समिति, हैदराबाद/ अष्टम सुगुणा स्मारक पुरस्कार समारोह/ अध्यक्ष/ 2 अप्रैल, 2017
5.      मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूनिवर्सिटी, हैदराबाद/ दो-दिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी/ हिंदी और उर्दू की साझी विरासत/ अध्यक्ष : हिंदी के मिस्लिम साहित्यकार विषयक सत्र/ अतिथि कवि : गंगा-जमुनी कवि सम्मलेन/ 30-31 मार्च, 2017 
6.      साठये महाविद्यालय, मुंबई/ एक-दिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी/ स्त्री साहित्य/ उद्घाटन सत्र का संयोजन एवं प्रथम विचार सत्र का विषय प्रवर्तन/ 16 मार्च, 2017
7.      रूसी-भारतीय मैत्री संघ – दिशा (मास्को), हिंदी संस्थान – कुरुनेगल (श्रीलंका), सामाजिक संस्था – पहल (दिल्ली) और साहित्यिक-सांस्कृतिक शोध संस्था (मुंबई)/ अंतरराष्ट्रीय सम्मान समारोह : राजेंद्र भवन न्यास, नई दिल्ली में/ समारोह का संचालन/ 4 मार्च, 2017       
8.      कादंबिनी क्लब, हैदराबाद/ डॉ. रामनिवास साहू की आत्मकथा ‘मुझे कुछ कहना है’ (भाग 1) का लोकार्पण समारोह/ अध्यक्ष/ 19 फरवरी, 2017
9.      न्यू सरस्वती हाउस, दिल्ली द्वारा हैदराबाद में आयोजित एक दिवसीय हिंदी शिक्षक प्रशिक्षण शिविर/ मुख्य अतिथि एवं मुख्य वक्ता/ 6 जनवरी, 2017
10.  केंद्रीय हिंदी संस्थान, मैसूर केंद्र/ ब्रह्मावर, उडुपी (कर्नाटक) में दो सप्ताह का शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम/ विषय विशेषज्ञ : भाषाविज्ञान, हिंदी भाषा और साहित्य का इतिहास/  16 जनवरी, 2017 से 25 जनवरी, 2017 
11.  तेलंगाना सारस्वत परिषद, हैदराबाद में आयोजित श्रीलाल शुक्ल स्मारक राष्ट्रीय संगोष्ठी/ श्रीलाल शुक्ल की रचनाधर्मिता/ विशेष अतिथि/ 31 दिसंबर, 2016 
12.  महात्मा गांधी विद्यामंदिर, मनमाड (नासिक)/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी : जनसंचार माध्यम एवं साहित्य/ एक सत्र की अध्यक्षता/ 26-27 दिसंबर, 2016.
13.  केंद्रीय हिंदी संस्थान, मैसूर केंद्र/ हुबली-धारवाड (कर्नाटक) में दो सप्ताह का शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम/ विषय विशेषज्ञ : भाषाविज्ञान, हिंदी भाषा और साहित्य का इतिहास/  7 नवंबर, 2016 से 18 नवंबर, 2016 
14.  भास्वर भारत, हैदराबाद, केंद्रीय हिंदी निदेशालय, नई दिल्ली तथा उस्मानिया विश्वविद्यालय, हैदराबाद द्वारा आयोजित द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ भारतीय साहित्य में राष्ट्रीय चेतना/ उद्घाटन सत्रा का संयोजन/ 5, 6 नवंबर, 2016 
15.  महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा/ भाषा विद्यापीठ : विदेशी भाषा एवं अंतरराष्ट्रीय अध्ययन केंद्र/ चीनी-थाई एवं यूरोपीय विद्यार्थियों की कक्षाएँ : 25 अक्टूबर, 2016 से 4 नवंबर,  2016 : ‘भाषाबोध’ एवं ‘भारत परिचय’  का अध्यापन : अतिथि व्याख्याता  
16.  महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा/ भाषा विद्यापीठ : विदेशी भाषा एवं अंतरराष्ट्रीय अध्ययन केंद्र/ चीनी और थाई विद्यार्थियों की कक्षाएँ : 1 अगस्त,  2016 से 31 अगस्त, 2016 : ‘भाषाबोध’ एवं ‘भारत परिचय’  का अध्यापन : अतिथि व्याख्याता  
17.  केंद्रीय हिंदी संस्थान, मैसूर केंद्र/ त्रिवेंद्रम (केरल) में दो सप्ताह का शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम/ विषय विशेषज्ञ : भाषाविज्ञान, हिंदी भाषा और साहित्य का इतिहास/ 12 जुलाई, 2016 से 23 जुलाई, 2016 
18.  राष्ट्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम संस्थान, हैदराबाद / कार्यालयीन कामकाज और अनुवाद / राजभाषा कार्यशाला/ विशेष व्याख्यान / 23 जून, 2016.
