समर्थक

शुक्रवार, 22 अक्तूबर 2010

चेखव की १५० वीं वर्षगाँठ पर दो-दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी संपन्न




अनुवादक का द्वि-सांस्कृतिक होना बेहद ज़रूरी : योगेश भटनागर

हैदराबाद, २१ अक्टूबर २०१०.

"वर्तमान वैश्विक परिदृश्य में अनुवाद का महत्व पहले की अपेक्षा कहीं अधिक है. साहित्य के अनुवाद के माध्यम से हम केवल किसी अन्य भाषा के लेखन से ही परिचित नहीं होते बल्कि उस भाषा समाज की सामजिक-सांस्कृतिक परंपराओं  और विशेषताओं से भी परिचित होते हैं. अनुवादक एक भाषा में रचित साहित्य के अर्थ और रूप  भर को नहीं बल्कि उसके मूल्यों और सरोकारों को भी दूसरी भाषा में प्रकट करने का दायित्व निभाता है. ऐसा करने के लिए उसका द्विभाषिक के साथ साथ द्विसांस्कृतिक होना भी अपरिहार्य शर्त है. इस स्तर पर साहित्य का अनुवादक मात्र अनुसरणकर्ता  नहीं होता बल्कि मौलिक लेखक की भाँति ही सृजनकर्ता होता है."

ये विचार अंग्रेजी और विदेशी भाषा विश्वविद्यालय  के रूसी अध्ययन संकाय के तत्वावधान में संपन्न 'चेखव का अनुवाद' विषयक द्वि-दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के समापन अवसर पर बोलते हुए प्रमुख चेखवविद लेखक और अनुवादक प्रो.योगेश चन्द्र भटनागर ने व्यक्त किये.

समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए प्रो.जगदीश प्रसाद डिमरी ने बताया कि  इस संगोष्ठी-कार्यशाला में स्वीकृत किए  गए विभिन्न भाषाओं के अनुवादों को शीघ्र ही पुस्तकाकार प्रकाशित किया जाएगा. उन्होंने इसे समारोह की उपलब्धि और सफलता माना कि इसमें जहाँ एक ओर २० वरिष्ठ अनुवादक सम्मिलित हुए वहीं  इसके माध्यम से नए चेहरे के रूप में ११ युवा अनुवादक भी सामने आए जो हिंदी तथा अन्य भारतीय भाषाओं में रूसी भाषा से सीधे अनुवाद की संभावनाओं के विस्तार का सूचक है.

उल्लेखनीय है कि दो दिन के इस समारोह में ६ अलग-अलग समूहों में ३२ अनुवादकों द्वारा विभिन्न भारतीय भाषाओं में किये गए चेखव के १२ छोटे-बड़े नाटकों के अनुवादों का विश्लेषण करके उन्हें अंतिम रूप दिया गया. इस कार्य में द्विभाषिक विद्वानों के साथ साथ लक्ष्य भाषाओं हिंदी, मलयालम, तेलुगु, मराठी, ओडिया और बांग्ला  के मातृभाषा-भाषी विशेषज्ञों का भी सहयोग लिया गया.


चेखव के भारतीय विशेषज्ञ प्रो.शंकर बसु, प्रो.योगेश भटनागर, प्रो.वरयाम सिंह और प्रो.पंकज मालवीय की उपस्थिति सभी प्रतिभागियों के लिए अत्यंत प्रेरणा-दायक रही.

कार्यशाला का निर्देशन प्रो.चारुमति रामदास तथा संयोजन डॉ.सत्यभान सिंह राजपूत ने किया. धन्यवाद ज्ञापन प्रो.मोनिका ने किया.

गुरुवार, 21 अक्तूबर 2010

रूसी साहित्यकार चेखव के १२ नाटकों के ६ भारतीय भाषाओं में अनुवाद हेतु कार्यशाला



अंग्रेज़ी एवं विदेशी भाषा विश्वविद्यालय में द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी उद्घाटित 
हैदराबाद, २० अक्टूबर.


विश्वप्रसिद्ध रूसी कथालेखक एवं नाटककार चेखव की १५० वीं वर्षगाँठ  के उपलक्ष्य में  आज यहाँ अंग्रेजी एवं विदेशी भाषा विश्वविद्यालय  के  परिसर में  रूसी भाषा विभाग के तत्वावधान में आयोजित ''चेखव का अनुवाद '' विषयक द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं कार्यशाला का उद्घाटन प्रसिद्ध  भारतीय चेखवविद  तथा जेएनयू के अधिष्ठाता प्रो. शंकर बसु ने   किया. उन्होंने चेखव की रचनागत विशेषताओं का उल्लेख करते हुए उन्हें मानवीय संवेदना के अप्रतिम चितेरे की संज्ञा दी . 

उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता रूसी अध्ययन संकाय के डीन प्रो.आर.डी.अकेला ने की और बताया कि इस आयोजन में चेखव के एक पूर्णाकार तथा ११ एकांकी नाटकों के रूसी से सीधे हिंदी ,मराठी ,तेलुगु, बंगला,ओडिया और मलयालम भाषाओं में संपन्न अनुवादों का विश्लेषण करके उन्हें अंतिम रूप दिया जाएगा जो अपने आप में एक कीर्तिमान होगा.

बीज भाषण सुप्रसिद्ध कवि एवं अनुवादक प्रो. वरयाम सिंह , जेएनयू , ने दिया. प्रो. सिंह ने कहा कि चेखव केवल रूसी लेखक ही नहीं थे, वे अपने समय में ही   भौगोलिक सीमाओं को लांघ चुके थे क्योंकि उनकी रचनाओं की विषयवस्तु और उनके पात्र चिरंतन हैं. इस अवसर पर संबोधित करते हुए दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा के प्रो. ऋषभ देव शर्मा ने कहा कि हिंदीजगत के भारतेंदु हरिश्चंद्र और जयशंकर प्रसाद जैसे साहित्यकारों की भाँति चेखव भी ऐसे रचनाकार हैं जिन्होंने अकालमृत्यु   के बावजूद कालजयी  सिद्ध हुए हैं.

