समर्थक

शनिवार, 17 सितंबर 2011

हिंदी विश्व स्तर की भाषा है


3 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वैश्विक राजनीति ने हिन्दी को पनपने नहीं दिया, अब बढ़ना है।

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने कहा…

हिंदी तो टकसाली भाषा है॥

डॉ.बी.बालाजी ने कहा…

प्रणाम सर.

इसमें कोई दो राय नहीं कि हिंदी को उसकी सरलता और लचीलेपन ने उसे विश्व स्तर की भाषा बनाया है.
राजनीति अपनी जगह है तो जनमत अपनी जगह. जनता हिंदी के पक्ष में है.