19.  केंद्रीय हिंदी संस्थान, मैसूर केंद्र/ बेलगाम (कर्नाटक) में दो सप्ताह का शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम/ विषय विशेषज्ञ : भाषाविज्ञान, हिंदी भाषा और साहित्य का इतिहास/ 16 मई, 2016 से 27 मई, 2016
20.  महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा/  लोकसाहित्य विषयक 9 ई-पाठों का वीडियो रिकॉर्डिंग/ 20 अप्रैल, 2016 से 22 अप्रैल, 2016
21.  आजमगढ़/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ मीडिया समग्र मंथन-2016/ विषय विशेषज्ञ एवं अध्यक्ष/ 28 - 30 मार्च, 2016
22.  भारतीय विद्याभवन, सिकंदराबाद और केंद्रीय हिंदी संस्थान, हैदराबाद/ बालशौरी रेड्डी समग्र चिंतन/ एक-दिवसी राष्ट्रीय संगोष्ठी/ अनुवाद और कथा साहित्य विषयक विचार स्तर की अध्यक्षता/ 7 मार्च, 2016
23.  अक्षरा साहित्यिक सांस्कृतिक सेवा पीठम, राजमंड्री/ आधुनिक युग में हिंदी-तेलुगु साहित्य का पदार्पण : महावीर प्रसाद द्विवेदी, गुरजाडा और गिडुगु का योगदान/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ सत्र अध्यक्ष/ विशिष्ट अतिथि/ 3,4 मार्च, 2016
24.  बॉल्डविन मैथोडिस्ट कॉलेज, बंगलोर/ राष्ट्रीय संगोष्ठी/ हिंदी में दलित साहित्य/ बीज भाषण/ 2 मार्च ,2016
25.  बीडीएल, भानूर/ हिंदी भाषा की संस्कृति/ विशेष व्याख्यान/ 25 मार्च, 2016
26.  उस्मानिया विश्वविद्यालय, हैदराबाद/ नेट परीक्षा की तैयारी : छायावाद का विशेष संदर्भ/ द्विदिवसीय कार्यशाला/ विषय विशेषज्ञ/ 26 फरवरी, 2016
27.  उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद/ कार्यशाला/ हिंदी अनुसंधान की नई दिशाएँ/ विषय विशेषज्ञ/ 18 फरवरी, 2016
28.  श्री वेंकटेश्वर महाविद्यालय, तिरुपति और अयोधा शोध संस्थान, अयोधा/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ आंध्र के साहित्य, कला और संस्कृति में राम तत्व/ विषय विशेषज्ञ/ 4 फरवरी, 2016
29.  न्यू होराइजन कॉलेज, कस्तूरी नगर, बैंगलोर/ एक-दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ हिंदी शिक्षण पद्धतियाँ : पुनर्विचार/ बीज भाषण/ 29 जनवरी, 2016
30.  बीडीएल, भानूर/ विश्व हिंदी दिवस समारोह/ विश्व भाषा हिंदी/ विशेष व्याख्यान/ जनवरी 2016
31.  तमिलनाडु हिंदी साहित्य अकादमी, चेन्नै/ चतुर्थ अंतरराष्ट्रीय साहित्यिक सम्मलेन/ साहित्य सृजन और राजनीति/ मुख्य वक्ता/ 10 जनवरी, 2016
32.  स्थान : आंध्रप्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ हिंदी व्यंग्य को श्रीलाल शुक्ल की देन/ राष्ट्रीय संगोष्ठी-9/ अध्यक्षता/ 31 दिसंबर, 2015
33.  बीडीएल, भानूर/ द्विदिवसी राजभाषा कार्यशाला (दूसरा दिन)/ व्याख्यान/ व्यक्तित्व प्रबंधन और भाषिक विशेष व्यवहार/ 15 दिसंबर, 2015
34.  बीडीएल, भानूर/ द्विदिवसी राजभाषा कार्यशाला (पहला दिन)/ व्याख्यान/ कार्यालयीन व्यवहार/ 14 दिसंबर, 2015
35.  ऑथर्स गिल्ड ऑफ इंडिया, हैदराबाद/ लोकार्पण समारोह : आँगन से राजपथ तक (पवित्रा अग्रवाल)/ मुख्य वक्ता/ 12 दिसंबर, 2015
36.  राष्ट्रीय कृषि विस्तार प्रबंध संस्थान (मैनेज) राजेंद्रनगर, हैदराबाद/ एक-दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला/ प्रयोजनमूलक हिंदी और अनुवाद : पारिभाषिक शब्दावली/ विषय विशेषज्ञ/ 9 दिसंबर, 2015
37.  महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा/ भाषा विद्यापीठ : विदेशी शिक्षण केंद्र/ चीनी विद्यार्थियों की कक्षाएँ : प्रथम सत्र : अगस्त 2015 से दिसंबर 2015 : भाषाबोध विषयक प्रशिक्षण हेतु अतिथि व्याख्याता   
38.  सत्यशीलता ज्ञानालय,चेन्नै/ वैश्वीकरण के दौर में हिंदी की भूमिका/विशिष्ट वक्ता/25अक्टूबर2015
