फ़ॉलोअर

रविवार, 4 अप्रैल 2021

भूमिका : यादों की पंखुड़ियों पर (सुषमा बैद)

 

भूमिका 

   

हैदराबाद के मंचों की चर्चित कवयित्री सुषमा बैद ने एक गृहिणी के रूप में निरंतर लेखन का निजी कीर्तिमान बनाया है। वे अपनी सतत लेखन यात्रा की स्वर्ण जयंती मना रही हैं। इस अवसर पर प्रस्तुत उनका यह कविता संग्रह यादों की पंखुड़ियों पर... अपनी संवेदनशीलता और भावुकता के कारण पाठक के मन को विचलित करने में समर्थ है। इस संग्रह को उन्होंने अपने दिवंगत जीवन-साथी निर्मल कुमार बैद जी की स्मृतियों को समर्पित किया है। स्वाभाविक है कि इसके प्रत्येक पृष्ठ पर उनके आँसुओं की कथा अंकित है। 

बहुत बार रचनाकारों से पूछा जाता है कि वे कविता क्यों करते हैं, या कि कविता रचने से उन्हें क्या मिलता है। इस तरह के प्रश्नों के अनेक उत्तर समय समय पर दिए जाते रहे हैं। परंतु इस संकलन की कवयित्री के लिए अपने भावों को प्रकट करने के अलावा लेखन का एक बड़ा प्रयोजन दुख झेलने की ताकत बटोरना भी है। कविता, या कहें कि सृजनात्मकता, अपने आप में वह बड़ी ताकत है, जो व्यक्ति को कष्टों के बीच जीने का सहारा देती है। शोक, दुख, त्रास और पीड़ा जब किसी व्यक्ति की छाती पर कुंडली मारकर बैठे हों, तो खिन्नता और अवसाद से निकलने का एक मार्ग कविता रचना भी है। कहना न होगा कि प्रस्तुत कृति के मूल में यही प्रयोजन सक्रिय है। 

कहा जाता है कि सबसे ईमानदार कविता वही होती है, जो दुख से उपजती है। शोक और करुणा इस संग्रह में आदि से अंत तक प्रवाहित हैं। इन रचनाओं में कलात्मकता हो या न हो, स्वानुभूति की ईमानदारी हर कहीं झलकती है। इनमें विरह वेदना अपने सच्चे रूप में प्रकट हुई है। विरह के तीन कारण माने जाते हैं – मान, प्रवास और मृत्यु। मृत्यु जनित विरह सर्वाधिक त्रासद और कारुणिक होता है। कवयित्री ने इसी करुणा और त्रास की अभिव्यक्ति इन रचनाओं में अलग अलग प्रकार से की है। कवयित्री को लगता है कि साथ-साथ लंबी जीवन यात्रा के बावजूद पता नहीं क्यों प्रिय ने प्रेम संबंध को एक पल में तोड़ दिया। उन्हें इस प्रश्न का उत्तर नहीं मिलता कि दिन-रात की निकटता के बावजूद प्रिय ने अचानक मुँह क्यों मोड़ लिया। भारतीय परिवार व्यवस्था में स्त्री सदा स्वयं को पति के सबल हाथों में सुरक्षित अनुभव करती है और सुख-दुख साथ साथ सहने को तत्पर रहती है। लेकिन पति का निधन उसे बिना माँझी की नाव जैसे असुरक्षा भाव से भर देता है। ऐसे में सुखमय जीवन की यादें उसे और भी कचोटती हैं और उसे लगता है कि रणभूमि में लड़ता हुआ एक योद्धा उसे एकाकी छोड़कर चला गया है। वह अपने आप को समय के हाथों छली गई महसूस करती है। यह सोच सोच कर कवयित्री रोती रहती है कि अंतिम दिनों में प्रतिक्षण पति के साथ रहते हुए भी जैसे ही कुछ पल के लिए वह किसी और कार्य में व्यस्त हुई, तभी मृत्यु ने पति के प्राण हर लिए। उसे  लगता है कि प्रिय ने सोचा होगा, यह मेरे चिर वियोग को सह न सकेगी! 

