समर्थक

बुधवार, 31 मार्च 2010

स्त्री और उपभोक्ता संस्कृति - चर्चा : गुरुदयाल अग्रवाल

पिछली प्रविष्टि के क्रम में...

Dear Sharmaji
sadar “bandey”

I stress that the instinct of victimizing/exploiting the women is inborn in u. Right from the time immemorial we have been told that the women have to be “pati-varta” and that her man is her god. This culture is many many million years old – world-wide.

Perhaps, in the initial stages this culture was prompted either by law-of-nature or a man’s “jungle-paravarti”. As per the law-of nature, which does not distinguish between animals and men, the law is that the mightiest of the animal has the freedom to have unrestricted access to any female in the herd till such another one displaces him and becomes the lord of the herd and thereby all its females.

As the woman was always the weaker sex and the man being physically more stronger automatically became the superior sex. And since the female population was more than the man he had the liberty to have a number of women as his mates to be used at his pleasure. This prompted jealousy and competition between his women who all went out to enlist his better preference and they became conspirators against each other. (To my mind this is the origin of the scheming instinct in the women. Look at the sass-bahu relationships. But, this presently is not the subject)

Now the man was the Master and woman the slave and a commodity to be freely traded or presented to superior person from whom the man wanted some favor. The gambling of ‘Draupadi’ is indicative of the woman being a commodity

For millions of centuries the system of education or enlightenment was only verbal as there was no script and this was also confined to a particular class. The common man was uneducated and concerned about earning his livelihood and run his family. Naturally, therefore, there was no compassion or consenscious-ness in the minds of the man or the woman. The culture was established and lived in it. The women were mercilessly exploited and once they were tainted they were either done away with or expelled from their homes. This gave birth to increased exploitation, prostitution and forced prostitution.

World over we have lived this system for million of years and today we are slaves of the system and it is deeply ingrained in our blood

To talk of women’s liberation today is a total mockery or at least wishful thinking.

With the advancement of education, in the last century, in the west the women became more self reliant, conscious of their situation, and talked of women’s liberation. They also became economically independent but at every step they also had to compromise on their sensuality and sexuality in so much so that prostitution is now a legalized profession and free sex a way of life.

The talk of women’s liberation was only a meek whisper some 20 years back but with the rapid advances, opening up of TV and the IT sector as also global business partnership the young generation (only the educated ones and also the half educated) took to the new culture by storm and predominantly because it gave them economic independence. Today, they have no inhibition if this requires desired sacrifices. With them it is no more a taboo.

In the west a girl before reaching the age of puberty has already lost her virginity and it has started happening here also

Today, many socialites and learned people talk of women’s liberation but no body knows as to what type of liberation they are talking about. Is it:-

1.Economic independence only
2.Economic independence with social recognition, respect and equality
3.social recognition, respect and equality BUT within the norms of society where
the woman is still a one man’s woman.

Are we ready to allow the women to become economically independent and have relationships without effecting our family life. It is a fact that at least 90% women who go to work would have relationships willingly or under pressure/threat of circumstances.
Are we ready to live with a woman always suspecting her credentials and would still bed with her.

I think NOT. And at the same time I shall have no second thoughts if I get an opportunity to enter into a relationship outside the marriage.

Let us, therefore, do away with double standards and face the facts. The fact is that before we speak of women’s liberation let us convince ourselves that the women has a right on her morality. It is her choice to have relationships like the men. We have to accept the concept of sex by choice.

NOW coming to the point:
“that in case the women get together they can fight the system”
I do not think it is at all possible. The women can get together occasionally and raise their voice but they have to live individually. They have to go out alone on the road,
go to their work-place alone and always pray that they come back safely to their abode.
They always have to fear of exploitation and rape and no where to go. Even if they go to a police station the better chances are that they would be gang raped there. Courts are oblivious to their situation. Even the so many women’s organizations take only solitary cases out of thousands not because they want to get relief to the victimized women but because they are heavily paid by the TV channels who thrive on scandals or as they it “sansani”.

The fact remains that no corrective initiation can succeed unless the Government of the day wants it. Unfortunately none of our governments want the situation to improve as all of them are those gangsters who father this corruption besides doing everything else which brings them instant rewards.

Now where do we bark?

It is, therefore, essential that before we talk of any thing let us first bring good people in legislatures but it would take many many centuries and till that time let us wait with patience.

(I am not an organized thinker and may have repeated many things many times. I have, however, tried to narrate what I feel on the subject. Also I do not have Hindi software and do not know where to get it and hence obliged to reply in English)

With best regards

Sincerely – g.d.agarwala

------------------------
[आदरणीय गुरुदयाल जी,
मैंने आपकी भावनाओं को ध्यान से पढ़ा और उन्हें भी अपने ब्लॉग पर प्रकाशित कर दिया है.

मैं सदा आपके विचारों की क़द्र करता हूँ. लेकिन मुझे लगता है कि यहाँ आप कई सारे मुद्दों को गड्डमड्ड कर रहे हैं. जो बातें आपने कही हैं , उन सबकी चर्चा हम सब प्रायः किया ही करते हैं. लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि इस असुरक्षित जंगली दुनिया में स्त्री ने जो स्थान अपनी शिक्षा और आत्मनिर्भरता के बल पर बनाया है, उसे नकार दिया जाए. माना कि करने को बहुत कुछ शेष हैलेकिन इस पुरुषसत्तात्मक समाज को बदलने के लिए किसी को तो आगे आना होगा न. स्त्री को सचेतन होकर अपने वस्तूकरण का विरोध और प्रतिरोध करना ही चाहिए - यह मेरी दृढ मान्यता है.

आपका
ऋ.]

मंगलवार, 30 मार्च 2010

स्त्री और उपभोक्ता संस्कृति - चर्चा

पिछली प्रविष्टि के क्रम में...
...
Dr sahab, I know why you are writing ! I want to share with you an advise of a German writer to a new writer. Its totally new for me. The advisor says, " If you think you are capable of living without writing, do not write."

Yours
Abdul Hameed Khan, Mumbai
29 March 2010
...