39.  अंजुमन कला, विज्ञान एवं वाणिज्य महाविद्यालय, विजयपुर/ एक-दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ नई सदी के साहित्य की बदलती प्रवृत्तियाँ/ विषय प्रवर्तन : ‘नई सदी की हिंदी कविता’/ 16 अक्टूबर 2015
40.  मिश्र धातु निगम लिमिटेड, मिधानि/ हिंदी दिवस समारोह/ मुख्य अतिथि/ 26 सितंबर 2015
41.  अंजुमन कला, विज्ञान एवं वाणिज्य महाविद्यालय, विजयपुर/ जीवन प्रबंधन और मूल्य शिक्षा/ विशेष व्याख्यान/ 5 अगस्त 2015
42.  साहित्य मंथन, हैदरबाद/ लोकार्पण समारोह : कथाभाषा और काव्यभाषा का समाजभाषिक संदर्भ (डॉ. एन. लक्ष्मी)/ मुख्य अतिथि : लोकार्पण वक्तव्य/ 25 मई 2015
43.  उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, चेन्नै/ भारतीय साहित्य का तुलनात्मक अध्ययन/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ बीज भाषण/ 10 अप्रैल 2015
44.  दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, चेन्नै/ पुस्तक संपादन समिति की बैठक/ विषय विशेषज्ञ/ 9 अप्रैल 2015
45.  उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद/ ‘अंधेरे में’ का पुनर्पाठ : अर्धशती समारोह/ त्रिदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ संगोष्ठी निदेशक/ 28, 29, 30 मार्च 2015    
46.  तेलंगाना विश्वविद्यालय, निजामाबाद/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ बीज भाषाण और अध्यक्षता/ 20 मार्च 2015
47.  अक्षरा साहित्यिक सांस्कृतिक सेवा पीठम, राजमंड्री/ कवींद्र रवींद्र का भारतीय भाषाओं पर प्रभाव/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ अध्यक्षता/ 5, 6 मार्च 2015
48.  विशाखा हिंदी परिषद, विशाखापट्टनम/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन/ 21 वीं सदी में हिंदी : उपलब्धियाँ एवं संभावनाएँ/  सत्र संयोजन : साहित्य की पठनीयता : समस्याएँ और समाधान/ 1, 2 मार्च 2015
49.  एस. बी. कला एवं के.सी.पी. विज्ञान महाविद्यालय, विजयपुर/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ बीज व्याख्यान : नयी सदी की हिंदी कविता/ 14,15 फरवरी 2015  
50.  राष्ट्रीय खनिज विकास निगम, हैदराबाद/ राजभाषा सम्मलेन/ विशेष व्याख्यान : प्रशासनिक हिंदी और अनुवाद/ 11 फरवरी 2015
51.  भारतीय भाषा संस्थान (सी आई आई एल), मैसूर में सात दिवसीय पाठ्यक्रम लेखन कार्यशाला/ विषय विशेषज्ञ/ 2, 8 फरवरी 2015
52.  मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद/ पुनश्चर्या पाठ्यक्रम/ विषय विशेषज्ञ/ गद्य की सृजनात्मकता/ 23 जनवरी 2015
53.  मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद/ पुनश्चर्या पाठ्यक्रम/ विषय विशेषज्ञ/ सृजनात्मकता और भाषा/ 13 जनवरी 2015  
54.  भारतीय भाषा संस्थान (सी आई आई एल), मैसूर में सात दिवसीय पाठ्यक्रम लेखन कार्यशाला/ विषय विशेषज्ञ/ 3-9 जनवरी 2015
55.  भारतीय डायनामिक्स लिमिटेड, भानूर/ राजभाषा कार्यशाला में विशेष व्याखायन : राजभाषा नीति/ 27 दिसंबर 2014   
56.  मध्यकालीन भारतीय साहित्य की मुक्तक रचनाएँ/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ 1, 2 दिसंबर 2014
57.  भक्ति साहित्य में विश्वबंधुत्व की भावनाशीर्षक द्विदिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी/ आर.के.तलरेजा महाविद्यालय/ 23-24नवंबर 2014
58.  ‘साहित्य मंथन सृजन पुरस्कार’ समर्पण समारोह का संयोजन : हैदराबाद/ 15 नवंबर 2014
59.  त्रिदिवसीय चेन्नई अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मलेन में ‘विदेशों में हिंदी का स्वरूप’ शीर्षक शोधपत्र प्रस्तुत/ अध्यक्ष/ 10-12 जनवरी 2014
60.  हिंदी के विकास में भारतीय भाषाओं का योगदान/ संकल्य व्यख्यानमाला/ अध्यक्ष/ 4 जनवरी 2014
