समर्थक

शनिवार, 10 मार्च 2012

धारवाड में दूरस्थ शिक्षा का प्रशिक्षण शिविर


इधर कई वर्षों से जनवरी से लेकर मार्च तक इतनी संगोष्ठियों आदि में जाना पड़ रहा है कि कभी-कभी तो लगता है जैसे अपने छात्रों और शोधार्थियों के साथ अन्याय न हो जाय - इस अपराधबोध से बचने के लिए उन्हें अतिरिक्त समय देना भी मानो रूटीन बन गया है. लेकिन इन संगोष्ठियों को छोड़ा भी तो नहीं जा सकता - इसी बहाने अपनी कुछ मंजाई का मौका मिलता है. अभी पिछले दिनों कष्टकर बस-यात्रा के बावजूद धारवाड और  बीजापुर की राष्ट्रीय संगोष्ठियां इस लिहाज़ से खूब फलदायी रहीं. 

धारवाड में तो दो दिन (27-28 फ़रवरी, 2012) में आठ सत्रों में दूरस्थ माध्यम की शिक्षा पर लगभग प्रशिक्षण शिविर ही हो गया. फ्लाइटें कैंसिल होने के कारण कई विद्वान आ नहीं सके , लेकिन प्रो. दिलीप सिंह जी और प्रो. एम. वेंकटेश्वर जी ने प्रत्येक सत्र को अपने सटीक हस्तक्षेप से इतना परिपूर्ण बना दिया कि किसी की कमी कतई नहीं खटकी. 


एक टिप्पणी भेजें