आदरणीय ऋषभदेव जी
आपका सन्देश देखा. बहुत संक्षेप में आपने अपने लेख का आशय प्रस्तुत कर दिया है. संगोष्ठी में आपकी सक्रिय और सार्थक भागीदारी केलिए हम आपके आभारी है. आपकी प्रस्तुति धारदार थी और बावजूद कुछ असहमतियों के संगोष्ठी को आगे बढाने में सहायक रही. स्त्री और उपभोक्ता संस्कृति की सीमाओं और उसके व्यावहारिक पक्ष को आपने अपनी शैली में प्रस्तुत किया जो मेरी दृष्टि में महत्वपूर्ण है. खेद इस बात का रहा कि उस पर कोई चर्चा नहीं हुई और न ही अध्यक्ष महोदय ने कोई टिप्पणी की. मै बहुत जल्द एक रिपोर्ट बनाकर आपको भेजूँगा.

एम वेंकटेश्वर (प्रो. एम. वेंकटेश्वर, हैदराबाद)
...

बहुत-बहुत बधाई स्वीकारें .
बहुत अच्छा लगा कि आपने स्पष्ट किया कि स्त्री अपनी निरीहता (जितनी दिखाई जाती रही उतनी निरीह तो मुझे कभी नहीं लगी)से उबर कर सामाजिक क्षेत्र में सक्रिय-सचेत हो गई है .
वह रपट पढ़ने की उत्सुकता है .

सादर ,
प्रतिभा. (डॉ. प्रतिभा सक्सेना, यूएसए )

...

आदरणीय ,
बहुत सारी बधाइयां उम्दा जगह पर उच्च स्तरीय व्याख्यान के लिए. वेंकटेश जी तो वैसे भी निःस्वार्थ भाव से मित्र स्नेही हैं ही.
पूरा भाषण भी पोस्ट करेंगे तो अच्छा रहेगा. मेरे जैसे जो लोग जा नहीं सके कम से कम पढ़ तो लेंगे.

सादर,
आलोक (डॉ. आलोक पाण्डेय, हैदराबाद)
...

रिद्दे (ऋ.दे.) कहीं हो और धारा के खिलाफ नहीं तैरे, ये कैसे हो सकता है.

अतुल कनक. कोटा
...

प्रिय डॉ. ऋषभ देव, सस्नेह.
"स्त्री और उपभोक्ता-संस्कृति" विषयक संगोष्ठी में तुम्हारे द्वारा प्रस्तुत थीसिस से मैं सहमत हूँ. निश्चय ही आज स्त्री उपभोक्ता वस्तु नहीं रही है, बल्कि स्त्री तो आज उपभोक्तावाद को प्रभावित करने वाली प्रमुख इकाई बन गई है. प्रो. म. वेंकटेश्वर जी को मेरा नमस्कार कहें. कभी हैदराबाद आने का मन है ताकी ऋषभ देव की प्रगति अपनी आँखों से देख सकूं. 20 से 23 मार्च तक रांची में फादर डॉ. कामिल बुल्के की जन्मशतवार्षिकी के अवसर पर साहित्य अकादेमी, नई दिल्ली द्वारा आयोजित संगोष्ठी में गया था, बहुत सुन्दर रही.

स्नेहाशीष सहित,
डॉ. अरुण (डॉ. योगेन्द्र नाथ शर्मा 'अरुण', रुड़की)
...

With all due respects and apologies I would beg to differ. Agreed 'upbhogtavad' and upbhogta sanskriti' are two different things but that is not the subject. It is 'stree and upbhogta sanskriti'. When we talk of women we do not talk of a particular class or segment but for women all over the country. True in metros a few women may have attained a special status but these are exceptions and do not prove the rule. Day in and day out we do hear, read and witness exploiation, rape, gang rape of women and it has become a part of our day to day life. What do we do after reading all this. We blame the present culture and forget about this and wait to read the same again next day.

As a matter of fact we have inherited the culture of sexually exploiting and slaving the women. A fast look to various traits of 'Indra' would clinch the issue. It is the king of 'swarga' who has raped Ahilya and goes scot-free. Ahilya's husband ( I do not recollect his name pronto) who is supposed to know all past, present and future does not rebuke Indra but banishes Ahilya in a most unhuman manner which does not behove a 'siddh rishi' of his stature. It is the same Indra who deputes 'Urvashi' to entice Rishi Vishwamitra by prostituting. Even Lord Krishna had 16,000 ranis. And as devout Hindus we all read and recite these very stories with utmost reverance. Oh: What a creed we are?.

With this background which we carry in our heart of hearts, I think, none of us is qualified to talk on the subject unless it is for self propagation.

I do not know whether I am a rebel or sadist but I have expressed what I feel on the subject.

With best of regards,
sincerely - g.d. agarwala (गुरु दयाल अग्रवाल, हैदराबाद)
...

@ g.d. agarwala
आदरणीय अग्रवाल साहेब,
सादर नमन.
मुझे आपके विचार जानकर अच्छा लगा.
आपने तो एक प्रकार से मेरा समर्थन ही किया है क्योंकि आप कह रहे हैं कि स्त्री के प्रति जो भी अपराध हो रहे हैं उसके लिए भूमंडलीकरण और बाज़ार की आज की ताकतें भर ज़िम्मेदार नहीं है. ज़िम्मेदार वह भोगवाद है जो पुरुषसत्ता का अनिवार्य अंग है. मैं इसमें यह जोड़ना चाहता हूँ कि यदि स्त्री जागरूक और एकजुट होकर इस भोगवाद को चुनौती दे तो वह इसका प्रतिरोध करने की संस्कृति को मज़बूत कर सकती है. उपभोक्तावाद का प्रतिरोध कर सकने की ताकत अर्जित करने को मैंने उपभोक्ता संस्कृति के रूप में पारिभाषित करने की कोशिश की है.

मुझे संतोष है कि आप सरीखे कई वरिष्ठ मित्रों ने मेरी बात पर ध्यान दिया है. असहमत होना लोकतांत्रिक है,मुझे उस पर कोई आपत्ति क्यों होने लगी. मैं जानता हूँ कि मेरी बात न तो पूर्ण है न अंतिम. यह तो विमर्श का एक कोण है..बस.

सादर आपका
ऋषभ
...