61.  हिंदी-कन्नड़ आधुनिक काव्य की प्रवृत्तियाँ/ एकदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ बीज वक्तव्य/ एस. बी. कला एवं विज्ञान महाविद्यालय तथा रानी चन्नम्मा विश्वविद्यालय, बीजापुर/ 9 मार्च 2014 
62.  ‘भूमंडलीकरण : 21वीं शती के प्रथम दशक का हिंदी साहित्य’ विषय पर द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ मार्च 2014 
63.   ‘हिंदी तथा तेलुगु के प्रमुख संतों की रचनाओं में अंतःसंबंधविषयक द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में अध्यक्ष, श्री वीरतपस्वी चन्नवीर शिवाचार्य बी.एड. कॉलेज, सोलापुर, 20-21 मार्च 2014
64.   रोजगार अभिमूल्क हिंदी/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ विश्वविद्यालय अनुदान आयोग तथा राजर्षि शाहू महाविद्यालय, लातूर/ 23-24 जनवरी 2014
65.  पुण्य स्मरण : कैलाश चंद्र भाटिया, राजेंद्र यादव, परमानंद श्रीवासतव और ओमप्रकाश वाल्मीकि शीर्षक द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में संप्रेषणीय आलोचना के कर्णधार परमानंद श्रीवास्तव/ उच्च शिक्षा और शोध संसथान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, बेलगाम केंद्र, 29-30 मार्च 2014
66.  हिंदी तथा तेलुगु के प्रमुख संतों की रचनाओं में अंतःसंबंधविषयक द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में अध्यक्ष, श्री वीरतपस्वी चन्नवीर शिवाचार्य बी.एड. कॉलेज, सोलापुर, 20-21 मार्च 2014
67.  ‘ राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी का स्वरूप एवं संभावनाएँ’/ एकदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ मैसूर विश्वविद्यालय/ बीज भाषण/ 12 अगस्त 2014
68.  विशारद एवं प्रवीण की पाठ्य पुस्तकों के लिए व्याख्यानमाला – विषय विशेषज्ञ, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, मद्रास – 28-2 जून 2014; 3-10 सितंबर 2014
69.  हिंदी भाषा का महत्व/ एकदिवसीय राज्यस्तरीय संगोष्ठी/ संगारेड्डी/ बीज व्याख्यान/ 16 जुलाई 2014
70.  डॉ. अजित गुप्ता के सम्मान में काव्य संध्या/ इंडिया काइंडनेस मूवमेंट हैदराबाद, कादंबिनी क्लब हैदराबाद/ अध्यक्ष/ 29 सितंबर 2013
71.  वैश्वीकरण की आंधी में हिंदी कहानी से गायब होता मनुष्य/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ बैरकपुर राष्ट्रगुरु सुरेंद्रनाथ महाविद्यालय/ 20-21 सितंबर 2013
72.  साहित्य, संस्कृति व शिक्षाशीर्षक द्विदिवसीय राष्ट्रीय/ गोखले एजुकेशन सोसायटी का शिक्षण व संशोधन महाविद्यालय, मुंबई, 23-24 मई 2013  
73.  भक्ति साहित्य में विश्वबंधुत्व की भावनाशीर्षक त्रिदिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में प्रतिभागिता. साहित्यिक सांस्कृतिक शोध संस्थान, यूजीसी एवं आर.के.टी. महाविद्यालय उल्हासनगर, मुंबई, 22-24 नवंबर 2013
74.  मिट्टी का रंग / लोकार्पणकर्ता/ हैदराबाद/ 12 दिसंबर 2013
75.  ‘ग़ालिब और विज्ञान/ लोकार्पणकर्ता/ हैदराबाद/ 13 दिसंबर 2013
76.  रीतिकालीन साहित्य पर संस्कृत साहित्य का प्रभाव/ लोकार्पणकर्ता/ हैदराबाद/ 13 दिसंबर 2013
77.  श्रीलाल शुक्ल की कथा भाषा और व्यंग्य/ एकदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ सम्माननीय अतिथि/ 31 दिसंबर 2013
78.  ‘’भाषा में संस्कृति’’/ मुख्य अतिथि वक्ता/ विशेष व्याख्यानमाला/ एनटीपीसी लि., सीपत, बिलासपुर, छत्तीसगढ़/ 8 जनवरी 2013
79.  साहित्य, संस्कृति और शिक्षा – वर्तमान संदर्भ में/ गोखले सोसायटी शिक्षा महाविद्यालय, मुंबई/ विशेष वक्ता और सत्र-अध्यक्ष / 23-24 मई 2013
80.  आधुनिकता का स्वरूप/ हिंदी विभाग, कर्नाटक विश्वविद्यालय, धारवाड/ अतिथि व्याख्यान/ 16 अप्रैल 2013