समारोह की संयोजक डॉ. चारुमति रामदास ने बताया कि इस कार्यक्रम में ३२ अनुवादक भाग ले रहे हैं जिनमें ११ नए चेहरे हैं. विविध भारतीय भाषाओं में इनके द्वारा किए गए अनुवादों का विश्लेषण करने के लिए  द्विभाषाविदों के साथ साथ विशेष रूप लक्ष्य भाषा के विद्वानों को भी आमंत्रित किया गया है ताकि अनूदित पाठों  को लक्ष्य भाषाओं के मुहावरे में ढाला जा सके. 

उद्घाटन सत्र के बाद छः समानांतर समूहों में कार्यशाला आरम्भ हुई. दो दिन में   कार्यशाला के चार सत्र होंगे. 

समापन गुरुवार को प्रो. जे. पी. डिमरी की अध्यक्षता में संपन्न होगा. समाकलन व्याख्यान प्रसिद्ध चेखवविद , लेखक और अनुवादक प्रो. योगेश भटनागर , भूतपूर्व आचार्य - जेएनयू, देंगे. समारोह में हैदराबाद के अतिरिक्त  गुवाहाटी, नागपुर, पुणे ,लखनऊ, कोल्हापुर, आगरा , अमृतसर, चंडीगढ़, भंडारा, कोलकाता बनारस, रीवां, दिल्ली, तिरुवनंत पुरम, इलाहाबाद और  औरंगाबाद आदि स्थानों से आए हुए अनुवादक और विशेषज्ञ विद्वान् सम्मिलित हैं.  

 चित्र परिचय : 
अंग्रेजी एवं विदेशी भाषा विश्वविद्यालय में आयोजित 'चेखव का अनुवाद' विषयक द्वि-दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं कार्यशाला के उद्घाटन के अवसर पर - 
चित्र एक : (बाएं से) प्रो.ऋषभ देव शर्मा, प्रो.वरयाम सिंह, प्रो.शंकर बसु एवं प्रो.आर.डी.अकेला. 
चित्र दो : (बाएं से) प्रो.चारुमति रामदास(माइक पर), प्रो.ऋषभ देव शर्मा, प्रो.वरयाम सिंह, प्रो.शंकर बसु एवं प्रो.आर.डी.अकेला

मंगलवार, 19 अक्तूबर 2010

वेमूरि आंजनेय शर्मा स्मारक पुरस्कार समारोह संपन्न


दाएँ से - प्रो. हरिनारायण शर्मा, डॉ. हरिश्चंद्र विद्यार्थी, मोदलि नागभूषण शर्मा, पुल्लेल श्रीरामचंद्रुडु, पोत्तूरि वेंकटेश्वर  राव,
 विद्यानाथ शास्त्री और डॉ. पेरिशेट्टी  श्रीनिवास राव 

वेमूरि आंजनेय शर्मा स्मारक पुरस्कार समारोह संपन्न

हैदराबाद, 17अक्तूबर, 2010 .

प्रतिष्ठित हिंदी सेवी स्व. वेमूरि आंजनेय शर्मा के 94वें जयंती समारोह के अवसर पर श्री वेमूरि आंजनेय शर्मा स्मारक ट्रस्ट द्वारा वर्ष 2010 के स्मारक पुरस्कार प्रदान किए गए। जयंती एवं पुरस्कार समारोह यहाँ रवींद्र भारती में प्रबंधक न्यासी प्रो. वेमूरि हरिनारायण शर्मा की अध्यक्षता में संपन्न हुआ। इस अवसर पर वरिष्ठ तेलुगु पत्रकार पोत्तूरि वेंकटे
श्वर 
राव मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। 

स्मरणीय है कि ट्रस्ट द्वारा प्रति वर्ष तेलुगु साहित्य, हिंदी साहित्य और अभिनय जगत में उल्लेखनीय योगदान के लिए दस-दस हजार रुपये के तीन नकद पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किए जाते हैं। इस वर्ष तेलुगु साहित्य के लिए यह पुरस्कार 83 वर्षीय वरिष्ठ साहित्यकार महामहोपाध्याय डॉ. पुल्लेल श्रीरामचंद्रुडु को प्रदान किया गया, जिन्होंने तेलुगु तथा संस्कृत साहित्य को अपनी मौलिक तथा अनूदित रचनाओं से सुसंपन्न किया है 
। 
हिंदी साहित्य के लिए इस वर्ष ‘राष्ट्र नायक’ पत्रिका के संपादक 75 वर्षीय डॉ. 
हरिश्चंद्र
 विद्यार्थी को हैदराबाद में हिंदी भाषा, साहित्य और पत्रकारिता के उन्नयन के लिए दिया गया। इसी प्रकार प्रसिद्ध तेलुगु रंगकर्मी 75 वर्षीय डॉ. मोदलि नागभूषण शर्मा को अभिनय जगत में योगदान के लिए पुरस्कृत किया गया। इसके अतिरिक्त न्यास की ओर से विभिन्न छात्र-छात्राओं को 'प्रतिभा 
पुर
स्कार' और ‘सरस्वती पुरस्कार’ भी वितरित किए गए। 

