समर्थक

शनिवार, 17 अक्तूबर 2009

दीपावली २००९


आलोकपर्व मंगलमय हो !
नहीं कहीं कोई भय हो !!
शत्रुबुद्धिविनाशक दीपक -
ज्योति जगे ! जय हो!! जय हो !!!

एक टिप्पणी भेजें