81.  संरचनावाद की अवधारणा/ हिंदी विभाग, कर्नाटक विश्वविद्यालय, धारवाड/ अतिथि व्याख्यान/ 16 अप्रैल 2013
82.  उत्तरसंरचनावाद की अवधारणा/ हिंदी विभाग, कर्नाटक विश्वविद्यालय, धारवाड/ अतिथि व्याख्यान / 17 अप्रैल 2013
83.  उत्तरआधुनिकता  का स्वरूप/ हिंदी विभाग, कर्नाटक विश्वविद्यालय, धारवाड/ अतिथि व्याख्यान/ 17 अप्रैल 2013
84.  ‘’पंत का जीवन दर्शन’’ का  लोकार्पण/ मुख्य वक्ता/ आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ 8 जुलाई 2013
85.  ‘’तिश्नगी’’ का लोकार्पण/ अध्यक्षता/ साहित्य मंथन, हैदराबाद/ 7 जुलाई 2013
86.  कार्यालयीन हिंदी का व्याकरण/ पॉवर पॉइंट प्रस्तुति/ राजभाषा प्रशिक्षण कार्यक्रम/ बी डी एल, भानूर/ 21 जून 2013
87.  ‘हैदराबाद का रंगकोश’ का लोकार्पण/ विशेष वक्ता/ मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूनिवर्सिटी, हैदराबाद/ 25 मार्च 2013
88.  भवानी प्रसाद मिश्र एवं विष्णु प्रभाकर सताब्दी समारोह/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं पोस्टर प्रदर्शनी/ कार्यक्रम संयोजक, सत्र अध्यक्ष एवं आलेख प्रस्तुतीकरण/ दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद / 9-10 मार्च 2013
89.  गिडुगु वेंकट राम मूर्ति और महावीर प्रसाद द्विवेदी : भाषा आंदोलन / अध्यक्ष/ आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ 21 फरवरी 2013
90.  ज्ञानपीठ पुरस्कृत साहित्यकारों पर राष्ट्रीय संगोष्ठी/ मुख्य अतिथि, सत्र अध्यक्ष एवं आलेख प्रस्तुतीकरण/ रेवा विश्वविद्यालय, बेंगलूरु/ 22 फरवरी 2013
91.  हिंदी की संवैधानिक स्थिति/ मुख्य अतिथि, पॉवर पॉइंट प्रस्तुति/ नेहरु युवा केन्द्र, हैदराबाद/ 20 फ़रवरी 2013
92.  विश्व हिंदी दिवस समारोह/ मुख्य अतिथि/  बी डी एल, भानूर/ 10 जनवरी 2013
93.  हिंदी का नैसर्गिक विकास/ विषय विशेषज्ञ/ द राजा’ज कॉलेज, पुदुक्कोट्टई, तमिलनाडु/ 3 जनवरी 2013
94.  हिंदी उपन्यास साहित्य को श्रीलाल शुक्ल की देन/ विशेष वक्ता/ आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ 31 दिसंबर 2012
95.  कबीर और जायसी / विशेष व्याख्यान/ ए वी कॉलेज, हैदराबाद/ 3 दिसंबर 2012
96.  ‘’स्त्री विमर्श : स्त्री भाषा’’ पर व्याख्यान/ पुनश्चर्या पाठ्यक्रम/ केंद्रीय विश्वविद्यालय, हैदराबाद/ 20 नवंबर 2012
97.  ‘’मीडिया और साहित्य’’ पर व्याख्यान/ पुनश्चर्या पाठ्यक्रम/ मौलाना आज़ाद नेशनल उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद/ 12 जुलाई 2012
98.  ‘’उत्तरआधुनिकता और हिंदी सिनेमा’’/ पुनश्चर्या पाठ्यक्रम/ मौलाना आज़ाद नेशनल उर्दू विश्वविद्यालय , हैदराबाद/ 12 जुलाई 2012 
99.  ‘’भाषा और संवेदना’’ पर विशेष व्याख्यान / हिंदी कार्यशाला/ भारी पानी संयंत्र, मनुगुरु/ 14 सितंबर 2012
100.          तेलुगु से अनूदित ‘अक्षर मेरा अस्तित्व’ के लोकार्पण की अध्यक्षता/ आंध्र प्रदेश हिंदी अकादेमी/ 27 अगस्त 2012
101. कम्प्यूटर पर हिंदी के विस्तार में स्वैच्छिक संस्थाओं की भूमिका/ मुख्य वक्ता/ अखिल भारतीय हिंदी कार्यकर्ता शिविर, हैदराबाद/ 28-30 जुलाई 2012
102. संविधान में हिंदी/ विशेष अतिथि/ राजभाषा कार्यशाला/ भारत डायनामिक्स लि., भानूर/ 30 जुलाई 2012
103. तेलुगु महिला कथाकारों का ‘गुलदस्ता’/ लोकार्पणकर्ता/ महिला चैतन्य साहित्य सांस्कृतिक संस्था, हैदराबाद/ 25 जुलाई 2012
104. ‘’सुरेंद्र वर्मा के नाटकों में स्त्री विमर्श’’/ मुख्य वक्ता/ लोकार्पण/ विजयवाडा/ 1 जुलाई 2012
105. ‘मन की दीवारों पर’ का लोकार्पण/ मुख्य वक्ता/ आंध्र भाषा निलयम, हैदराबाद/ 24 जून 2012
106. ‘भूकंप’ के अंग्रेजी काव्यानुवाद ‘ट्रेमर्स’ का लोकार्पण/ अध्यक्ष एवं लोकार्पणकर्ता/ साहित्य संगम, हैदराबाद/ 5 मई 2012
