समर्थक

रविवार, 17 फ़रवरी 2013

प्यार (कवितापाठ)

5 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

सुन्दर -
आभार आदरणीय ||

Viswanadhachary ने कहा…

मनोहर ....सर..

ऋषभ देव शर्मा ने कहा…

@रविकर
@Viswanadhachary

ध्यान देने के लिए आभारी हूँ.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

पहली बार फूल को अपने होने पर सुख हुआ होगा..यही प्यार है।
बहुत संवेदनशील..

ऋषभ देव शर्मा ने कहा…

@प्रवीण पाण्डेय

धन्यवाद भाई प्रवीण जी.