सोमवार, 29 मार्च 2010

सांस्कृतिक कार्यक्रम : दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा

उच्च शिक्षा और शोध संस्थान में सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं वार्षिकोत्सव संपन्न
हैदराबाद, 29 मार्च।

दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, हैदराबाद केंद्र के तत्वावधान में एकदिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं वार्षिकोत्सव संपन्न हुआ जिसके अंतर्गत विभिन्न सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इस अवसर पर द्वारका प्रसाद मायछ एवं ज्योति नारायण विषेष अतिथि रहे। उच्च शिक्षा और शोध संस्थान की प्राध्यापक डॉ. बलविंदर कौर ने सबका स्वागत किया।
सांस्कृतिक कार्यक्रम के अंतर्गत चम्मच दौड़, कुर्सी दौड़, रंगोली, मेहंदी, पेंटिंग, नाटक, नृत्य, फैंसी ड्रेस और गुब्बारे में हवा भरना प्रतियोगिताएँ रखी गईं।
विभिन्न प्रतियोगिताओं के निर्णायक के रूप में द्वारका प्रसाद मायछ, ज्योति नारायण, ऋषभदेव शर्मा, डी.सी. प्रक्षाले, शमीला परवीन, मृत्युंजय सिंह, पी. श्रीनिवास राव, जी. नीरजा तथा भगवंत गौडर ने प्रतियोगियों की सर्जनात्मक प्रतिभा की सराहना की।
निधिकुमारी, आशा, स्वाति सुलभ, अजयकुमार, संध्यारानी, कंचन, वंदना, स्वप्नश्री, संगीता ओझा, पिंकी, हेमंता बिष्ट, सिस्ना सी.एस., अप्पलनायुडु, मोनिका देवी, जयप्रदा, कुतुबुद्दीन, वैभव भार्गव, राजकमला, पूला ममता आदि ने इन प्रतियोगिताओं में पुरस्कार प्राप्त किए।
इस अवसर पर आयोजित कविगोष्ठी में मृत्युंजय सिंह, द्वारका प्रसाद मायछ, ज्योति नारायण और ऋषभदेव शर्मा ने काव्य पाठ किया। अध्यक्ष के रूप में संबोधित करते हुए ऋषभदेव शर्मा ने भाषा, साहित्य और संस्कृति के संबंध पर प्रकाश डाला और दक्षिण भारत की गौरवशाली सांस्कृतिक परंपरा के प्रकाशन हेतु युवाओं का आह्वान किया।
कार्यक्रम का संयोजन रीडर साहिराबानू बोरगल तथा प्राध्यापक बलविंदर कौर ने सफलतापूर्वक किया।

रविवार, 28 मार्च 2010

इफ्लू : ''स्त्री और उपभोक्ता संस्कृति''

अंग्रेज़ी एवं विदेशी भाषा विश्वविद्यालय , हैदराबाद, में नए-नए खुले ''हिन्दी एवं भारत अध्ययन विभाग'' में २४-२५ मार्च २०१० को भाषा, साहित्य और संस्कृति के समकालीन परिदृश्य पर विचार-विमर्श के लिए द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित की गई. देश भर के दिग्गज विद्वान् पधारे. सचमुच उपयोगी, ज्ञानवर्धक और स्मरणीय चर्चाएँ हुईं.

विभागाध्यक्ष प्रो. एम. वेंकटेश्वर का अपुन पर सदा अहेतुक स्नेह रहा है. सो उनके बुलावे पर अपनेराम भी जा धमके ''संस्कृति'' विषयक सत्र में ''स्त्री और उपभोक्ता संस्कृति'' पर बोलने. बड़ा संकोच सा था. आखिर मंच पर अन्य वक्ताओं के रूप में प्रो. मैनेजर पांडेय और डॉ. जगदीश चतुर्वेदी व्यंग्य और आक्रमण की मुद्रा में गरज रहे थे. अध्यक्षासन पर हमारे समय के शीर्ष आलोचक श्रद्धेय प्रो.नामवर सिंह ऋषितुल्य साक्षीभाव लिए विराजमान थे.

अस्तु, वेंकटेश्वर जी के उकसावे पर हमने अपनी थीसिस धर ही दी कि उपभोक्तावाद और उपभोक्ता संस्कृति दो अलग-अलग चीज़ें हैं तथा स्त्री आज उपभोक्ता वस्तु और उपभोक्तावाद का शिकार नहीं रह गई है, बल्कि वह स्वयं एक ओर तो बाज़ार को प्रभावित करने वाली शक्ति के रूप में उभरी है तथा दूसरी ओर स्वयं उत्पादक एवं प्रबंधक की भूमिका में आ गई है. लेकिन मज़ा तो तब आया जब अध्यक्ष महोदय ने बड़ी सफाई से हमारे इस सारे पराक्रम को नकारते हुए इस विषय पर एक अक्षर तक बोलने से मना कर दिया.[चलो अच्छा हुआ, कम से कम चपत तो नहीं लगाई!]

पूरी रपट के लिए मैंने प्रो.एम.वेंकटेश्वर जी से निवेदन किया है. तब तक इतना ही सही.