107. ‘’साहित्य, सिनेमा और समाज’’ – राष्ट्रीय संगोष्ठी/ आलेख प्रस्तुति, सत्र-अध्यक्षता एवं सत्र-संयोजन/ उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, चेन्नई/ 28-29 अप्रैल 2012
108. स्व. अजंता की तेलुगु काव्यकृति ‘स्वप्नलिपि’ के हिंदी अनुवाद का लोकार्पण/ अध्यक्षता/ आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ 14 अप्रैल 2012
109. तेलुगु नाटक ‘अक्षरम’ के हिंदी अनुवाद का लोकार्पण/ लोकार्पणकर्ता/ एलुरु/ 22 मार्च 2012
110. ‘’हिंदी का भविष्य और भविष्य की हिंदी’’- राष्ट्रीय संगोष्ठी/ आलेख प्रस्तुति/ 17 मार्च 2012
111. दक्षिण भारत में हिंदी के अध्ययन अध्यापन की समस्याएँ/ राष्ट्रीय कार्यशाला/ सत्र-अध्यक्षता एवं आलेख प्रस्तुति/केंद्रीय वि.वि., हैदराबाद/ 14-16 मार्च 2012
112. दूरस्थ शिक्षा प्रशिक्षण शिविर/ सत्र-अध्यक्ष, विषय-विशेषज्ञ व आलेख प्रस्तुति/ दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा,धारवाड/ 27-28 फ़रवरी 2012
113. पाठ्यक्रम संशोधन पर चारदिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला / संयोजक एवं विषय विशेषज्ञ/ दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद / 4 - 7 मार्च 2012
114. हिंदी में वैज्ञानिक और तकनीकी लेखन की परंपरा/ अतिथि व्याख्यान/ अखिल भारतीय राजभाषा प्रबंध प्रशिक्षण शिविर – हैदराबाद/ 2224 फ़रवरी 2012
115. सुभद्रा कुमारी चौहान का रचना संसार/ विशेष अतिथि वक्ता/ आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ 16 फ़रवरी 2012
116. भारतीय साहित्य: राम साहित्य से जुड़े कला संदर्भ/ सत्र-अध्यक्षता एवं ‘भारतीय चित्रकला में राम’ पर आलेख प्रस्तुति/ द्विदिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी/ साठये महाविद्यालय, मुंबई/ 10-11 फरवरी 2012
117. ‘आत्ममंथन’ का लोकार्पण/ विशेष वक्ता/एक्स्पोटेल, हैदराबाद/ 17 फरवरी 2012
118. विज्ञान लेखन में सरल और सहज हिंदी का प्रयोग/ विषय विशेषज्ञ / विज्ञान लेखन कार्यशाला/ सी सी एम बी, हैदराबाद / 8 फरवरी 2012
119. भारतीय साहित्य में भक्ति आंदोलन/ अध्यक्षता/ आंध्र परदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ 25 जनवरी 2012
120. ‘नागार्जुन के काव्य में जीवन मूल्य’ का लोकार्पण/ अध्यक्षता/ साहित्य मंथन, हैदराबाद/ 22 जनवरी 2012
121. ‘’हैदराबाद लिटरेरी फेस्टिवल-2012’’ में रचनापाठ एवं सत्र-सयोजन/ 16-18 जनवरी 2012
122. आचार्य हस्तीमल स्मृति न्यास के पुरस्कार समारोह में विशेष वक्ता/ हैदराबाद/ 15 जनवरी 2012
123. श्रीलाल शुक्ल जन्मदिन समारोह/ राष्ट्रीय संगोष्ठी/ अध्यक्षता/ आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ 31 दिसंबर 2011
124. भारतीय संस्कृति संगमम्/ विशेष वक्ता/ भारत डिग्री कॉलेज फॉर वीमेन, हैदराबाद/ 29 दिसंबर 2011
125. पत्रकारिता के बदलते स्वरूप/ राष्ट्रीय संगोष्ठी/ मुख्य अतिथि, आलेख प्रस्तुति/ शिक्षण महर्षि ज्ञानदेव मोहेकर महाविद्यालय, कलंब [महाराष्ट्र]/ 23-24 दिसंबर, 2011  
126. अन्यभाषा के रूप में हिंदी शिक्षण : उन्मुखीकरण कार्यक्रम/ विषय विशेषज्ञ और सत्र अध्यक्ष/ एं सी ई आर टी, नई दिल्ली द्वारा मैसूर में आयोजित/ 12-15 दिसंबर 2011
127. हमारी कुटुंब संस्कृति/ विशेष व्याख्यान/ भावसार विज़न इण्डिया, हैदराबाद/ 28 नवंबर 2011
128. द्विदिवसीय हिंदी कार्यशाला/ मुख्य अतिथि/ केंद्रीय विद्यालय संगठन, हैदराबाद/ 19 नवंबर 2011
129. वैश्वीकरण के परिदृश्य में अनुवाद की भूमिका/राष्ट्रीय संगोष्ठी/  आलेख प्रस्तुति/ सेंट पायस वनिता महाविद्यालय, हैदराबाद / 24 अक्टूबर 2011
130. ‘सिक्का बदल गया’ [कृष्ण सोबती] पर वीडियो पाठ/ [सप्तगिरि चैनल,दूरदर्शन हैदराबाद], डॉ. बी.आर. अम्बेडकर ओपन यूनिवर्सिटी, हैदराबाद / 7 नवंबर 2011