आरंभ में मुख्य अतिथि पोत्तूरि वेंकटेश्वर राव ने मट्टपर्ति वीरांजनेयुलु द्वारा चित्रित वेमूरि आंजनेय शर्मा के विशाल तैलचित्र को लोकार्पित किया। इस अवसर पर संबोधित करते हुए पोत्तूरि 
वेंकटेश्वर 
राव ने कहा कि वेमूरि आंजनेय शर्मा ने अपना पूरा जीवन हिंदी की सेवा और भारतीय भाषाओं के बीच समन्वय के कार्य के लिए समर्पित कर दिया,  अतः वे सही अर्थों में दक्षिण और उत्तर के सामाजिक-सांस्कृतिक सेतु के निर्माता थे। डॉ. पोत्तूरि ने आंजनेय शर्मा जी द्वारा दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा के माध्यम से राष्ट्रीय अखंडता  और सामासिक संस्कृति के संरक्षण के लिए किए गए प्रयासों का स्मरण करते हुए उन्हें नई पीढ़ी के लिए अनुकरणीय और आदर्श बताया। 

पुरस्कृत विद्वानों को समर्पित किए गए प्रशस्ति पत्रों का वाचन विद्यानाथ शास्त्री, कृष्णमूर्ति और ज्योत्स्ना कुमारी ने किया। समारोह का संचालन डॉ. 
पेरिशेट्टी 
श्रीनिवास राव ने किया। 

बिन दाढी सब सून!

शनिवार, 16 अक्तूबर 2010

गांधी जी सफलतम ब्लॉगर हुए होते : वर्धा आयोजन का भरत वाक्य



अभी ९-१० अक्टूबर २०१०  को महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय में दो दिन का आयोजन था - हिंदी ब्लॉगिंग की आचार संहिता पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी और कार्यशाला. अपने कस्बाई काम्प्लेक्स के कारण मैं ऐसे आयोजनों से कन्नी काट जाया करता हूँ जहाँ महान व्यक्तित्व पधार रहे हों - चाहे सचमुच के या फिर भरम के. इस आयोजन के बारे में भी मन  में द्वंद्व था - जाऊँ या न जाऊँ. न जाने का जेनुइन कारण भी उपस्थित था - हमारे संस्थान में दूरस्थ माध्यम के छात्रों का संपर्क कार्यक्रम. पर मुझे इनकार करके भी जाना पड़ा - सिद्धार्थ जी [संयोजक] के आग्रह को टालना संभव नहीं था मेरे लिए. उन्होंने जब फोन पर पहला ही वाक्य कहा- 'आपके निर्णय ने तो मुझे उदास कर दिया' - तो उनकी आवाज़ से  लगा कि वे सच बोल रहे हैं, औपचारिकता नहीं निभा रहे. सोचा - जाना पड़ेगा ही शायद. और जब उन्होंने मेरे बताए सब कारणों को निरस्त करते हुए कहा - 'मैं आपका आना निश्चित मान कर चल रहा हूँ' - तो लगा, किसी ने बहुत आत्मीयता से हथेली पर उष्ण सा दबाव दिया हो. ऊपर से कविता जी के फोन और ईमेल ने मेरे लिए कुछ कहने की गुंजाइश ही नहीं छोडी.

दो गाड़ियों का आरक्षण कराया था. उस दिन सवेरे आठ बजे बेटी ने  स्थान कन्फर्म होने की बात कही तो मैंने सोचा - रात १० बजे वाली गाडी है,और प्रथम नवरात्र की औपचारिकताओं में लग गया. लेकिन मेरी हालत उस वक़्त शायद देखने लायक रही होगी जब मुझे बताया  गया कि गाड़ी  दिन के १० बजे है. जेट स्पीड  से तैयार होकर भागना पड़ा. भला हो उस अपरिचित भले आदमी का जिसने मुझे लिफ्ट दे दी वरना स्कूल का समय होने के कारण कोई भी ऑटो चलने को तैयार न था. इसीलिए घर से निकलते वक़्त बेटी को देवीस्वरूप मानते हुए चरणस्पर्श किए थे  और मन ही मन माँगा था  कि गाड़ी छूट न जाए. वह मेरे इस आचरण पर पहले तनिक हकबकाई , और फिर हँस दी.

गाड़ी पकड़ी गई तो  जान में जान आई. वर्धा उतरते ही शोधार्थी जोशी जी ने मुझे सहज ही चीन्ह लिया और फादर कामिल बुल्के के नाम पर स्थापित अतिथिशाला में प्रस्थापित कर दिया. उस समय वहाँ खुले में कुछ ज़ोरदार चर्चा चल रही थी. मैंने अनुमान  किया कि अवश्य ही यह 'आज की कहानी के सरोकार' पर गोष्ठी होगे जिसकी सूचना गत दिन कविता जी दे चुकी थीं. मैं शामिल नहीं था पर अच्छा लगा विद्वानों को इस तरह साहित्यचर्चा में शाम बिताते देखकर. 

गोष्ठी से छूटते ही  कविता जी आईं. मुझे उनके कुछ महीने पहले के एक्सीडेंट की जानकारी थी; फिर भी उन्हें छड़ी के सहारे धीरे धीरे संभल संभल कर चलते देखना मेरे लिए सहज नहीं था. मैं धक् से रह गया. अभिवादनादि का भी शायद मैं ठीक से उत्तर न दे पाया होऊँ, क्योंकि मेरी इच्छा हो रही थी कि आयु में बड़े होने के अधिकार के साथ उन्हें खूब डाँटूं. [पर नहीं, मैंने वापस लौटने तक भी एक बार भी उनसे उस दुर्घटना की चर्चा तक नहीं उठाई.] कविता जी अनेक वर्षों बाद इतनी प्रसन्न और उत्साहपूर्ण दिखीं  - उनकी बिटिया का रिश्ता तय हो गया है न! [ अभी कल ही की तो बात लगती है जब पहली बार घर जाने पर उसने मुझे बेहद संकोच के साथ अपनी पहली कविता दिखाई थी - और छोटी सी हथेली भी!]

