समर्थक

शुक्रवार, 9 सितंबर 2011

एकता हेतु हिंदी का व्यापक प्रचार ज़रूरी

इस आयोजन के चित्र देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें.

3 टिप्‍पणियां:

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने कहा…

इस्लामिक व इसाई धर्म के दृष्टांत देकर सर्वधर्म समभाव का उदाहरण दिया है आपने। काश! हमारे नेताओं तक यह संदेश जाता कि एकता के लिए हिंदी का प्रचार ज़रूरी है तो शायद राष्ट्रभाषा को उसका उचित स्थान कब का मिल चुका होता। ठीक है, प्रयास तो जारी रहेगा॥

ऋषभ Rishabha ने कहा…

@चंद्रमौलेश्वर प्रसाद

वेबल की मीनार का किस्सा तो मैंने पहले भी सुनाया है यह बताने के लिए कि निर्माण और संप्रेषणीयता में
समानुपातिक संबंध है.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

इस दिशा में ब्लॉग का योगदान बड़ा होने वाला है।