131. ‘भारतीय काव्यशास्त्र : एक परिचय’ / वीडियो पाठ/ डॉ. बी.आर. अम्बेडकर ओपन यूनिवर्सिटी, हैदराबाद / 27 सितंबर 2011
132. ‘पुष्पक-18’ और ‘नन्हे फ़रिश्ते’ का लोकार्पण/ अध्यक्षता/ कादम्बिनी क्लब, हैदराबाद/ 6 नवंबर 2011
133. पारिभाषिक शब्दावली की समीक्षा के आधार/ पावर पॉइंट प्रस्तुति/ बारानी कृषि अनुसन्धान केंद्र, हैदराबाद / 2 नवंबर 2011
134. आठ-दिवसीय हिंदीतरभाषी हिंदी नवलेखक शिविर/ विषय विशेषज्ञ एवं सत्र-अध्यक्ष/ अहमदनगर [महाराष्ट्र]/ 13-20 अक्टूबर 2011
135. नागार्जुन साहित्य पर संगोष्ठी/ अध्यक्ष/ कादम्बिनी क्लब, हैदराबाद/ 19 सितंबर 2011
136. हिंदी विश्वस्तर की भाषा है/ मुख्य अतिथि/ भारत सरकार टकसाल, हैदराबाद/ 17 सितंबर 2011
137. व्यवसाय-विपणन की भाषा हिंदी/ मुख्य अतिथि/ केनरा बैंक, हैदराबाद/ 14 सितंबर 2011
138. हिंदी दिवस पर विशेष संगोष्ठी/ मुख्य अतिथि/ हिंदी प्रचार सभा, हैदरबाद/ 14 सितंबर 2011
139. आधुनिक कविता और उसका शिक्षण / विशेष व्याख्यान/ केंद्रीय हिंदी संस्थान/ 13 सितंबर 2011
140. दूरस्थ शिक्षा पर द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं कार्यशाला/ सत्र संचालन एवं आलेख प्रस्तुतीकरण/ उच्च शिक्षा और शोध संस्था, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, धारवाड़/ 21-22 जनवरी 2011   
141. ‘स्रवंति’ उत्तरआधुनिक विमर्श विशेषांक लोकार्पण समारोह/ संगोष्ठी/ निर्देशन एवं संयोजन/ उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद/ 5 मार्च 2011
142. ‘शमशेर की काव्य भाषा में रंग शब्दावली’/ शमशेर शताब्दी समारोह/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ संयोजन एवं आलेख प्रस्तुतीकरण/ उच्च शिक्षा और शोध संस्थान एवं मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद
143. तेलुगु कृति ‘विनयपथ’ के अनुवाद की समीक्षा/ आंध्रप्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ मुख्य अतिथि/ 10 अप्रैल 2011
144. ‘केदारनाथ अग्रवाल की कविता में प्रेम’/ शताब्दी स्मरण व्याख्यान/ आंध्रप्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ मुख्य वक्ता/ 21 अप्रैल 2011
145. ‘क्रांतद्रष्टा साहित्यकार अज्ञेय’/ ‘अज्ञेय और उनका साहित्य’/ एकदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद/ निर्देशन, संयोजन एवं आलेख प्रस्तुतीकरण/ 30 अप्रैल 2011
146. स्त्री, दलित और अल्पसंख्यक विमर्श/ पुनश्चर्या पाठ्यक्रम/ विषय विशेषज्ञ/ मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद/ 11 अगस्त 2011
147. ‘नागार्जुन की कविता में प्रयुक्त रंग शब्दावली : समाजभाषिक अध्ययन’/ नागार्जुन पर त्रिदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ केंद्रीय हिंदी संस्थान, हैदराबाद/ आलेख प्रस्तुतीकरण/ 25-26 फरवरी 2011
148. ‘हिंदी के लिए जनांदोलन और संघर्ष’/ हिंदी भाषा पर द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय, हैदराबाद/ आलेख प्रस्तुतीकरण/ मार्च 2011
149. डॉ.चक्रधर नलिन सम्मान समारोह/ कादंबिनी क्लब, हैदराबाद/ अध्यक्षता/ 6 जनवरी 2011
150. ‘समसामयिक कहानी में प्रेम चित्रण’/ दूरदर्शन (हैदराबाद) पर परिचर्चा/ विशेषज्ञ/ 19 जनवरी 2011
151. निराला जयंती समारोह/ उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा,  हैदराबाद/ अध्यक्षता/ 8 फरवरी 2011
152. ‘नव प्रयोगवादी सर्जक अज्ञेय’/ आंध्रप्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ विशेष व्याख्यानमाला/ विशेष  वक्ता/ 26 मार्च 2011
153. मई दिवस काव्य संगोष्ठी/ कादंबिनी कल्ब, हैदराबाद/ अध्यक्षता/ 1 मई 2011