बुधवार, 17 मार्च 2010

दक्खिनी हिंदी का सूफी साहित्य



दक्खिनी हिंदी के साहित्य सृजन की परंपरा को एक ओर कण्हप्पा, पुफ्फयंत, नामदेव, गोन्दा, एकनाथ और संत तुकाराम से जोड़ा जाता है (डॉ. श्रीराम शर्मा, दक्खिनी का गद्य और पद्य) तो दूसरी ओर इसकी विकास रेखा को दक्कन के मुस्लिम राज्यों के ऐसे कवि- लेखकों के साथ जोड़ा जाता है जो इस्लाम के अनुयायी थे (डॉ. बाबूराम सक्सेना, दक्खिनी हिंदी, पृ.सं. 32)। दक्खिनी को इस क्षेत्र में राजभाषा और धर्मभाषा का गौरव प्राप्त था। ‘
‘इसमें चौदहवीं शती से साहित्य-रचना आरंभ हुई, जो लगभग 350 वर्षों से कुछ अधिक समय तक अविरल रूप से चलती रही। दिल्ली के आस-पास तथा हरियाणा और पंजाब (पश्चिमी क्षेत्र) के नव-मुसलमान उत्तर भारत से जो लोक-साहित्य अपने साथ लाए थे, उसी के आधार पर इस्लामी सूफ़ी दर्शन और रहस्यवाद का रंग चढ़ाकर एक अभिनव साहित्य-शैली का प्रवर्तन किया गया और उस शैली में रचित साहित्य ही दक्खिनी हिंदी का साहित्य है।’’ (डॉ. परमानंद पांचाल, दक्खिनी हिंदी काव्य संचयन, पृ.सं. 65)।
ऐसा प्रतीत होता है कि ये दोनों धाराएँ संयुक्त रूप से दक्खिनी हिंदी के प्रवर्तन के लिए उत्तरदायी है, यही कारण है कि नामदेव (1270) और ख़्वाजा बंदा नवाज गेसू दराज़ (1312) की भाषा में पर्याप्त समानता दिखाई देती है। एक ओर जहाँ नामदेव आदि की रचनाओं की लिपि पुरानी देवनागरी है वहीं बंदा नवाज और शाह राजू जैसे सूफ़ी संतों की रचनाएँ फारसी लिपि में प्राप्त हुई हैं । इनसे प्रारंभ 350 वर्षों तक चली दक्खिनी भाषा की साहित्यिक परंपरा में सूफ़ी दर्शन की प्रवृत्ति अत्यंत प्रखर और मुखर है। डॉ. परमानंद पांचाल ने ‘दक्खिनी हिंदी काव्य संचयन’ (2008, साहित्य अकादेमी) की भूमिका में विस्तार से दक्खिनी हिंदी साहित्य के उद्भव और विकास पर प्रकाश डाला है जिसमें अनेक स्थलों पर इसकी प्रमुख प्रवृत्ति के रूप में सूफ़ी साहित्य को रेखांकित किया गया है। इस तथ्य की पुष्टि संचयन में संकलित रचनाओं से भी भली प्रकार होती है।

मूलतः दिल्लीवासी ख़्वाजा बंदा नवाज गेसू दराज़ (1312-1421) अपनी वृद्धावस्था में बहमनी शासक फिरोज शाह के समय में गुलबर्गा आए थे| स्मरणीय है कि
‘‘बहमनी शासन काल में सरकारी कार्यालयों की भाषा हिंदी (दक्खिनी) ही थी। सूफ़ी संतों को धर्म प्रचार की पूर्ण स्वतंत्रता थी। बहमनी युग में इन्हीं सूफ़ी संतों ने धर्म प्रचार के लिए दक्खिनी में रचनाएँ कीं।’’ (वही, पृ.सं. 72)।
बंदा नवाज़ की रचनाओं में मैराजुल आशकीन, हिदायतनामा, तिलावतुलवजूद, शिकारनामा और रिसाला सहबारह तथा दूरूल उल्लेखनीय है। इनमें धर्मोपदेश, तसव्वुफ और हदीस की शिक्षा पर जोर दिया गया है। मैराजुल आशकीन में तसव्वुफ और धर्म की परिभाषाएँ दी गई हैं। आशिकों की मेराज अर्थात भक्तों की सीढ़ी शीर्षक यह ग्रंथ गद्य रचना है और इसे दक्खिनी में तसव्वुफ की शिक्षा देने वाला पहला ग्रंथ कहा जा सकता है। यह बात ध्यान देने योग्य है कि जहाँ अन्य भाषाओं में इस काल की सूफ़ी रचनाएँ पद्यात्मक है वहीं दक्खिनी हिंदी का यह आरंभिक सूफ़ी ग्रंथ गद्यात्मक है। संभवतः इसका कारण यह रहा हो कि बंदा नवाज़ का उद्देश्य मनोरंजन अथवा रसास्वादन न होकर धार्मिक उपदेश करना था। इस सूफ़ी धर्मोपदेश का एक उदाहरण द्रष्टव्य है -
‘‘इंसान के बूजने कूं पाँच तन, हर एक तन कूं पाँच दरवाज़े हैं, हौर पाँच दरबान हैं। पैला तन बाजिबुलवजूद मोकम उसका शैतानी, नफूस उसका उम्मारा, याने वाजिब के आंक सूं गै़र देखना। सौ हिरन के कान सों गै़र न सुनना सों। हसद नक सों बदबूई न लेना सों। बुग्जके ज़बान सूं बदबुई न लेना सों, कीना के शहवत कूं गै़र जाका ख़र्चना, सो पीर तबीब कामिल होना। नबज पिछान कर दवा देना।’’ (मुहीउद्दीन क़ादरी ‘ज़ोर’, दकनी अदब की तारीख, पृ.सं. 12)।
अपनी प्रसिद्ध संक्षिप्त कविता चक्कीनामा में भी कवि ने धर्म और दर्शन की बारीकियों को प्रतीकों के माध्यम से व्यक्त किया है - देखो वाजिब तन की चक्की/पीऊ चातर हौके सक्की/सोकन इब्लिस खिंच-थक्की/के या बिस्मिल्ला हो अल्ला।

सुल्तान अहमद शाह तृतीय (1460-1462) के दरबारी कवि निजामी बीदरी की प्रसिद्ध मसनवी ‘क़दमराव व पदमराव’ को दक्खिनी हिंदी का आदि चरित काव्य माना जाता है (डॉ. वी.पी. मोहम्मद कुंजमेत्तर, आधुनिक हिंदी का स्रोत, पृ.सं. 13)। इन्होंने परंपरागत धार्मिक लोकगाथा को आधार बनाया और धर्म शिक्षा के साथ-साथ लोकरंजन के उद्देश्य को भी साधा। इन्हें दक्खिनी हिंदी को धर्म भाषा से आगे जनभाषा बनाने का श्रेय प्राप्त है -
के जो तूं बोले मुझे दुक्ख ना/जो बोल्या करे भाई मुझे सुक्ख ना।
सूफ़ी सिद्धांतों की व्याख्या करने वाले कवि के रूप में शाह मीरांजी शम्सुल अश्शाक़ (1408-1496) का नाम उल्लेखनीय है। खुशनामा, खुश नग्ज, बशारतुलल जिक्र, शिकारनामा, शहादतुल हक़ीक, मग्ज़े-मरगूबे तथा चहार शहादत इनकी मुख्य रचनाएँ हैं। बंदा नवाज़ के शिष्य शाह मीरां जी ने जनभाषा में सूफ़ी मत का प्रचार करके इतनी लोकप्रियता प्राप्त की थी कि उन्हें शम्सुल उश्शाक अर्थात प्रेमियों का सूर्य कहा जाने लगा।

