समर्थक

गुरुवार, 22 अप्रैल 2010

तजिए वचन कठोर

तुलसी बाबा ने वषीकरण के गोपनीय मंत्र को सर्वसुलभ बनाते हुए कहा है कि मीठे वचन से सब ओर सुख उपजता है इसलिए यदि सबको अपने वष में करना चाहते हो तो कठोर वचन के प्रयोग से बचो! यह आजमाया हुआ मंत्र है। छोटे से बड़े तक सब वष मेें हो जाते हैं। तमाम मंत्रों की तरह इस मंत्र का भी अनधिकारी लोगों ने बहुत दुरुपयोग किया है। चालाक और चापलूस लोगों के वचन प्राय: ऊपर से इतने मधुर होते हैं कि उनके सामने सचमुच के मधुर वचन फीके पड़ जाते हैं। इसके बावजूद हर किसी को मीठी-मीठी बातें सुनना ही अच्छा लगता है। कुछ लोग होते हैं जो अपने दुर्वचनी होने का बखान अपनी सत्यनिष्ठा और निभीZकता के रूप में किया करते हैं। पर स्वयं उन्हें भी मीठे वचन ही प्रिय होते हैं। कभी भूल से भी उनके समक्ष कोई कटु, कठोर या अप्रिय वाक्य कह दिया जाए तो वे कहने वाले की नीयत पर ही संदेह करने लगते हैं। उसे अपना शत्रु मान बैठते हैं, ईष्र्यालु और प्रतिद्वंद्वी घोषित कर देते हैं। तब तो और भी बड़ा धर्मसंकट पैदा हो जाता है जब आप अपने प्रियजन की रुष्टता के भय से बलात् मीठे वचन बोलने को विवष हों। तुलसी बाबा ने इस द्वंद्व का भी समाधान किया है। वे समझाते हैं कि यदि मंत्री, वैद्य और गुरु भय या लोभ वष प्रिय बोलने लगें तो क्रमष: राज्य, शरीर और धर्म का नाष नििष्चत है - सचिव बैद गुरु तीनि जौं, प्रिय बोलहिं भय आस।
राज धर्म तन तीनि कर, होइ बेगिही नास।। स्पष्ट है, यहा¡ चालाकी और चापलूसी भरे कपटपूर्ण मधुर वचनों से संभावित खतरे से अवगत कराया गया है। ऐसे में सच्चे मित्र का कर्तव्य क्या है? `मानस` के कििष्कंधाकांड में स्वयं राम कहते हैं - कुपथ निवारि सुपंथ चलावा। गुन प्रगटै अवगुनिन्ह दुरावा।।
देत लेत मन संक न धरई। बल अनुमान सदा हित करई।।
बिपति काल कर सतगुन नेहा। श्रुति कह संत मित्र गुन एहा।। ऐसा संत मित्र कभी भी समक्ष मृदु वचन कहने और पीठ पीछे बुराई करने जैसी कुटिलता नहीं कर सकता। कभी कठोर वचन कहने या आलोचना करने या मतभेद होने पर भी वह रंच मात्र भी शत्रुता नहीं बरत सकता। मित्रवर, शत्रु तो आपका वह कपटी मित्र है जो झूठी स्तुति रूपी वषीकरण मंत्र से आपकी बुिद्ध को भ्रमित और सम्मोहित करने में ही लगा रहता है, उस सा¡प को पहचानिए - आगें कह मृदु बचन बनाई। पाछे अनहित मन कुटिलाई।।
जाकर चित अहि गति सम भाई। अस कुमित्र परिहरेहिं भलाई।।
सेवक सठ, नृप कृपन, कुनारी। कपटी मित्र सूल सम चारी।। इसलिए तनिक अपने स्वभाव की पड़ताल कीजिए कि मधुर वचन के लोभ में आप किसी कुमित्र के वषीकरण जाल में तो नहीं फ¡से हैं या किसी संत मित्र को भयभीत करके प्रिय बोलने के लिए विवष तो नहीं कर रहे हैं। अगर ऐसा कहीं हो तो सावधान हो जाए¡ और तुरंत ऐसे कुमित्र को त्याग दें तथा संत मित्र की सद्भावना का सम्मान करना सीख लें!
- संपादक
वर्ष : 23 अंक : 4 पौष शुक्ल पक्ष 9, संवत् 2064 17 जनवरी 2008

एक टिप्पणी भेजें