154. आथर्स गिल्ड ऑफ इंडिया, हैदराबाद चैप्टर/ अध्यक्षता/ 30 अगस्त 2011
155. हिंदी समारोह/ ओकरिज इंटरनेशनल स्कूल, हैदराबाद/ मुख्य अतिथि/ 8 सितंबर 2011
156. बच्चों पर लिखी गई आधुनिक हिंदी कविताओं का संकलन/ 2010-11 में तीन बार एक एक सप्ताह की राष्ट्रीय कार्यगोष्ठी में विशेषज्ञ के रूप में भागीदारी/ एन.सी.ई.आर.टी., नई दिल्ली
157. “सूफी काव्य का पुनर्मूल्यांकन”/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ दक्खिनी हिंदी सूफी काव्य परंपरा/ साठये महाविद्यालय, मुंबई/ अध्यक्षता एवं आलेख प्रस्तुतिकारण/ 28 फरवरी 2010
158. “स्त्री एवं उपभोक्ता संस्कृति”/ भाषा, साहित्य और संस्कृति का समकालीन परिदृश्य/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ इफ्लू, हैदराबाद/ आलेख प्रस्तुतीकरण
159. “उत्तरआधुनिक विमर्श और समकालीन साहित्य”/ राष्ट्रीय संगोष्ठी/ उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद/ निर्देशन, संयोजन एवं आलेख प्रस्तुतीकरण/ 25 मई 2010
160. ‘कविता शिक्षण के पाठ्य बिंदु’/ पावर पाइंट प्रस्तुति/ विशेष व्याख्यान/ केंद्रीय हिंदी संस्थान, हैदराबाद/ 24 जुलाई 2010
161. ‘हिंदी भाषा की विकास यात्रा’/ अखिल भारतीय राजभाषा सम्मलेन/ विशेष व्याख्यान/ पावर ग्रिड, हैदराबाद/ 28 सितंबर 2010
162. ‘हिंदी ब्लॉगिंग की आचारसंहिता’/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता, आलेख प्रस्तुतीकरण/ महात्मागांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय/ 9-10 अक्टूबर 2010
163. हिंदी पत्रकारिता दिवस संगोष्ठी/ हैदराबाद/ अध्यक्षता/ 30 मई 2010
164. पुस्तक लोकार्पण समारोह/ साहित्य मंथन, हैदराबाद/ मुख्य वक्ता/ 18 जुलाई 2010
165. ‘उजाले दूर नहीं’ लोकार्पण समारोह/ कादंबिनी कल्ब, हैदराबाद/ मुख्य वक्ता/ 3 अगस्त 2010
166. राजभाषा कार्यशाला/ रक्षा लेखा विभाग, सिकंदराबाद/ मुख्य अतिथि/ 8 अगस्त 2010
167. तुलसी जयंती समारोह/ तुलसी मानस संगम, हैदराबाद/ मुख्य वक्ता/ 16 अगस्त 2010
168. ‘अक्षरा’ साहित्य सांस्कृतिक सेवा पीठम लोकार्पण समारोह, हैदराबाद/ मुख्य वक्ता/ समीक्षक/ 19 अगस्त 2010
169. तेलुगु काव्य कृति ‘मौन भी बोलता है’ लोकार्पण समारोह/ आंध्रप्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद/ मुक्य वक्ता/ 29 सितंबर 2010
170. शोध पत्रिका ‘समुच्चय’ का लोकार्पण समारोह/ हिंदी विभाग, इफ्लू, हैदराबाद/ मुख्य वक्ता/ 8 नवंबर 2010
171. काव्य चर्चा गोष्ठी/ कादंबिनी कल्ब, हैदराबाद/ विशेष अतिथि/ 23 दिसंबर 2010
172. ‘चेखव का अनुवाद’/ द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी/ हिंदी विशेषज्ञ के रूप में अनुवाद मूल्यांकन/ रूसी भाषा विभाग/ इफ्लू, हैदराबाद/ 20-21 अक्टूबर 2010
173. ‘लोकतंत्र के संदर्भ में रामकाव्य की प्रासंगिकता’/ त्रिदिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी/ आलेख प्रस्तुतीकरण/ साठये महाविद्यालय, मुंबई
174. एन.सी.ई.आर.टी.: शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम/ तिरुवनंतपुरम/ विषय विशेषज्ञ/ 21-24 सितंबर 2010


संपर्क : 208 ए, सिद्धार्थ अपार्टमेंट्स, गणेश नगर, रामंतापुर, हैदराबाद – 500013
फोन  : 040-42102132/  08121435033/  08074742572 (व्हाट्सएप्प).
वेबसाइट :       ऋषभ उवाच         http://rishabhuvach.blogspot.in/
                        ऋषभ की कविताएँ    http://rishabhakeekavitaen.blogspot.in/
                        तेवरी                http://tevari.blogspot.in/
                        हैदराबाद से           http://hyderabadse.blogspot.in/
                      प्रस्तुति              http://ppthindi.blogspot.in/


(ऋषभदेव शर्मा)