चिर वियोग से पार पाने का एक ही सहारा विरहिणी के पास होता है – बीते दिनों की यादें। यह सोच सोच कर कवयित्री को कैसा तो लगता होगा कि अंतिम विदा से पहले पति ने बार बार यह कहा था कि मेरी मृत्यु के बाद भी सौभाग्य के चिह्नों को न उतारना, सदा सुहागिन बनकर रहना, क्योंकि मैं जहाँ कहीं भी रहूँ, सदा तुम्हें प्रसन्न देखना चाहूँगा! इन यादों में डूबी हुई कवयित्री अपनी कविताओं के माध्यम से बार-बार अपने प्रिय को आवाज़ देती है – एक बार आ जाओ। वह कहती है- मैं चुपचाप अकेली जी रही हूँ, बहुत तन्हा हो गई हूँ, तुम्हारे पास रहना चाहती हूँ, तुम्हारे लिए रचनाएँ लिख रही हूँ; तुम चले आओ, तुम्हारा हाथ छूटने से मेरा दिल बहुत घबराता है! कवयित्री बहुत चाहती है कि समय अतीत में वहीं जाकर ठहर जाए, जहाँ दोनों साथ साथ थे। लेकिन अब समय रो-रोकर काटना पड़ रहा है। कभी-कभी उसे लगता है कि इस तरह घुट-घुटकर और नहीं जिया जा सकता। लेकिन मजबूरी यह है कि कहीं दूर दूर तक कोई ऐसा नहीं, जिससे मन की वेदना कही जा सके। कहीं कोई ऐसा नहीं दीखता, जो इस निराश्रित हाथ को थाम ले। यही वह समय है, जब भारतीय स्त्री के जीवन में चुटकी भर सिंदूर की भारी कीमत का पता चलता है! 

कवयित्री ने अपनी संवेदनाओं के संसार को बच्चों के स्नेह से पुष्पित-पल्लवित करना चाहा है। ऐसे में उन्हें बेटी का स्नेह बहुत संबल देता है। उन्हें लगता है कि पूरे जगत में बेटी ही है – जो सुख दुख में साथ होती है, संस्कारों के बीज लिए होती है, घर आँगन में चिड़िया की तरह फुदकती है, माँ-बाप के नयनों की ज्योति होती है। वही है, जो देर रात तक बाट जोहती है। लेकिन यह भी सच है कि हमारी परिवार व्यवस्था में बेटी चार दिनों की मेहमान भर होती है। फिर भी कवयित्री को संतोष है कि बेटी सबके दिलों में प्यार बोती है। इसी भरोसे कवयित्री अक्सर यादों को सिराहने रख कर सो जाती हैं। यादों के काफिले अनव्ररत चलते हैं और तकिया आँसुओं से सींचा जाता रहता है। अकेलेपन की इस यात्रा में सुख-चैन भला कहाँ? बस, हरदम यादों के समुद्र में डूबते चले जाना है। कवयित्री शेष जीवन सुख-शांति से जीना चाहती है और यह भी जानती है कि एक दिन उसे भी स्वयं सदा-सदा के लिए दूसरी दुनिया में चले जाना है। वैसे भी यह स्वार्थी दुनिया रहने योग्य नहीं लगती। इसलिए हिचकी और आँसू को ही उसने साथी बना लिया है। उसे मालूम है कि जीवन की गाड़ी एक पहिये से ज़्यादा दूर तक नहीं खींची जा सकती। फिर भी यादों के सहारे चलते तो रहना ही है- क्योंकि यही तो प्यार है!

आशा है, कवयित्री सुषमा बैद की अन्य कृतियों की भाँति उनके इस संग्रह को भी पाठकों का भरपूर प्यार मिलेगा। 

शुभकामनाओं सहित, 

  • ऋषभदेव शर्मा  

पूर्व आचार्य एवं अध्यक्ष, 

उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, 

दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद 

मो. 8074742572

1 टिप्पणी:

Rahul ने कहा…

What an Article Sir! I am impressed with your content. I wish to be like you. After your article, I have installed Grammarly in my Chrome Browser and it is very nice.
unique manufacturing business ideas in india
New business ideas in rajasthan in hindi
blog seo
business ideas
hindi tech