सूफ़ी प्रेम की काव्यात्मक अभिव्यक्ति लुतफी की गज़लों में भी द्रष्टव्य है -
खिलवत में सजन के मैं मोम की बती हूँ/यक पाँव पर खड़ी हूँ जलने पिरत पती हूँ/सब निस घड़ी जलूँगी जागा सूँ न हिलूँगी/ना जल को क्या करूँगी अवल सूं मद मती हूँ।
दक्खिनी साहित्य का प्रारंभिक काल 1300 से 1490 ई. माना जाता है। अब तक जिन रचनाकारों की चर्चा की गई वे इसी काल के हैं। 1490 से 1687 ई. को दक्खिनी साहित्य का मध्यकाल कहा जाता है जो अत्यधिक महत्वपूर्ण है इसे दक्खिनी का स्वर्ण युग भी माना जा सकता है। इस काल की सूफ़ी रचनाओं में भक्ति और शृंगार का अद्भुत समन्वय पाया गया है। शाह अशरफ (1459-1529) ने अपनी प्रसिद्ध मसनवी नौसरहार (1504) में कर्बला की घटनाओं को आधार बनाया| इसमें नौ अध्याय हैं , कवि ने अपनी भाषा को हिंदवी कहा है -
ऩज्म लिखी सब मौजूंआन, यों सब हिंदवी कर आसान।
कवि ने कर्बला की मूल कथा में परिवर्तन भी किया है और अन्य कथाओं का समावेश करके इसे यजीद और हुसेन के संघर्ष के रूप में प्रस्तुत किया है जिसका कारण जैनब नामक सुंदरी है। ऐसा करके सूफ़ी साधना के सोपानों को कथा में समाविष्ट किया गया है। ईश्वर के संबंध में कवि का यह कथन द्रष्टव्य है -
ऐसा क़ादिर एक खुदा, पैदा कीते शाह व गदा/कोई अयाने कोई फ़क़ीर, कोई अखीर/ आपीं छिप्पा खेले छंद, तुर्कन हिंदून लाया दंद।
कहा जाता है कि शाह अशरफ बीहड़ वनों में रहते थे इसलिए इन्हें अशरफ बयाबानी के नाम से भी जाना जाता है।

बीजापुर के आदिल शाही वंश (1490-1686) के शासकों (नौ) के धर्मसहिष्णु, उदार, सुसंस्कृत, विद्या व्यसनी और कलाप्रेमी होने के कारण इस काल में दक्खिनी साहित्य खूब फला-फूला। इस काल में ईरानियों का प्रभाव कम होने के साथ देशी भाषा और संस्कृत का सम्मान बढ़ा। इब्राहीम आदिल शाह के काल में
‘‘दक्खिनी को राज्य की सरकारी भाषा बना दिया गया। इससे इस भाषा की जडे़ं इतनी सुदृढ़ हो गई थीं कि इनके उत्तराधिकारी अली आदिल शाह के भरसक प्रयत्नों के बावजूद फ़ारसी का चलन न हो सका।’’ (डॉ. परमानंद पांचाल, दक्खिनी हिंदी काव्य संचयन, पृ.सं. 80)।
शाह मीरां जी के पुत्र बुरहानुद्दीन ‘जानम’ (1544-1583) महान सूफ़ी कवि और धर्मोपदेशक थे| इनकी रचनाओं में इर्शादनामा, सुख सुहेला, वसीयतुल हादी, मुनफअतुल ईमान, हजतल बक, कुफ्रनामा, मुसाफिरत शेखांमियां, नुक्ते वाहिद, नसीमुल्कलाम, विशारतुल-जिकर, पंचगंज, दोहरे और खयाल, रमूजलवासलीन, कलमातुल हकायक, मजमुआतुल आशिया आदि के नाम शामिल हैं। इर्शादनामा में कवि ने तसव्वुफ के विषयों पर भली प्रकार प्रकाश डाला है। सुख-सुहेला में आत्मा और परमात्मा के आध्यात्मिक प्रेम की प्रशंसा की गई है। यह भी उल्लेखनीय है कि इन्होंने एक ओर हिंदू -मुस्लिम भेदभाव तथा धार्मिक पाखंड की आलोचना की है तथा दूसरी ओर प्रेम की महिमा में दोहरे और खयाल भी रचे है -
निस दिन जागे बिरह मारी/न नींदा देखा नैन पड़े/पलखे मेरी आग बेल क्यों/सपने देखूँ सोये खड़ें।
बुराहनुद्दीन जानम (1544-1583) की कुछ रचनाएँ सीधे-सीधे कबीर (1398-1518) की याद दिलाती हैं -
मसि कागद थे क्यों होवे ग्यान, पकड़ेगे कुछ ल्या ईमान/कोई बेस खिल्वत भूक मरे, कोई देसंतर लेय फिरे/ xxx/पढ़-पढ़ पंडित जनम गंवाया रहे सुन रीज/पुरान पुस्तक देख ढंढोले बसे निराला नीज/xxx/जाकिर होकर दम चलावे मनके लेकर हात/दिल के मनके फेर्यां नाहै तब लग ख़ाली बात।
मुहब्बतनामा, रम्जूस्सालकीन, रिसालागुफ्तारशाह जैसी कृतियों के रचनाकार अमीनुद्दीन अली आला (1508-1675) ने सूफ़ी साधना का विवेचन करते हुए कहा है कि - '
मज़हब हमारा सूफ़िया और मशरफ हमारा दीद है, तो दिल में आया कि बयान करूँ हर दो कोम के सूफ़ियाँ का दक्खिनी ज़बान सूं।'
इन्होंने सब धर्मों की समानता को तर्कपूर्वक स्थापित किया। यह जानकारी काफी रोचक है कि हिंदू धर्म विषयक शब्दों की एक पारिभाषिक शब्दावली भी इन्होंने बनाई जो इस प्रकार हैं -
ऋग्वेद = किताबे तौरते, ब्रह्मादिवेद = वजूद, अवस्था = हाल, यजुर्वेद = किताबे इंजील, सामवेद = किताबे जंबूर, अथर्ववेद = दाऊद पैगंबर, अंतरंगववेद = कुरान, अशुरदेव = मुहम्मद साहब आदि।
इसके उपरांत बहरी की प्रसिद्ध रचना मनलगन (1702) का उल्लेख किया जा सकता है जिसमें हिंदी भाषा में अनेक धार्मिक विषयों पर चर्चा की गई हैं -
हिंदी तो ज़ुबान च है हमारी/कहने न लग हमन को भारी।
इन्होंने अरबी शब्दों के स्थान पर प्रयुक्त हिंदी पर्यायों की एक सूची भी मनलगन के अंत में दी है।

