समर्थक

रविवार, 1 मई 2011

हिंदी के लिए जनांदोलन और संघर्ष


2 टिप्‍पणियां:

cmpershad ने कहा…

हिंदी वाले जुट जाय! क्या आपको यह असम्भव नहीं लगता... जहां बडी युनिवर्सिटी में बैठा एक व्यक्ति यह समझता है कि वह लाखों में झूल रहा है और दूसरा सच्चे मन से हिंदी की सेवा करें तो भी कोई संज्ञान नहीं लेता:(

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

एक आन्दोलन की जगह यह व्यवस्था बन गयी है, भारयुक्त।