सिद्धार्थ जी आए. गले मिले और प्रथम परिचय में ही इतने अपने लगे कि अब तक विस्मित हूँ. मैंने उन्हें आर्यसमाजी समझा था - उनका ब्लॉग है न 'सत्यार्थ मित्र' [ 'सत्यार्थ प्रकाश' की याद दिलाने वाला नाम.बाद में जाना कि सत्यार्थ उनके सुपुत्र का शुभनाम है.] मेरे उपवास का मज़ाक उड़ाया जा सकता है और मूर्तिपूजा के खिलाफ उपदेश भी दिया जा सकता है - इसका पूरा खतरा था. संकोच सहित मैंने भूमिका बनाई कि प्रगतिशील होते हुए भी कुछ मामलों में रूढ़िग्रस्त हूँ. पर जब उन्होंने बताया कि वे स्वयं नवरात्र का उपवास रखे हुए हैं तो दुविधा मिट गई. मुझे उन्होंने अपने आवास पर फलाहार के लिए आमंत्रित किया तो कविता जी ने लगभग चहकते हुए कहा - 'वहाँ आपको देवी के दर्शन होंगे'. और ये पंक्तियाँ लिखने का मेरा उद्देश्य इतना भर है कि यह स्वीकार करूँ कि सचमुच सिद्धार्थ जी के घर में मैंने देवी के दर्शन किए. सौभाग्यवती रचना अत्यंत सौम्य हैं - बेहद स्नेहमयी. इस  तरह उन्होंने स्वागत किया कि वात्सल्य ने मुझे औपचारिक शिष्टाचार का अतिक्रमण करने को बाध्य कर दिया - मैं हर आयु की महिला को बरसों मैडम कहते रहने का अभ्यासी हूँ पर श्रीमती त्रिपाठी को मैंने कुछ ही मिनटों में कई बार बेटी [बेटा] कहकर संबोधित किया -  खासकर जब वे और फलादि लेने के लिए आग्रह कर रही थीं .

और हाँ , याद आया - सिद्धार्थ जी ने सेब और मौसमी अपने हाथों छीले और काटे. वे बड़ी तन्मयता से यह कार्य कर रहे थे. मुझे देखते देखा तो बताने लगे कि उन्हें किसी के भी काटे फल पसंद नहीं आते. इस पर मैंने खाद्य पदार्थों के सौंदर्यशास्त्र पर एक संक्षिप्त प्रवचन दे डाला जिसे आतिथेय दंपति ने अत्यंत श्रद्धा से सुनकर अपनी सहिष्णुता का परिचय दिया. साबूदाने की खीर और सेंधा नमक से सुवासित आलू का स्वाद दिव्य था. मैं धन्यता की अनुभूति में गद्गद  था.

कुछ देर घरेलू बातचीत करके अतिथिगृह लौटने पर आलोकधन्वा जी और जय कुमार झा जी के सत्संग का लाभ लिया. आलोकधन्वा बड़े कवि हैं, लेकिन सहज मनुष्य. वेणुगोपाल जी का उल्लेख करते ही खुल पड़े.उन्हें अगले दिन  संगोष्ठी के मंच पर सुना, और शाम को कविगोष्ठी में भी.कुछ तेवरियों के अंश सुनाने का मौका मुझे भी मिला. मुझे सदा अचरज रहेगा कि इतने बड़े कवि ने तीसरे दिन विदा के समय मेरी दो पंक्तियाँ दुहराते हुए रचनाधर्म का स्मरण कराया - 'बर्फ पिघलाना ज़रूरी हो गया चूँकि / चेतना की हर नदी पर्वत दबाता है.' दरअसल उन्होंने बहुत ध्यान से सबकी कविताएँ सुनी थीं.कविता जी को तो उन्होंने विधिवत कवि घोषित  किया. प्रियंकर पालीवाल जी की कविताएँ मुझे ख़ास लगीं. हमारे कई बड़े कवियों की कविताओं के अलावा जब रवि नागर जी ने एक पाकिस्तानी कवयित्री की रचना हारमोनियम पर सुनाई - '' सीता को देखे सारा गाँव / आग पे कैसे धरेगी पाँव'' - तो मन भीतर तक भींज सा गया. मेरी इच्छा हुई एक पल को कि नागर जी को कंधे पर उठाकर गोल गोल दौडूँ. पर बात मन में ही रखनी पडी क्योंकि अपनी ताक़त का मुझे अनुमान है!

दो दिन के आयोजन में कई नए मित्र बने. शायद उन सबसे भविष्य में परोक्ष या अपरोक्ष संपर्क बना रहे. फिलहाल नाम परिगणन करना औपचारिक लगेगा. पर कई पुराने मित्र भी मिले. प्रो.कृष्ण  कुमार सिंह भी उतने ही भाव विभोर थे जितना मैं. प्रो.ए. अरविन्दाक्षन वहाँ प्रतिकुलपति हैं ,लेकिन कोच्चिं की यादों के साथ बेहद अपनेपन से बतियाए. उन्होंने ही संगोष्ठी के उद्घाटन  सत्र में सबका स्वागत किया - ह्रदय की भाषा में. विस्मय है कि कुछ मित्रों ने उनके उच्चारण में मलयालम के संस्पर्श पर विनोद किया है, यदि वे अरविन्दाक्षन जी के मौलिक और अनूदित साहित्य से परिचित होते तो उनकी टोन कुछ और होती. हिंदीवालों की हठधर्मिता  और स्वयं को बिग ब्रदर समझने की प्रवृत्ति ने पहले ही हिंदी का बहुत नुकसान कर लिया है - ब्लॉगर मित्रों को इसे जानना चाहिए. उद्घाटन कुलपति विभूति नारायण राय जी ने किया . बढ़िया बोले - दो टूक बातें, ब्लॉगर बिरादरी की अपेक्षा प्रभावित पक्षकार की तरह. मुझे अध्यक्ष के नाते उनके निकट कुछ देर बैठने का अवसर मिला तो मैंने १९८४ के नजीबाबाद के लेखक सम्मलेन की याद दिलाई जो बाबा नागार्जुन के संरक्षण में संपन्न हुआ था. इस बहाने 'उन्नयन' के संपादक श्रीप्रकाश मिश्र जी का भी सन्दर्भ आ गया. 