सूफ़ी कवि शाह अबुल हसन कादरी की रचना सुखअंजन बहुत प्रसिद्ध है जिसमें आंखमिचौनी के खेल के माध्यम से सूफ़ी सिद्धांतों की व्याख्या की गई है -
खेल में ऐसा खेल होवे/पिया मिलन का मेल होवे। (डॉ. सैयदा जाफ़र, सुखअंजन, पृ.सं. 111)|
1508 से 1687 ई. का काल दक्कन में कुतुबशाही शासन का काल है। इस वंश के शासक (आठ) भी उदार, सहिष्णु तथा कलाप्रेमी थे तथा इस अवधि में भी दक्खिनी को राजभाषा का सम्मान प्राप्त था। सम्राट अकबर के समकालीन मोहम्मद कुली कुतुबशाह (1565-1611) दक्खिनी हिंदी के ऐसे पहले कवि माने जाते हैं जिन्होंने भारतीय जीवन में गहरे पैठकर कविताएँ रचीं।
‘‘इनके काव्य में व्यापक जन-जीवन का चित्रण है। इनकी कविताओं का लगभग 1800 पृष्ठों का एक बृहत् संग्रह कुलियात कुली कुतुबशह के नाम से प्रकाशित हुआ है। इन्हें दक्खिनी का हाफ़िज़ कहा जाता है। कुली के काव्य में भावों की भी विविधता और व्यापकता है। यदि एक ओर सूफ़ी संतों के रहस्यात्मक पारलौकिक प्रेम का चित्रण है तो दूसरी ओर इहलौकिक प्रेम का सतरंगी रंग इनकी भावभूमि में है।’’ (डॉ. परमानंद पांचाल, द.हि.का.स., पृ.सं. 91)।
यहाँ कुली कुतुबशाह की एक प्रसिद्ध ग़ज़ल द्रष्टव्य है -
पिया बाज प्याला पिया जाए ना/पिया बाज इक तिल जिया जाए ना/कहे थे पिया बिन सबूरी करूँ/कह्या जाए अम्मा किया जाए ना/नहीं इश्क जिस वह बड़ा कूढ़ है/कधीं उससे मिल बैसिया जाए ना/‘कुतुबशाह’ न दे मुँझ दिवाने कूँ पंद/दिवाने कूँ कुच पंद दिया जाए ना।
कुतुबशाही काल के महानतम कवि मुल्ला वजही गोस्वामी तुलसीदास के समकालीन थे। इन्होंने अपनी कृति कुतुबमुश्तरी (1600 ई.) में कुतुब (बादशाह कुतुबशाह) और मुश्तरी (भागमती) की प्रेमगाथा लिखी है जिसमें स्थान-स्थान पर प्रेम, विरह और ज्ञान को पारिभाषित किया गया है -
नको छांड़ साहब की ख़िदमत तू कर/के ख़िदमत ते होत है प्यार नफ़र।
उल्लेखनीय है कि
‘‘वजही ने 1635 ई. में सबरस नाम से एक महान गद्य-ग्रंथ की रचना की थी, जिसमें सूफ़ी साधना के गूढ़ विचार प्रतीकों के रूप में साहित्यिक सरसता के साथ प्रस्तुत किए गए हैं। सबरस दक्खिनी की सर्वोत्तम रचना मानी जाती है। वजही की इस रचना को हम तुकांत गद्य कह सकते हैं। स्वयं लेखक ने भी इसकी ओर संकेत करते हुए कहा है -
आज लग न कोई इस जहान में, हिंदोस्तान में हिंदी ज़बान में इस लताफत इस छंदों से नज़्म और नस्र मिलाकर, गुला कर नहीं बोल्या।
भाषावैज्ञानिक और साहित्यिक दोनों ही दृष्टियों से वजही के सबरस को दक्खिनी की अमर कृति कहा जा सकता है। इस पुस्तक में वर्णित कथा एक प्रकार का रूपक है, जो सूफ़ी विचारधारा पर आधारित है। इसमें बुद्धि और प्रेम का संघर्ष चलता है। कथा का आरंभ इस प्रकार से होता है, नक़ल-एक शहर था। शहर का नाउं सीस्तान, इस सीस्तान के बादशाह का नाउं अक़्ल, दीन व दुनिया का सारा काम उसतै चलता, इसके हुक्म बाज़ जर्रा कई नइँ हिलता। इसके फर्माए पर जिनो चले, हर दो जहाँ में हुए भले दुनिया में ख़ूब कहवाए, चार लोकों में इज्जित पाए। सबरस का महत्व आज भी कम नहीं हुआ है। यह महत्व केवल कथानक के कारण ही नहीं है, अपितु वजही की निजी शैली, अगाध पांडित्य और बहुज्ञता के कारण है। वजही ने सबरस में भी भारतीय उपमाओं और आख्यायिकाओं का उपयोग किया है - साहब वही च जिसे साहबी करना आई, नफ़र (सेवक) वही च जो कर जानना है नफराई। राम जैसा साहब आए तो हनुमंता जैसा नफ़र पैदा होए। दरिया होकर बैठे कोई तो वहाँ अपै गौहर पैदा होए।’’ (वही, पृ.सं. 93-94)।
इन्होंने अपनी गद्य रचना ताजुल हकायक में अख़लाक़ और तसव्वुफ का तर्कपूर्वक प्रतिपादन किया है जैसे -
‘‘अरे भाई गांडा था सो शकर हुआ। शकर थी सो अब्लूज हुई, अब्लूज था सो नबात हुई। यो जहू पकड़ते आई खुदाई। शकर का खानहारा, आग के खानहारे कूं क्या पहचाने। शरबत का सौदा देख्या सो ज़हर का सौदा क्या जाने।’’ (आले अहमद सरूर, अलीगढ़ तारीख़ अदब उर्दू, पृ.सं 379)।
सैफुलमलूक व बदीउज्जमाल, तूतीनामा और मैना सतवंती के रचनाकार गवासी ने अपनी कृतियों में अलिफ लैला, शुकसप्तति और लोककथाओं को आधार बनाया है। मैना सतवंती (1608) को भारतीय परंपरा का प्रेमाख्यानक कहा गया है तथा इसकी तुलना मौलाना दाऊद कृत चंदायन से की जाती है।

