समर्थक

मंगलवार, 25 अगस्त 2009

‘‘शोध की दिशाएँ’’ विषयक एकदिवसीय संगोष्ठी संपन्न



''शोध की दिशाएँ'' विषयक एकदिवसीय संगोष्ठी संपन्न


हैदराबाद, 24अगस्त, 2009|


उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा के खैरताबाद स्थित परिसर में एम.फिल. पाठ्यक्रम के नए सत्र के उद्घाटन के अवसर पर ''शोध की दिशाएँ'' विषय पर एकदिवसीय संगोष्ठी संस्थान के आचार्य डॉ. ऋषभदेव शर्मा की अध्यक्षता में संपन्न हुई। विषय प्रवर्तन करते हुए डॉ. शर्मा ने कहा कि संस्थान में अछूते विषयों पर अनुसंधान की परंपरा रही है और संस्थान में संपन्न सौंदर्यशास्त्रीय, शैलीवैज्ञानिक, राजभाषा संबंधी, तुलनात्मक अध्ययन, अनुवाद समीक्षा और जनसंचार माध्यम संबंधी शोध कार्यों के वैविध्य का उल्लेख किया।


आर्ट्स कॉलेज, उस्मानिया विश्वविद्यालय के पूर्व प्राचार्य प्रो. एम. वेंकटेश्वर ने ''हिंदी साहित्य विषयक शोध'' की संभावनाओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि कविता और कथासाहित्य के अतिरिक्त कथेतर विधाओं पर भी शोध की विपुल संभावनाएँ हैं। उन्होंने काव्यशास्त्रीय और सामाजिक दृष्टियों के अलावा भाषिक दृष्टि से भी साहित्यिक पाठों के विश्लेषण की आवश्यकता बताई।


गैरयूनिस यूनिवर्सिटी, लीबिया के अंग्रेज़ी विभाग के आचार्य डॉ. गोपाल शर्मा ने ''तुलनात्मक शोध'' की दिशाओं पर चर्चा करते हुए कहा कि साहित्य और भाषाविज्ञान दोनों क्षेत्रों में तुलनात्मक अध्ययन संभव है परंतु आवश्यकता इस बात की है कि हिंदी का शोधार्थी केवल पारंपरिक आलोचनादृष्टियों से न बंधा रहे बल्कि ठेठ समसामयिक विमर्शों की भी उसे अद्यतन जानकारी होनी चाहिए। इसके लिए उन्होंने शोधार्थी और शोधनिर्देशक दोनों ही के लिए विपुल स्वाध्याय को आवश्यक बताया।


अंग्रेज़ी एवं विदेशी भाषा विश्वविद्यालय (इफ्लू) के रूसी विभाग के आचार्य डॉ. जे.पी. डिमरी ने ''भाषाविज्ञान विषयक शोध'' की दिशाएँ उद्घाटित करते हुए कहा कि सैद्धांतिक भाषाविज्ञान और अनुप्रयुक्त भाषाविज्ञान दोनों क्षेत्रों में अभी अनेकविध शोध संभव है। उन्होंने कहा कि भाषा जीवंत है अतः इसके प्रवाह में भिन्न-भिन्न प्रकार के परिवर्तन घटित होते हैं , यों हिंदी के संदर्भ में लिंग, ध्वनि, कारक, परसर्ग आदि से संबंधित ऐसे परिवर्तनों का नए-नए सिद्धांतों के आधार पर विवेचन वांछित है। इसके अतिरिक्त उन्होंने शैलीविज्ञान, अनुवाद प्रक्रिया, अनुवाद समीक्षा, कोश निर्माण और त्रुटि विश्लेषण जैसे चुनौतीपूर्ण क्षेत्रों की ओर भी शोधार्थियों का ध्यान आकर्षित किया।


'स्वतंत्र वार्ता' के संपादक डॉ. राधेश्याम शुक्ल ने ''हिंदी पत्रकारिता / जनसंचार विषयक शोध'' की दिशाओं की व्याख्या करते हुए पत्रकारिता और समकालीनता के संबंध को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि हिंदी भाषा की सम्प्रेषणीयता और ज्ञान-विज्ञान के विविध विषयों को अभिव्यक्त करने की क्षमता को जनसंचार विषयक शोध के माध्यम से उजागर किए जाने की आवश्यकता है। डॉ. शुक्ल ने इस बात पर बल दिया कि शोध का कार्य उपाधि प्राप्त होने से रुकना नहीं चाहिए, बल्कि शोधार्थी को अपनी शोधदृष्टि का विस्तार करना चाहिए क्योंकि शोध की प्रक्रिया निरंतर चलनेवाली प्रक्रिया है।


साथ ही डॉ. राधेश्याम शुक्ल ने दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, आंध्र की मासिक पत्रिका 'स्रवंति' के स्वतंत्रता दिवस अंक का लोकार्पण भी किया।


आरंभ में अतिथियों ने सरस्वतीदीप प्रज्वलित करके संगोष्ठी का उद्घाटन किया। सुशीला ने मंगलाचरण किया। संस्थान के प्राध्यापकों डॉ. मृत्युंजय सिंह, डॉ. पी. श्रीनिवास राव, डॉ. बलविंदर कौर और डॉ. जी. नीरजा ने अतिथियों का स्वागत किया। इस अवसर पर संस्थान के सभी शोधनिर्देशकों को स्मृतिचिह्न द्वारा सम्मानित भी किया गया। हेमंता बिष्ट, सुचित्रा, हेमलता, फूलमती गिरि , एस. वंदना, प्रतिभा, सुशीला, स्वाति सुलभ, मोनिका देवी, निधि कुमारी, आशा, सिसना सी.एस., चंदन कुमारी, शांताकुमारी, जयप्रदा, अर्पणा साहू, जे. श्रीनिवास राव, गायकवाड भगवान, रणजा नायक, जे.जे. प्रसन्न सिंह, पी. श्रीलेखा, चंद्रभूषण, अजय कुमार, नम्मि अप्पलनायुडु, अर्पणा दीप्ति, अंजली मेहता तथा एन पवित्रा आदि छात्रों और शोधार्थियों ने चर्चा-परिचर्चा में भागीदारी निभाई। संगोष्ठी का संचालन रीडर डॉ. साहिराबानू बी. बोरगल ने किया। एम.फिल. शोधार्थी निधि कुमारी ने धन्यवाद ज्ञापित किया।




एक टिप्पणी भेजें