संगोष्ठी और कार्यशाला की गतिविधि और उपलब्धि पर अलग से लिखा जा चुका  है. यहाँ इतना भर कि आयोजकों ने महात्मा  गांधी के नाम पर खड़े किए गए  हिंदी विश्वविद्यालय की परिक्रमा कराने के साथ ही सेवाग्राम स्थित बापू कुटी और पवनार स्थित विनोबा आश्रम के दर्शन की भी व्यवस्था की थी. बड़े तडके उठकर सब साथी तैयार हो गए. उत्साह सभी का देखने लायक था.खास करके प्रो.अनीता कुमार, डॉ.अजीत गुप्ता,अनूप शुक्ल, गायत्री शर्मा, सुरेश चिपलूणकर, अशोक कुमार मिश्र, अविनाश वाचस्पति , विवेक सिंह, रवींद्र प्रभात और शैलेश भारतवासी अत्यंत उत्सुक दिखे. पूरे रास्ते सभी चीख चीख कर गांधी दर्शन पर चर्चा करते रहे.सभी दोनों ऐतिहासिक स्थलों से अभिभूत थे. गांधी जी  की प्रगतिशीलता पर काफी विचार विमर्श चला और कई चिट्ठाकारों ने यह सामूहिक निष्कर्ष दिया कि - यदि गांधी जी आज के समय में  होते तो वे सफलतम ब्लॉगर हुए होते क्योंकि उन्हें जनसंचार माध्यमों की शक्ति की पहचान थी और वे इनका देशहित में सटीक उपयोग करना जानते थे.

दस अक्टूबर की सांझ बड़ी भारी थी. और भी भारी बना दिया उसे सिद्धार्थ-रचना दंपति के निश्छल शिशुवत आचरण ने. दोनों ने हर साथी के साथ खड़े होकर बीसियों फोटो खिंचवाए. हम लोग गोल दायरे में बैठे थे. वे दोनों एक एक के पीछे आकर खड़े होते और फोटो खिंचवाते. इतना ही नहीं जो मित्र अपने कमरों में थे, उनके साथ फोटो के लिए कमरे में पहुँच  गए. होगा यह आयोजन विश्वविद्यालय का , पर हमारे लिए तो यह शुद्ध रूप से सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी जी के परिवार का उत्सव बन गया. यहाँ तक ही बस नहीं, सबको पाथेय  के रूप में गरमागरम पूरी सब्जी का पार्सल भी दिया गया. 

सिद्धार्थ जी स्वयं स्टेशन पहुँचाने आए थे. विदा का क्षण सत्य ही भावुकता का क्षण था!   
   

गुरुवार, 14 अक्तूबर 2010

'स्वतंत्र वार्ता' में वर्धा ब्लॉगर संगोष्ठी





ब्लॉगरों को अपनी लक्ष्‍मण रेखा खुद बनानी होगी - विभूति नारायण  राय

ब्लॉगिंग सबसे कम पाखंडवाली विधा है - आलोक धन्वा

आभासी  दुनिया भी वास्तविक दुनिया का विस्तार है - ऋषभ देव शर्मा






 वर्धा,11 अक्टूबर।

महात्मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हिंदी विश्‍वविद्‍यालय, वर्धा में हिंदी ब्लॉगिंग की आचार-संहिता’ विषयक दो दिवसीय राष्‍ट्रीय कार्यशाला एवं संगोष्‍ठी संपन्न हुई। समारोह का उद्‍घाटन विश्‍वविद्‍यालय के कुलपति विभूति नारायण राय ने 






हबीब तनवीर प्रेक्षागृह  में 
किया। आरंभ में सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी ने नए अभिव्यक्‍ति माध्यम के रूप में उभरी ब्लॉगिंग की विधा की अनंत संभावनाओं और उससे जुड़े खतरों की ओर इशारा करते हुए ब्लॉग लेखन के संबंध में  आचार-संहिता विषयक विचार-विमर्श की प्रासंगिकता पर प्रकाश डाला। 
 



तदुपरांत  स्वागत भाषण  में हिंदी विश्‍वविद्‍यालय के प्रतिकुलपति प्रो.अरविंदाक्षन ने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों में यूजीसी और मानव संसाधन विकास मंत्रालय के प्रतिनिधियों और अधिकारियों को भी आमंत्रित करना चाहिए, जिससे वे जान सकें कि यह विश्‍वविद्‍यालय केवल साहित्य और उत्सवधर्मिता का ही केंद्र नहीं है, बल्कि  हिंदी को तकनीक से भी जोड़ने को प्रयासरत है। जब उन्होंने कहा कि मैं आप सबका स्वागत हृदय की भाषा में कर रहा हूँ तो सभागार करतलध्वनि  से गूँज उठा.