इसी क्रम में इब्नेनिशाती के प्रेमाख्यानक फूलबन की भी चर्चा की जा सकती है जिसमें केशव के काव्य की भाँति आलंकारिकता का आग्रह है। खास बात यह है कि इनके काव्य में जन कविता का मुहावरा पाया जाता है -
भिबूती ले अपस मूं को लगाई/पूनम का चांद बादल में छुपाई/बिरह के दर्द दुःख लूं पदमिनी वो/चली वनवास ले वैरागनी वो। (देवीसिंग चौहान , फूलबन, पृ.सं. 21)।
इनके अलावा मध्यकाल के प्रभावशाली सूफ़ी संत शाह राजू हुसैनी ने भी अपने काव्य में तसव्वुफ़ और इरफान पर प्रकाश डाला है - सुन री सुहागन सुन री सुन/यक-यक बोल चित धर सुन/कन सूए कैत पाकी कमान/खोलना कहना भेद बयान।

दक्खिनी साहित्य के इतिहास का उत्तर काल (1687-1840 ई.) एक प्रकार से कवियों के राज्याश्रय से वंचित होते जाने का काल है। परंतु क्योंकि दक्खिनी केवल राजदरबार तक ही सीमित नहीं थी बल्कि जनता में भी इसे व्यापक स्वीकृति प्राप्त थी, इसलिए साहित्य सृजन का प्रवाह राज्याश्रय हटने के साथ एकाएक रुक नहीं सका। हाँ, यह जरूर सच है कि औरंगजेब की बीजापुर और गोलकोंडा विजय के बाद इस प्रवाह का वेग क्रमशः धीमा पड़ता गया।

दक्खिनी के अंतिम और उर्दू के प्रथम कवि वली दक्खिनी (1668-1741) ने सूफ़ी प्रेम को अपने काव्य का विषय बनाया -
पिरत की जो कंठा पहने, उसे घर बार करना क्या/हुई जोगिन जो कोई पी की, उसे संसार करना क्या/जो पीवै नीर नैनां का उसे क्या काम पानी सो/जो भोजन दुःख का करते हैं उसे आधार करना क्या। (सैयद नूरुल हसन हाशमी, कुलियात वली, पृ.सं. 49)।
तिरुनामल (तिरुअण्णामलै, तमिलनाडु) के निवासी सूफ़ी संत शाहतुराब () ने दक्खिनी में ज़हुर कुल्ली, गंजुल असरार, गुलज़ारे वहदत, ग्यानसरूप, मसनबी महज़बीं-ओ-मुल्ला तथा मन समझावन की रचना की। मन समझावन में दार्शनिक विचारों को बहुत सहज ढंग से स्पष्ट किया गया है। जैसे ‘सृष्टि से पूर्व क्या था?’ इस प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा गया है -
न आकाश ना तेज़ ना पिरथवी जल/न था सूर चनदर, विरसपत न मंगल/न शंक शशि, बुध न वायु न बादल/न पाताल, नौखंड, ना डोगरा जल/गुरु जी कहो राम जी कां अर्थ तब/न था कुच यो मंडान सरपंच का जब।
अंततः हातिम कृत सूफ़ी आस्थाओं से अभिभूत आख्यानक किस्सा हुस्नोदिल का भी उल्लेख यहाँ आवश्यक है, जिसमें कवि ने
‘‘प्रेम एवं बुद्धि के संघर्ष को अच्छी तरह व्यक्त किया है। कहानी का कथानक वजही का सबरस है। सूफ़ियों की आस्था के अनुसार सौंदर्य और हृदय के मध्य एक पर्दा है। पर्दा हटते ही दोनों का मिलन होता है -
हुस्न होर दिल बीच था पर्दा हिजाब/दिल हुआ उसकूं मरातिब बेहिजाब।’’ (डॉ. परमानंद पांचाल, द.हि.का.सं., पृ.सं. 103)।
इस प्रकार स्पष्ट है कि दक्खिनी हिंदी में सूफ़ी काव्यसृजन की प्रवृत्ति असंदिग्ध रूप से समृद्ध है। हिंदी की सूफ़ी काव्य परंपरा का पाठ इसके बिना अधूरा समझा जाना चाहिए। आवश्यकता इस बात की है कि दक्खिनी कवियों की सूफ़ी रचनाओं का सावधानीपूर्वक लिप्यंतरण और पाठालोचन करके इन्हें देवनागरी लिपि में उपलब्ध कराया जाए तथा समग्र मूल्यांकन द्वारा हिंदी साहित्य में सम्मिलित करके पूर्वस्वीकृत सूफ़ी काव्यधारा में उचित स्थान पर प्रतिष्ठित किया जाए। हिंदी भाषा और साहित्य का जो यह प्रवाह मुख्यधारा से दूर छिटका हुआ अकेला पड़ा है, उसके योग से वह धारा और भी परिपुष्ट हो सकेगी। इसके अतिरिक्त दक्खिनी सूफ़ी साहित्य को अपनी मुख्यधारा में समाविष्ट करके हिंदी साहित्य अधिक धर्मनिरपेक्ष, अधिक लोकतांत्रिक, अधिक राष्ट्रीय और अधिक अखिलभारतीय होने का प्रमाण दे सकता है।



गुरुवार, 4 मार्च 2010

प्रेमचंद की कहानियों का मंचन


साठये महाविद्यालय [मुंबई] में आयोजित संगोष्ठी की पहली साँझ बड़ी मनोरंजक रही. प्रेमचंद की तीन कहानियों का मंचन देखने को मिला - 'सवा सेर गेहूँ', 'संपादक मोटेराम शास्त्री' और 'ईश्वरीय न्याय'.


