समर्थक

गुरुवार, 19 मई 2011

वह अज्ञेय था

आवाज़ एक - वह चिम्पैंजी था.
आवाज़ दो - वह हिजड़ा था.
आवाज़ तीन - वह लंपट था.
आवाज़ चार - वह बहुगामी था.
आवाज़ पाँच - वह अवैध संतान का पिता था.
आवाज़ छह -  वह अंग्रेजों का जासूस था.
आवाज़ सात- वह सीआईए का एजेंट था.
आवाज़ आठ - वह अमौलिक था.
आवाज़ नौ - वह कुंठित था.

दसवीं आवाज़ आकाश से आई - वह शब्द था
                                                      आकाश था
                                                      सृष्टि था
                                                      अज्ञेय था. 
एक टिप्पणी भेजें