उद्‍घाटन वक्‍तव्य देते हुए कुलपति विभूति नारायण  राय ने कहा कि इंटरनेट ने राष्‍ट्रों की बंदिशों को तोड़ा है। उन्होंने आगे कहा कि अभिव्यक्‍ति की स्वतंत्रता का जो उत्तर आधुनिक विस्फोट हुआ है, वह इंटरनेट से ही संभव हो सका है; लेकिन हम यहाँ दो  दिनों के लिए इसलिए भी उपस्थित हुए हैं कि हम इस बात पर बहस कर सकें कि इस माध्यम ने हमें एक खास तरह की स्वच्छंदता तो नहीं दे दी है! उन्होंने प्रश्‍न उठाया कि अपनी अभिव्यक्‍ति की स्वतंत्रता में कहीं हम यह तो नहीं भूल रहे हैं कि हम सारी सीमाएँ तोड़ रहे हैं और दूसरों की  भावनाओं को ठेस पहुँचा रहे हैं। राय का मानना था कि तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करना तथा निहित स्वार्थ की सिद्धि के किए ब्लॉग के माध्यम का दुरुपयोग करना चिंतनीय विषय  है। उन्होंने यह जोड़ा कि   किसी कानून द्वारा नियमित किए  जाने के बजाय हमें ऐसा लगता है कि  हर एक ब्लॉगर को अपनी लक्ष्‍मण-रेखा खुद बनानी होगी। वी.एन.राय ने आगे कहा कि एक समझदार और सभ्य समाज के लिए जरूरी है कि उसके नागरिक अपनी लक्ष्मण रेखा खुद खींचें  ताकि ऐसी स्थिति न आए कि राज्य को सेंसर लगाने की दिशा में  सोचना पड़े।

‘मधुमती’ की पूर्व संपादक  कथाकार  डॉ.अजित गुप्‍ता ने विषय प्रवर्तन करते हुए कहा कि ब्लॉगिंग त्वरित विचारों के त्वरित प्रस्तुतीकरण  की विधा है। उन्होंने राज्य की ओर से किसी आचार संहिता के लागू किए जाने की तुलना में ब्लॉगरों की पंचायत बनाने का सुझाव दिया जो आम नियंत्रण के सिद्धांत बना सकती है। उन्होंने हिंदी ब्लॉग जगत की कुछ बहसों के संदर्भ में कहा कि यदि मैं स्त्री संबंधी बात कहती हूँ तो यह ध्यान रखना होगा कि पुरुष भी इसे सुन रहे हैं। उन्होंने चिट्ठों का समग्र संकलन करनेवाले एग्रीग्रेटरों से अनुरोध किया कि वे अश्‍लील, खराब, बेनामी और भद्‍दी भाषा में लिखने वालों को समझाइश दें और उनको अनुशासित करें।













लंदन से आई हुईं  कवयित्री और लेखिका  डॉ. कविता वाचक्नवी ने आचार संहिता की आवश्यकता और उससे जुड़े तमाम मुद्‍दों पर विस्तृत चर्चा की और कहा कि चिट्‍ठाकारी रूपी माध्यम के विस्तार के साथ साथ शायद आनेवाले समय में आचार संहिता की आवश्यकताएँ बढ़ेंगी। उन्होंने यह भी कहा कि खराब से खराब व्यक्‍ति को अच्छी चीज का आधिपत्य दीजिए वह उसे खराब कर देगा, और अच्छे व्यक्‍ति को खराब से खराब चीज दे दीजिए वह उसे अच्छा कर देगा। डॉ.वाचक्नवी ने भी साफ तौर पर माना कि आचार संहिता को आरोपित नहीं किया जा सकता और सुझाव दिया कि आप यह कर सकते हैं कि अनाचार पर दंड का विधान कर दें। उन्होंने कहा कि वे ब्लॉगरों से संयम और उदात्तता की उम्मीद करती हैं ताकि स्वच्छंदता और अराजकता न फैले। सस्ती लोकप्रियता और निरंकुशता से बचने की सलाह देते हुए 
डॉ. 
कविता वाचक्नवी ने याद दिलाया कि हमारे लिए ब्लॉग  मनोविलास नहीं बल्कि अपनी भाषा, लिपि, साहित्य और संस्कृति को बचाने का युद्ध है. 


उद्‍घाटन सत्र में प्रख्यात कवि और संस्कृतकर्मी आलोक धन्वा ने भी ब्लॉगिंग के संबंध में अपने विचार 
प्रस्तुत किए। उन्होंने ब्लॉगिंग को विस्मयकारी विधा बताते हुए इस माध्यम को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने की वकालत की। आलोक धन्वा ने ब्लॉगिंग की तुलना रेल के चलन से करते हुए बताया कि शुरुआत में जैसे रेल यात्रा करने से लोग डरते थे लेकिन आज यह हमारी आवश्यकता बन गई है वैसे ही शायद अभी ब्लॉगिंग के शुरुआती दौर में इसके प्रति हिचक है लेकिन आने वाले समय में यह जन समुदाय की अभिव्यक्ति का माध्यम बन सकती है। आलोकधन्वा ने अपने वक्‍तव्य में आगे कहा कि हम आजकल सबसे कठिन दौर से गुजर रहे हैं। इतना कठिन समय, पहले कभी नहीं रहा; द्वितीय विश्‍व युद्ध और अन्य संकटों से भी अधिक कठिन समय के दौर से हम गुजर रहे हैं जिसमें लोकतंत्र के लिए बहुत कम जगह बची है। आचार संहिता की बात करते हुए उन्होंने कहा कि समय और समाज की नैतिकता ही अभिव्यक्‍ति की नैतिकता हो सकती है। दुनिया कैसे बेहतर बने, इस दिशा में प्रयास करने वाली आचार संहिता ही ब्लॉगिंग की आचार संहिता हो सकती है। उन्होंने इस बात पर संतोष जताया कि ब्लॉगिंग सबसे कम पाखंडवाली विधा है।