यह जानकारी रोमांचकारी थी कि प्रेमचंद की कहानियों के दीवाने शौकिया कलाकारों के इस समूह ने पिछले २३५ हफ़्तों में उनकी २२२ कहानियों का मंचन कर लिया है. इनका लक्ष्य ३१ जुलाई २०१० तक २८० कहानियों के मंचन का है. इसके बाद लगातार हफ्ते भर के नाट्य समारोह में इन समस्त कहानियों को एक साथ मंचित करने की योजना है.

नमन!

मंगलवार, 2 मार्च 2010

सूफी काव्य का पुनर्मूल्यांकन



फरवरी के अंतिम सप्ताह में मुम्बई जाना हुआ. साठये महाविद्यालय में द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी थी ५ और ६ तारीख को.

संयोजक डॉ. प्रदीप कुमार सिंह मध्यकालीन कविता के प्रति समर्पित विद्वान् हैं. संत काव्य और कृष्ण काव्य के बाद इस वर्ष उन्होंने सूफी काव्य पर संगोष्ठी की. अगले वर्ष के लिए राम काव्य का संकल्प भी जताया.

दो दिन में कोई ६ विचार सत्र तो हुए ही होंगे.उद्घाटन-समापन अलग से.दूर-दूर से विद्वान्,शोधार्थी और छात्र आए थे. अच्छी आवभगत हुई. महाराष्ट्र में सदा अच्छी आवभगत होती भी है. खूब प्रेम से मिलते हैं वहाँ के छात्र, और मान देते हैं.

प्रो.दिलीप सिंह [चेन्नई], प्रो.हरमहेंद्र सिंह बेदी [अमृतसर],प्रो.योगेंद्र प्रताप सिंह[इलाहाबाद],प्रो.कमला प्रसाद[भोपाल],प्रो.आद्या प्रसाद [गोवा],प्रो.त्रिभुवन राय और प्रो.दशरथ सिंह[मुंबई] जैसे दिग्गजों के साथ डॉ.बजरंग तिवारी[दिल्ली],डॉ.सुखदेव सिंह[चंडीगढ़] और ऋषभदेव शर्मा [हैदराबाद] तो थे ही,महाराष्ट्र भर से मध्यकालीन काव्य के अनेक विशेषज्ञ भी आलेख,वक्तव्य,व्याख्यान,टिप्पणी और प्रश्नों के साथ मंच पर और सामने उपस्थित थे. कुछ पिष्टपेषण अवश्य हुआ लेकिन खूब सारी बातें पुनर्मूल्यांकनपरक भी हुईं. कुछ विद्वानों के मतभेद और अंतर्विरोध भी सामने आए. पर कुल मिलाकर इस बात पर सब राजी दिखे कि प्रेम की इस कविता को साम्प्रदायिक दृष्टि के बजाय मनुष्यता की दृष्टि से देखा जाना चाहिए. यह भी सभी ने माना कि यह पुनर्मूल्यांकन सभी भारतीय भाषाओँ के सन्दर्भ द्वारा ही परिपूर्णता प्राप्त कर सकता है और इस दृष्टि से इस संगोष्ठी को सफल माना जा सकता है.

एक पत्रिका भी इस अवसर पर आरम्भ की गई .

पर्चों का परिचय भी शोध-सार शीर्षक से प्रकाशित किया गया.

आयोजन के बाद मैं पूरी तरह डॉ. मृगेंद्र राय के डिस्पोसल पर था. सो जहाँ-जहाँ वे ले गए ,मैं चला गया.१९९२ से दोस्ती है उनसे. उन्हें मेरे ग्राम्य-भयों की भले से जानकारी है और यह भी मालूम है कि मैं जो खाता हूँ , प्रसन्न भाव से खाता हूँ. इसीलिए पहले तो उन्होंने अपनी पसंद के समोसे-जलेबी खिलाए और फिर हिदायत दी कि शुगर और बी पी चेक कराने में देरी न करूँ. शायद मेरी थकान को उन्होंने लक्षित कर लिया था. मैं क्या कहता,लापरवाही से हँस दिया. भला ऐसे दोस्त जिसके पास हों कि जो महानगरीय व्यस्तता को भूलकर घंटों आपका सूटकेस ढोते साथ रहें ,वह हँसेगा क्यों नहीं. खैर, दादर में एक शर्मा जी का मिष्ठान्न भंडार है,वहाँ कई वर्ष पहले डॉ.महेंद्र कार्तिकेय ले गए थे, हम लोग वहाँ भी गए और उन दिनों को याद करते हुए चाय पी. जानबूझकर मैंने वैभव कार्तिकेय को सूचना नहीं दी क्योंकि मैं नहीं चाहता था कि वे उतनी दूर से मिलने आएँ. पिछले साल ही की तो बात है जब मैं हिन्दुस्तानी सभा में ठहरा हुआ था तो स्वयं श्रीमती कार्तिकेय पुत्र और पुत्री के साथ मिलने आ गयी थीं;मैं बड़े संकोच में पड़ गया था. ऐसा अपनापन! इतनी सहज पारिवारिकता!! सच बताऊँ; मुझसे इतना स्नेह संभलता नहीं ,भावुक हो जाता हूँ.

डॉ.मृगेंद्र काफी देर स्टेशन पर भी मेरे साथ रहे. वहीं पुणे से पीयूष का फोन आया. मैं समझ गया कि शुभ समाचार है. हाँ,पीयूष की पत्नी मीनू ने उसी दिन पुत्र-रत्न को जन्म दिया था. पीयूष की आवाज़ से हर्ष छलक रहा था; और तभी ट्रेन आ पहुँचीं. डॉ.मृगेंद्र मुझे विधिवत ट्रेन में आसीन करने के बाद जब जाते हुए गले मिले तो गला भर आया था.

''चल खुसरो घर आपणे, रैन भई चहुँ देस!''