समर्थक

मंगलवार, 19 अक्तूबर 2010

बिन दाढी सब सून!

1 टिप्पणी:

cmpershad ने कहा…

मूंछ हो तो नाथूलाल जैसी :)