                      ‘चिट्ठा चर्चा’ के संचालक अनूप शुक्ल ने कहा कि ब्लॉगिंग की आचार संहिता की बात करना खामख्याली है क्योंकि समय और समाज की जो आचार संहिताएँ होंगी वे ही ब्लॉगिंग पर भी लागू होंगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि अलग से कोई आचार संहिता कम से कम ब्लॉगिंग पर लागू न हो सकेगी क्योंकि यह ऐसा माध्यम है जिसमें किसी भी अनुशासन को लाँघने की संभावना निहित है। ब्लॉगिंग को अद्‍भुत विधा बताते हुए अनूप शुक्ल ने कहा कि यह अकेला ऐसा माध्यम है जिसमें त्वरित दुतरफा संवाद संभव है। ब्लॉग एक तरह से रसोई गैस की तरह है जिस पर आप हर तरह का पकवान बना सकते हैं अर्थात साहित्य, लेखन, फोटो, वीडियो, आडियो हर तरह की विधा में इसमें अपने को अभिव्यक्‍त कर सकते हैं।








 'भड़ास मीडिया डॉट कॉम’ के यशवंत सिंह ने भी आचार संहिता की अवधारणा का विरोध किया और अनामी तथा बेनामी ब्लॉगरों के समर्थन में अपनी बात रखी। उन्होंने यहाँ तक कहा कि हमें आज आचार संहिता बनाने वालों की आचार संहिता पर विचार करना चाहिए। इस अवसर पर हिंदी विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के प्रो.अनिल कुमार राय ने कहा कि जहाँ आधुनिक संचार माध्यम समाप्‍त होते हैं वहाँ से नव माध्यम के रूप में ब्लॉग संचार की शुरुआत होती है जिसमें कोई संपादक नहीं होता अतः यदि पाठकों की टिप्पणियों को माडरेशन किया जाएगा तो वह एक संपादक की उपस्थिति के समान ही होगा। 

उद्‍घाटन समारोह की अध्यक्षता हैदराबाद से आए प्रो.ऋषभ देव शर्मा ने की। अध्यक्षीय भाषण देते हुए प्रो.शर्मा ने आचार संहिता, नैतिकता, बेनामी ब्लॉगर और संबंधित मसलों पर अपने विचार व्यक्‍त किए। बेनामी ब्लॉगरों के बारे में अपनी राय व्यक्‍त करते हुए उन्होंने कहा कि छद्‍म पहचान को ब्लॉग जगत में प्रोत्साहित करना पाखंड को प्रोत्साहित करने के समान है। उन्होंने बताया कि ब्लॉग जगत की आचार संहिता की जगह इंटरनेट की नैतिकता पर व्यापक परिप्रेक्ष्य में चर्चा होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि नैतिकता का स्वर्णिम सिद्धांत यह है कि जैसा व्यवहार हम दूसरों से चाहते हैं, हम भी वैसा ही व्यवहार दूसरों से करें। उन्होंने इंटरनेट की दुनिया को विशुद्ध आभासी दुनिया मानने से इनकार करते हुए कहा कि यह आभासी दुनिया वास्तव में वास्तविक दुनिया का विस्तार है। प्रो.शर्मा ने कहा कि मेरी चिंता का कारण बच्चे हैं जो झूठी पहचान बनाकर इंटरनेट और ब्लॉग के माध्यम से गलत आचरण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बेनामी बड़े बड़े काम करते होंगे, मैं उनका अभिनंदन करता हूँ, लेकिन इसे नियम नहीं बनाया जाना चाहिए क्योंकि पाखंड हर जगह निंदनीय है। ब्लॉगिंग कोई खिलवाड़ नहीं है, सामाजिक और नैतिक कर्म है। अतः जिस बात को सार्वजनिक रूप से नहीं कह सकते वह ब्लॉग पर भी कहने का हक हमें नहीं है। हममें यह हिम्मत होनी चाहिए कि जिसे हम सही समझते हैं उसे कह सकें। प्रो.शर्मा ने उदाहरण सहित बताया कि यदि कमेंट व्यक्‍तिगत आक्षेप, अश्‍लीलता और अनैतिकता वाले हों तो उन्हें हटाने का अधिकार होना चाहिए लेकिन स्वस्थ आलोचना को सम्मान मिलना चाहिए भले ही वह कटु हों। ब्लॉग को संवाद का माध्यम बनाया जाए, अखाड़ा नहीं। पारस्परिक शिष्टाचार जो हम अपने आम जीवन में बरतते हैं , उसे ब्लॉगजगत में भी अपनाना चाहिए । डॉ. शर्मा ने यह भी ध्यान दिलायाकि ब्लॉग को समाज सुधार और नैतिकता के अतिरिक्‍त बोझ से लादने के बजाय उसे अपने भीतर की उदात्तता का दर्पण बनाना आवश्‍यक है।



संचार विभाग के विभागाध्यक्ष  अनिल कुमार राय ने धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा - जहाँ  आधुनिक संचार माध्यम समाप्त होते हैं वहाँ  से इसकी शुरुआत होती है। यदि हम टिप्पणियों का  माडरेशन करने लगे तो फ़िर यह तो एक संपादक की उपस्थिति ही हुई।



देश भर से आए लगभग 25 ब्लॉगरों ने उद्‍घाटन सत्र के बाद चार समूहों में आचार संहिता के विविध आयामों पर अलग अलग गहन चर्चा की जिसके निष्‍कर्षों को दूसरे दिन परिचर्चा सत्र में प्रस्तुत किया गया। 







दूसरे दिन के प्रथम सत्र में  सर्वप्रथम  विश्वविद्यालय के सामूहिक ब्लॉग हिन्दी-विश्व का लोकार्पण कुलपति के हाथों संपन हुआ. उल्लेखनीय है कि उक्त ब्लॉग डॉ. कविता वाचक्नवी के निर्देशन और सहयोग से बनाया गया है  और प्रीति सागर को ब्लॉग का मोडरेटर नियुक्त किया गया है. उदयपुर से आई हुईं डॉ अजित गुप्ता के लघुकथा संग्रह का लोकार्पण भी कुलपति विभूतिनारायण राय के करकमलों द्वारा संपन्न हुआ.



परिचर्चा सत्र में ब्लॉगरों ने अपने विचार व्यक्‍त किए। शुरूआत सुरेश चिपलूणकर ने की और बताया कि दूसरे के ब्लॉग पर टिप्पणी करना सबसे अच्छा तरीका है ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँचने के लिए। उन्होंने तथ्यात्मक बातें लिखने और सामग्री स्रोत का लिंक देने पर जोर दिया. हर्षवर्धन त्रिपाठी ने कहा कि आप जो भी लिखें पूरी बात पक्की जानकारी से लिखें । उन्होंने विस्फोट, मोहल्ला, भड़ास, अर्थकाम. काम का उदाहरण देते हुए बताया इन ब्लॉगों को उद्यमिता के माडल के रूप में लिया जाना चाहिए। रवींद्र प्रभात ने शालीन भाषा के प्रयोग को सर्प्रथम आचार का दर्ज़ा दिया तथा सकारात्मक बने रहने के लाभ गिनवाए। अविनाश वाचस्पति ने कहा कि आचार संहिता की बात अगर न भी मानें तो मन की बात माननी चाहिए और ऐसी बातें करने से बचना चाहिए जिससे लोगों को बुरा लग सकता हो । प्रवीन पांडेय ने अतियों से बचने की सलाह दी और गायत्री शर्मा ने नामी ब्लॉगों का उदाहरण देते हुए ब्लॉग की सामाजिक उपयोगिता के बारे में अपनी बात कही। यशवंत सिंह ने माना कि हिंदी पट्टी को लोग अतियों में जीने के कारण या तो अराजक हो जाते हैं या फिर बेहद भावुक. उन्होंने गालियों और गप्पों के बजे तथ्यात्मक लेखन को पुष्ट करने की ज़रूरत बताई।



भोपाल के चर्चित ब्लॉगर रवि रतलामी ने ''इन्टरनेट के नवीनतम प्रयोग और "ब्लॉगिंग के आवश्यक पहलू'' विषय पर टेली कॉन्फ्रेसिंग के जरिये भी कार्यशाला को संबोधित किया और प्रतिभागियों के प्रश्नों के उत्तर दिए उल्लेखनीय है कि इस अवसर पर पंजीकृत पचास से अधिक प्रशिक्षुओं को कंप्यूटर पर हिंदी और यूनिकोड में काम करने तथा ब्लॉग बनाने का व्यावहारिक प्रशिक्षण संजय 
बेंगाणी
और शैलेश भारतवासी द्वारा  दिया गया। इसके अतिरिक्‍त प्रथम दिन की संध्या कवि सम्मेलन के नाम समर्पित रही जिसकी अध्‍यक्षता वरिष्‍ठ कवि आलोक धन्वा ने की तथा संचालन डॉ.कविता वाचक्नवी ने किया। दूसरे दिन की प्रातः बेला में सभी अतिथि ब्लॉगरों ने सेवाग्राम स्थित महात्मा गांधी की कुटी तथा विनोबा भावे के पवनार आश्रम का भ्रमण किया।















इस आयोजन का सर्वाधिक उपादेय पक्ष यह रहा कि साइबर-अपराध और तत्संबंधी कानूनों के मर्मज्ञ विद्वान (सुप्रीम कोर्ट) अधिवक्‍ता पवन दुग्गल ने विस्तार से इंटरनेट की संभावनाओं और सीमाओं के वैधानिक पक्ष पर प्रकाश डाला और चिट्ठाकारों की जिज्ञासाओं का समाधान किया। समापन सत्र में कुलपति विभूति नारायण राय के हाथों प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र दिए गए। पूरे समारोह का संयोजन आतंरिक संपरीक्षा अधिकारी सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी ने अत्यंत सुरुचिपूर्ण शैली में किया।








श्री राकेश, श्री राजकिशोर, श्री आलोक धन्वा, ऋषभदेव शर्मा, प्रो. प्रियंकर पालीवाल, डॉ.कविता वाचक्नवी, डॉ. अजित गुप्ता, श्री अनूप शुक्ल, डॉ.अशोक कुमार मिश्र, श्री रवीन्द्र प्रभात, प्रो. अनीता कुमार, श्री सुरेश चिपलूनकर, डॉ.महेश सिन्हा, श्री संजय बेंगाणी, श्री प्रवीण पाण्डेय, श्री अविनाश वाचस्पति, श्री जाकिर अली रजनीश, श्री हर्षवर्धन त्रिपाठी, श्री संजीत त्रिपाठी, श्रीमती रचना त्रिपाठी, श्री यशवंत सिंह, श्री विवेक सिंह, श्री जय कुमार झा, श्री शैलेश भारतवासी, श्री विनोद शुक्ला, सुश्री गायत्री शर्मा, श्री विषपायी, आदि की उपस्थिति ने कार्यक्रम को गरिमा प्रदान की. खचाखच भरे सभागार में अध्यापकों, विद्यार्थियों, विभिन्न विभागों के सहयोगियों, देश के अनेक भागों से अपने संस्थान द्वारा कार्यशाला में भाग लेने हेतु नियुक्त अनेक राजभाषा अधिकारियों/ अध्यापकों आदि की उपस्थिति  ने भी कार्यक्रम को  भव्य व सार्थक बनाया.

ब्लागिंग पर दो दिनी वर्कशाप के समापन सत्र के ठीक बाद सभी ने वीएन राय के साथ एक साथ खड़े होकर ग्रुप फोटो खिंचवाईं.




--By डॉ.कविता वाचक्नवी Dr.Kavita Vachaknavee to "हिन्दी भारत"